डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद है 'सदाबहार की पत्तियां', जानें इसके सेवन करने का तरीका

Updated at: Jun 16, 2020
डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद है 'सदाबहार की पत्तियां', जानें इसके सेवन करने का तरीका

अगर आप डायबिटीज के रोगी हैं तो सदाबहार की पत्तियों का इस तरह करें सेवन, लंबे समय तक खुद को रख सकेंगे स्वस्थ।

Vishal Singh
डायबिटीज़Written by: Vishal SinghPublished at: Sep 03, 2018

अनियमित खानपान और अनियमित जीवनशैली के कारण डायबिटीज (Diabetes) एक आम समस्या बन गई है, ज्यादातर लोग इस रोग का शिकार हैं। डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अक्सर अपनी जीवनशैली और खानपान के तरीकोंं को बदलना पड़ता है, तभी वो खुद को स्वस्थ रख पाते हैं। इसके साथ ही कई दवाईयों का सहारा लेना पड़ता है जिससे की उनका डायबिटीज कंट्रोल में रह सके। लेकिन शायद ही आपको पता हो कि दवाओं के अलावा सदाबहार की पत्तियां भी है जो डायबिटीज रोग के लिए फायदेमंद होती है। 

आपको बता दें कि सदाबहार का इस्तेमाल काफी समय से आयुर्वेद और चीनी दवाओं में किया जाता है और इसे मधुमेह (Diabetes), मलेरिया, गले में खराश और ल्यूकेमिया जैसी स्थितियों से बचने के लिए हर्बल उपचार के तौर पर किया जाता है। इसमें दो सक्रिय यौगिक होते हैं एल्कलॉइड और टैनिन। यह माना जाता है कि पौधे में करीब 100 से ज्यादा अल्कलॉइड हैं, जो कि बहुत ही फायदेमंद होते हैं। 

diabetes

सदाबहार क्या है?

सदाबहार का पौधा आसानी से भारत में कहीं भी मिल जाता है और इसे मेडागास्कर का मूल निवासी कहा जाता है। यह एक सदाबहार झाड़ी है जो सजावटी पौधे के रूप में और औषधीय प्रयोजनों के लिए काम करता है। इसके फूलों का रंग गुलाबी और सफेद होता है जो चिकनी, चमकदार होते हैं और इसकी पत्तियां गहरे हरे रंग की होती हैं जो टाइप -2 मधुमेह के लिए प्राकृतिक औषधि के रूप में काम करती है। सदाबहार की पत्तियों का इस्तेमाल डायबिटीज (Diabetes) के लिए खाने के रूप में किया जाता है, ये पूरी तरह से असरदार होता है और ब्लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोककर उसे कंट्रोल में रखता है। 

diabetes

मधुमेह के लिए सदाबहार का इस्तेमाल कैसे करें?

  • सदाबहार की ताजी हरी पत्तियों को सबसे पहले सुखाया जाता है, फिर इसे अच्छी तरह से पीस लें और एक एयर-टाइट कंटेनर में रख लें। रोजाना एक कप ताजे फलों के रस या पानी के साथ इस सूखे पत्तों के पाउडर का एक चम्मच सेवन करें। आपको इस पौधे की पत्तियों का पाउडर थोड़ा कड़वा जरूर लग सकता है।
  • पौधे की 3 से 4 पत्तियों से ज्यादा न लें और दिन में रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने के लिए उन्हें सिर्फ मुंह में रख कर चबाते रहें। 
  • सदाबहार पौधे के गुलाबी रंग के फूल लें और उन्हें एक कप पानी में उबालें। इसको उबलने के बाद आप पानी को छान लें और इसे रोजाना सुबह खाली पेट पीने की आदत डालें। इससे आपका डायबिटीज काफी हद तक कंट्रोल में रह सकता है। 

इसे भी पढ़ें: प्री-डायबिटीज का पता चलने पर लाइफस्टाइल में कौन से बदलाव जरूरी हैं ताकि न रहे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा?

सदाबाहर के अन्य फायदे

कैंसर के खतरे को करता है कम 

सदाबहार की पत्तियों में कैंसर (Cancer) से लड़ने वाले तत्व पाए जाते हैं, ये शरीर में कैंसर को बढ़ाने वाले सेल्स को खत्म करने का काम करते हैं और उन मरे हुए सेल्स को ठीक करने में मदद करते हैं। आपको बता दें कि सदाबहार की पत्तियों में दो एल्कलॉइड पाए जाते हैं, जो विन्क्रिस्टिन और विंब्लास्टिन नामक होते हैं। ये दोनों ही एल्कलॉइड कीमोथेरेपी के साथ दिये जाते हैं। इसके साथ ही अगर आप कैंसर (Cancer) से पीड़ित हैं तो आपको इनकी पत्तियों की चटनी बना कर देनी चाहिए। 

ब्लड प्रेशर को रखता है निंयत्रित

सदाबहार की पत्तियों में पाया जाने वाला अज्मलसिने नामक एल्कलॉइड आपके ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को कंट्रोल में रखता है। इसके साथ ही ये हाई ब्लडप्रेशर होने पर तुरंत उसे कम करने का काम करता है, नियमित रूप से इसकी पत्तियों को चबाने से आपका ब्लड शुगर हमेशा निंयत्रण में रह सकता है।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज होने के बावजूद सोनम कपूर कैसे रखती हैं अपनी फिटनेस का ख्याल?

खुजली से मिलती है राहत

सदाबहरा की पत्तियों का इस्तेमाल शरीर पर हो रही खुजली को भी दूर किया जा सकता है। इसके लिए आपको रोजाना इसकी पत्तियों से निकलने वाले दूध को अपने शरीर के खुजली वाले हिस्से पर लगाना चाहिए। कुछ ही दिनों में आपकी खुजली की समस्या दूर हो जाएगी। 

Read More Articles on Diabetes in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK