• shareIcon

Diabetes Diet: डायबिटीज पेशेंट के लिए फायदेमंद है ये 5 कुकिंग ऑयल, इससे ब्‍लड शुगर रहेगा कंट्रोल

डायबिटीज़ By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 29, 2019
Diabetes Diet: डायबिटीज पेशेंट के लिए फायदेमंद है ये 5 कुकिंग ऑयल, इससे ब्‍लड शुगर रहेगा कंट्रोल

डायबिटीज पेशेंट को अपने खानपान पर निगरानी रखना जरूरी होता है, क्‍योंकि इससे उनका ब्‍लड शुगर लेवल घटता और बढ़ता है। ऐसे में शुगर को कंट्रोल रखना एक बड़ी चुनौती है। यहां कुछ उपाय हैं, जिसे आप अपना सकते हैं।

खाना पकाने के लिए प्रयोग किया जाने वाला ऑयल 'कुकिंग ऑयल' कहलाता है। हमारे आहार में कुकिंग ऑयल की बड़ी भूमिका होती है। खासकर तब, जब आप हृदय रोग, ब्‍लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारियों से पीड़ित हों। यह आपके आहार का अच्‍छी तरह से प्रबंधन करता है। मार्केट में बहुत सी किस्में और मिश्रण के कुकिंग ऑयल उपलब्ध हैं, जिसको लेकर परेशान होना स्वाभाविक है। ऐसे में अगर हम एक्‍सपर्ट की बातों पर गौर करें तो कुछ हेल्‍दी कुकिंग ऑयल हैं जो आपके लिए बेहतर हो सकते हैं। 

सर्वोत्‍तम वसा गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए वनस्पति तेलों के संयोजन का उपयोग महत्वपूर्ण है। आप अलग-अलग भोजन के लिए मक्खन, घी, जैतून का तेल, सरसों का तेल, सोयाबीन, तिल या यहां तक कि मूंगफली के तेल का चुनाव करते हैं। आप रिफाइंड ऑयल के बजाय अनरिफाइंड (कच्ची घानी) या कोल्ड प्रेस्ड ऑयल पर अधिक निर्भर रह सकते हैं। 

जब डायबिटीज की बात आती है, तो अपने आहार पर नजर रखना महत्वपूर्ण है क्योंकि आप जो खाते हैं उससे आपका ब्‍लड शुगर लेवल आपके स्‍वास्‍थ्‍य को सीधे प्रभावित करते हैं। इससे आपको यह समझने में मदद मिलती है कि आपका कुकिंग ऑयल कितना अच्‍छा और स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक है। यहां हम आपको 5 ऐसे कुकिंग ऑयल के बारे में बता रहे हैं, जो आपके ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करेंगे।

cooking-oil

डायबिटीज पेशेंट के लिए कुकिंग ऑयल- Cooking Oils for Diabetics

1. कैनोला ऑयल

कैनोला ऑयल एक प्लांट-बेस्ड ऑयल है जो रेपसीड प्लांट से प्राप्त होता है। यह अल्फा-लिनोलेनिक एसिड में समृद्ध है जो ओमेगा-3 फैटी एसिड का एक प्रकार है, जो आपको अखरोट में भी मिलेगा। इसमें स्वस्थ मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड भी शामिल हैं जो एवोकाडो और जैतून में पाए जाते हैं। "टोरंटो विश्वविद्यालय के डॉक्‍टर डेविड जेनकिन्स द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि कैनोला ऑयल टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा के स्तर और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

2. जैतून का तेल 

जैतून का तेल एक हार्ट-फ्रेंडली ऑयल है जो डायबिटीज रोगियों के लिए भी अच्छा है। इसमें टाइरसोल नामक एक एंटीऑक्सिडेंट होता है जो इंसुलिन प्रतिरोध और डायबिटीज में सुधार के लिए चिकित्सीय एजेंट के रूप में कार्य कर सकता है। तेजपत्‍ते के सेवन से तुरंत कंट्रोल होता है ब्‍लड शुगर

3. अलसी का तेल

अलसी में एक प्रकार का फाइबर होता है, जो पाचन को धीमा कर सकता है। यह खाद्य पदार्थों से ग्लूकोज को पचाने और रक्त में धीरे-धीरे जारी करने की अनुमति देता है और ब्‍लड शुगर के स्तर में अचानक वृद्धि को रोकता है। इसलिए, flaxseed यानी अलसी के तेल का उपयोग मधुमेह रोगियों में इंसुलिन प्रतिरोध की घटनाओं को कम करने में मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोकने में मददगार है उच्‍च-फाइबरयुक्‍त ये सलाद, शुगर करता है कंट्रोल

4. अखरोट का तेल

अखरोट का तेल ट्राइग्लिसराइड्स में उच्च होता है जो हृदय के अनुकूल ओमेगा-3 फैटी एसिड और पॉलीअनसेचुरेटेड वसा हैं। यह डायबिटीज रोगियों में  इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाने में मदद करता है। हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि अखरोट के तेल की नियमित खपत महिलाओं में टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करने से जुड़ा हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: रोजाना की ये 6 अच्‍छी आदतें डायबिटीज से दिलाएंगी छुटकारा, हमेशा रहेंगे फिट

5. तिल का तेल

यह तेल विटामिन ई और अन्य एंटीऑक्सिडेंट जैसे लिग्नन से भरपूर होता है। इन दोनों का डायबिटीज रोगियों के लिए महत्वपूर्ण लाभ हैं। अमेरिकन जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित 2016 के एक अध्ययन से पता चलता है कि राइस ब्रान ऑयल और तिल के तेल का संयोजन टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल के लिए अच्छा हो सकता है।

डायबिटीज रोगी अपने ब्‍लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इन हेल्‍दी तेलों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, इनका सेवन अपने चिकित्‍सक की निगरानी में करें।

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK