Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

डार्क सर्कल ने कर दिया है परेशान, तो अपनाएं ये जबरदस्त नुस्खा

फैशन और सौंदर्य
By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 09, 2018
डार्क सर्कल ने कर दिया है परेशान, तो अपनाएं ये जबरदस्त नुस्खा

आंखों के नीचे काले घेरे चेहरे की ख़बसूरती को कम कर देते हैं। इसके कई कारणों से हो सकते हैं। जानें इस लेख से आंखों से नीचे काले घेरों के कारणों व उपचार के बारें में।

Quick Bites
  • अधिक देर तक कंप्यूटर पर काम करने से हो सकते हैं आंखओं के नीचे काले घेरे
  • महिलाओं में हीमोग्लोबिन का कम स्तर भी हो सकता है कारण 
  • चंदन व जैतून का तेल होता है लाभदायक 

आंखें न सिर्फ जीवन के लिए अनमोल हैं बल्की सुंदरता की दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लेकिन जब आंखो के नीचे काले धब्बे बन जाते हैं तो यह सुंदरता को बिगाड़ कर रख देते हैं। आंखों के नीचे काले घेरे होने के कई कारण हो सकते हैं। इस लेख के माध्यम से हम आपको आंखों के नीचे काले घेरे होने के कारण तथा इसके रोकथाम के तरीकों के बारे में बता रहे हैं। आंखों के नीचे पडे़ काले घेरे एक आम समस्या है। यह समस्या कई कारणों से हो सकती है जैसे शरीर में पोषक तत्वों की कमी होना, नींद न आना, मानसिक तनाव या फिर बहुत ज्यादा देर तक कंप्यूटर पर काम करने आदि से। आंखओं से नीचे काले घेरे हो जाने के कारण व्यक्ति थका हुआ और उम्रदराज नजर आता है, इसलिए यह जरूरी है कि आप इनसे छुटकारा पाने की तरीके जान लें।

आंखों के नीचे काले घेरे होने के कारण-

हीमोग्‍लोबिन की कमी 

जिन महिलाओं में हीमोग्‍लोबिन का स्‍तर 10 से कम होता है उनमें आंखों के नीचे काले घेरे होने की संभावना अधिक होती है। यदि हीमोग्लोबिन का स्तर दवा व आहार से नियंत्रित कर लिया जाए, तो काले घेरे की समस्या स्वयं चली जाती है।

कोलेजेन की कमी 

आंखों के नीचे की त्वचा काफी पतली व संवेदनशील होती है। उम्र के बढ़ने के साथ कोलेजेन के कम बनने के कारण कई बार त्वचा पतली होने लगती है और त्वचा की कसावट खो जाती है। त्वचा के इस तरह पतले हो जाने से आंखों के नीचे लालिमा लिये हुए नीली रक्त वाहिनियां दिखने लगती हैं। त्वचा के नीचे की रक्त वाहिनियां ही काले घेरे की वजह बनती हैं। 

इसे भी पढ़ें : खिसकी हुई नाभि को सही जगह पर लाना है, तो अपनाएं ये 4 आसान उपाय

पिगमेंटेशन के कारण 

पिगमेंटेशन की समस्या के कारण त्वचा टोन असमान बनाती हैं। और यह असमान रंगत आंखों के नीचे काले घेरों का कारण बनती हैं।

एलर्जी

एलर्जी के कारण भी समस्या हो सकती है। यह किसी सामग्री या खान-पान की चीज के प्रति रिएक्शन है जो आंख में खारिश पैदा करता है। और आंखों के आस-पास की त्वचा को रगड़ने या खरोंचने से भी डिस्कलरेशन हो जाता है। 

आनुवांशिक कारणों से

आनुवांशिकता कारणों से भी काले घेरे की समस्या हो सकती है। आंखों के नीचे काले घेरे जेनेटिक कारणों से भी हो सकती है जो पीढ़ी-दर-पीढ़ी परिवार में चलती रही हो। चूंकि त्वचा की पारदर्शिता के कारण रक्त वाहिनियां दिखती हैं इनमें होकर गुजरता रक्त इसे नीली आभा प्रदान करता है। अनेक मामलों में त्वचा की यह बनावट आनुवंशिक कारणों से होती है।

सन एक्‍सपोजन

कई बार यह समस्या सन एक्सपोजर के कारण हो जाती है। सन एक्सपोजर से मैलेनिन के बनने में बढ़ोत्तरी हो जाती है  जिससे आंखों के नीचे काले घेरे बन सकते हैं।

दवाएं के कारण 

कुछ दवाएं रक्त वाहिनियों को चौड़ा करती हैं जो डार्क सर्किल्स का कारण बनती हैं। ब्लड प्रेशर और नसल डिकंजेशन ड्रग्स इसके उदाहरण माने जा सकते हैं। 

आयरन की कमी 

एनीमिया त्वचा को निस्तेज बनाता है जिससे आपकी त्वचा के नीचे की रक्त वाहिनियां दिखने लगती हैं।

नींद की कमी  

आंखों के नीचे काले घेरे होने का एक बड़ा कारण नींद की कमी भी है। नींद न आने और डिहाईड्रेशन से त्वचा निस्तेज और शिकनयुक्त हो सकती है जिससे आपकी आंखों के नीचे की रक्त वाहिनियां डार्क डिस्कलरेशन के रूप में दिखने लगती हैं।

आंखों के नीचे काले घेरों का उपचार-

  • 1 टमाटर, 1 चम्‍मच नींबू का रस, चुटकी भर बेसन और हल्‍दी लेकर पेस्‍ट तैयार कर लें। अब इस गाढे पेस्‍ट को अपनी आंखों के चारों ओर लगाएं और 15 मिनट के बाद चेहरे को धो लें। ऐसा हफ्ते में 3 बार करें।
  • चंदन का तेल और जैतून का तेल मिलाकर आंखों के काले घेरों पर लगाने से कुछ ही दिनों में धीरे-धीरे डार्क सर्कल्स गायब होने लगते हैं। 
  • 50 ग्राम तुलसी के पत्ते, 50 ग्राम नीम और 50 ग्राम पुदीने को बारीक पीसकर उसमें थोड़ा हल्दी पावडर और गुलाब जल मिलाएं। अब इस लेप को डार्क सर्कल्स पर लगाएं। 
  • आंखों के काले घेरे को मिटाने के लिए कच्चे दूध में चुटकी भर नमक मिलाकर रूई की सहायता से आंखों के नीचे के काले घेरों पर लगाएं। कुछ ही दिनों में आपको फर्क महसूस होगा।
  • खीरे या आलू के रस से भी काले घेरे दूर होते हैं। इसके लिए खीरे या आलू में से किसी को भी लेकर क्रश करके आंखो के ऊपर रखें। कुछ देर तक आंखें बंद रखने के बाद डार्क एरिया पर इसे हल्के-हल्के से घुमाएं। इससे आंखों के आसपास का थुलथुलापन कम होगा साथ ही कालापन भी घटेगा।
  • इस्तेमाल किये गए ठंडे टी-बैग्स का उपयोग भी किया जा सकता है। टी-बैग्स में मौजूद तत्व टैनिन आंखों के आसपास की सूजन और डार्कनेस को कम करता है।
  • संतरे का रस और ग्‍लीसरीन को एक साथ मिला कर रोजाना आंखों और आस पास की जगह पर लगाएं। यह बहुत ही प्रभावशाली है और डार्क सर्कल से मुक्ती भी दिलाता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Written by
Rashmi Upadhyay
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 09, 2018

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK