जानें सिंहपर्णी सेहत के लिए कैसे है फायदेमंद? घर पर ऐसे बनाएं इसकी चाय

Updated at: Jan 15, 2021
जानें सिंहपर्णी सेहत के लिए कैसे है फायदेमंद? घर पर ऐसे बनाएं इसकी चाय

सिंहपर्णी के पौधे के अंदर लोहा, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम आदि भरपूर मात्रा में पाया जाता है। ऐसे में इसका सेवन सेहत के लिए बेहद अच्छा है।

Garima Garg
आयुर्वेदWritten by: Garima GargPublished at: Jan 15, 2021

सिंहपर्णी का पौधा अगर आपके गार्डन में है तो आप बहुत लकी हैं। पीले रंग का यह पौधा केवल बगीचे की सुंदर नहीं बनाता बल्कि ये स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छा है। बता दें किडनी की समस्या हो, पेट की समस्या हो, डायबिटीज हो या लीवर की समस्या, इन सबको दूर करे के लिए इस एक औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसकी जड़े, पत्ती और फूल के अंदर अत्यधिक पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। बता दें कि इसके अंदर भरपूर मात्रा में विटामिन ए, के, बी आदि मौजूद होते हैं. इसके अलावा यह लोहा, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम आदि से भरपूर है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बतांएंगे कि सिंहपर्णी का  उपयोग कैसे कर सकते हैं साथ ही इसे बनाने का तरीका, फायदे और नुकसान भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

सिंहपर्णी के फायदे (Dandelion Benefits)

1 - मूत्र संबंधी समस्या को करें दूर (Dandelion for Urinary Problems)

बता दें कि किडनी एवं मूत्र के रास्ते में उपस्थित विषाक्त पदार्थों को यह पौधा निकालने में बेहद मददगार है। साथ ही मूत्र संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी उपयोगी है इसकी जड़ों से बनी चाय का सेवन करने से किडनी स्वस्थ व स्वच्छ बनती है। इसके अलावा ये उन हानिकारक जीवाणुओं को भी निकालता है जो मूर्ति के रास्ते में विकसित हो रहे हैं। ऐसे में आप इसका सेवन दिन में बार चाय के रूप में कर सकते हैं।

2- मधुमेह के रोगियों के लिए अच्छा (Dandelion for Diabetes)

बता दें कि शुगर के रोगियों के लिए सिंहपर्णी की चाय बेहद अच्छी है। यह न केवल पैंक्रियास को उत्तेजित करता है बल्कि इंसुलिन के उत्पादन में मदद करता है। इसके सेवन से ब्लड शुगर का लेवल नियंत्रित रहता है। मधुमेह के रोगी किडनी और लीवर की समस्या से जल्दी चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में यह दोनों समस्याओं को नियंत्रित कर मधुमेह के रोगियों को बचाता है। लेकिन इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। क्योंकि कभी--कभी डॉक्टर कुछ ऐसी दवाइयां देते हैं जिनके साथ अगर सिंहपर्णी चाय का सेवन किया जाए तो इसका दुष्परिणाम देखने को मिलता है।

इसे भी पढ़ें- क्या संभव है फेफड़ों के कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज? एक्सपर्ट से जानें लंग्स कैंसर में कैसे मददगार है आयुर्वेद

3- वजन को घटाने में बेहद उपयोगी (Dandelion for weight loss)

ज्यादा वजन से परेशान लोग सिंहपर्णी की जड़ों का सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से मूत्र की मात्रा में बढ़ोतरी होती है, जिससे शरीर में उपस्थित तरल पदार्थ जो वजन बढ़ाते हैं वे मूत्र के माध्यम से बाहर आ जाते हैं। बता दें कि जिन लोगों को पानी संबंधित मोटापा होता है उनका कम हो जाता है। इसके अलावा यह भूख को नियंत्रित करता है। साथ ही कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित करता है। इससे कैलोरीज भी कम हो सकती हैं। ऐसे में आप दिन में दो बार इसकी चाय का सेवन कर सकते हैं। साथ ही सलाद में भी इसका प्रयोग कर सकते हैं।

4- रक्तचाप को कम करने में अच्छा (Dandelion for Blood Pressure)

बता दें कि यह मूत्र की मात्रा को बढ़ाता है और सोडियम को बाहर निकालता है। इसके सेवन से पोटेशियम की मात्रा को बिना कम किए सोडियम को बाहर निकाला जा सकता है। साथ ही ये रक्तचाप को कम करता है। उच्च रक्तचाप का कारण कोलेस्ट्रोल ही होता है। ऐसे में इसके अंदर फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसलिए यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करके रक्तचाप को कम करता है, जिसके कारण हृदय रोग का खतरा कम हो जाता है।

5- पाचन प्रणाली को अच्छा बनाए (Dandelion for Digestive System)

पाचन शक्ति में सुधार के लिए इसकी जड़े बेहद उपयोगी हैं। बता दें कि यह रोचक के रूप में काम करती हैं और पाचन शक्ति को बढ़ाती है। साथ ही इसके सेवन से भूख में सुधार आता है। अगर आपके पेट में हानिकारक कीटाणु हैं तो यह उनका नाश करती है। साथ ही अच्छे बैक्टीरिया की संख्या को बढ़ाती है क्योंकि इसके अंदर फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। ऐसे में कब्ज की समस्या भी दूर हो जाती है।

इसे भी पढ़ें- मेथी के तेल को लगाने या सेवन करने से ये 10 समस्याएं हो जाती हैं दूर, जानें इसके नुकसान भी

6- हड्डियों को बनाएं मजबूत (Dandelion for Bones)

इसकी जड़ों में एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता है जो हड्डियों को पोषण देता है। साथ ही ये हड्डियों के संक्रमण को दूर रखता है क्योंकि इसके अंदर भरपूर मात्रा में कैल्शियम भी पाया जाता है। इससे हड्डियों के विकास में मजबूती मिलती है। इसके अलावा सिंहपर्णी में विटामिन K मौजूद होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखता है। साथ ही ये हड्डियों को टूटने से भी बचाता है। एक बात और यदि आप इसकी चाय का सेवन करते हैं तो इससे न केवल हड्डियों को मजबूती मिलती है बल्कि ये दांत में लगे कीड़े को भी दूर करता है।

7- सूजन हो जाएगी दूर (Dandelion for Swelling)

बता दें कि शरीर में अगर सूजन या जलन की समस्या है तो सिंहपर्णी की चाय इस समस्या को दूर कर सकती है। साथ ही ये निचले हिस्से जैसे कि पैर की सूजन आदि को कम करने में भी बेहद असरदार है। इसके अंदर भरपूर मात्रा में पोटैशियम पाया जाता है जो शरीर में सोडियम के स्तर को कम कर सूजन और जलन में आराम पहुंचाता है। ऐसे में आप दिन में दो या तीन बार इसकी चाय पी सकते हैं। ध्यान रखें कि जिन लोगों को पिताश्य की समस्या है वे इसका सेवन बिल्कुल ना करें।

8- सुंदर त्वचा के लिए करें इस्तेमाल (Dandelion for good Skin)

इसके सेवन से त्वचा में आकर्षक रंग लाया जा सकता है। बता दें कि यदि इसकी टहनी को बीच में से तोड़ा जाए तो इसके अंदर दूधिया सफेद जैसा रस निकलता है जो त्वचा के लिए बहुमूल्य है। इस रस का उपयोग अगर त्वचा पर किया जाए तो त्वचा में खुजली और जलन की समस्या दूर हो जाएगी। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि इसका रस आंखों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। ऐसे में बेहद सावधानी के साथ इस रस का प्रयोग करें। इसके लिए आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं।

9- लिवर की दवा है यह पौधा (Dandelion for Liver)

लिवर के स्वास्थ्य के लिए है यह एक बहुत अच्छी औषधि है। इसके सेवन से न केवल लिवर के कार्य में उत्तेजना आती है बल्कि ये लीवर के विकारों को दूर करने में भी प्रभावकारी है। ऐसे में अगर आप चाय पीते हैं तो लिवर की सेहत में सुधार आता है।

चाय बनाने के तरीके- (How to Make Dandelion Tea)

दो कप पानी में सिंगपर्णी की जड़ डालें और 5 से 10 मिनट के लिए गैस पर उबालें। इसे छानकर 2 या 3 बार रोज पिएं। 

सिंहपर्णी के नुकसान- (Dandelion Side Effects)

1 - 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चे इशका सेवन न करें। 

2 - गर्भावस्था में इसका सेवन न करें। 

3 - ज्यादा लंबे समय तक इस चाय का सेवन न करें। 

4 - इससे एलर्जी होने पर इसका सेवन जारी न रखें। 

5 - पेप्टिक अल्सर से पीड़ित लोग इसका सेवन न करें। 

6 - इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। 

Read More Articles on Ayurveda in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK