24 घंटे में बढ़े कोरोना वायरस के 9,983 मरीज, भारत में सितंबर तक कोरोना वायरस का कहर खत्म होने का अनुमान

Updated at: Jun 08, 2020
24 घंटे में बढ़े कोरोना वायरस के 9,983 मरीज, भारत में सितंबर तक कोरोना वायरस का कहर खत्म होने का अनुमान

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोरोना वायरस का कहर सितंबर तक खत्म होने का अनुमान है। आज 9,983 नए मरीज सामने आए हैं और 206 लोगों की मौत हुई है।

Anurag Anubhav
लेटेस्टWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 08, 2020

भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सोमवार 8 जून को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार देश में 24 घंटे में 9,983 मामले बढ़े हैं। इसके अलावा इस वायरस के कारण पिछले 24 घंटे में 206 लोगों की मौत भी हुई है। नए आंकड़ों के अनुसार भारत में अब कुल संक्रमितों की संख्या 2,56,611 पहुंच गई है और मरने वालों का आंकड़ा 7135 तक पहुंच गया है। अच्छी खबर ये है कि देश में कोरोना वायरस के लगभग आधे मरीज ठीक हो चुके हैं। अब तक 1,24,095 मरीजों को ठीक किया जा चुका है। यानी अब देश में कुल 1,25,381 एक्टिव मरीज मौजूद हैं।

coronavirus active

दुनियाभर में 70 लाख मरीजों का आंकड़ा पार, भारत अब 6वें नंबर पर

दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण 70 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख 60 हजार से ज्यादा हो चुका है। हालांकि अब तक 34 लाख से ज्यादा मरीजों को ठीक किया जा चुका है। कुल संक्रमित मरीजों की संख्या के मामले में भारत अब दुनिया में 6वें नंबर पर है। लेकिन जनसंख्या और संक्रमितों की संख्या में सुधार के अनुसार देखें तो भारत की स्थिति अन्य देशों की अपेक्षा बहुत अच्छी है।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 बन सकती है हर साल लौटने वाली सीजनल बीमारी, सर्दियों में बढ़ सकता है ज्यादा खतरा: रिसर्च

भारत में सितंबर तक खत्म होगा कोरोना वायरस का कहर

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार भारत में कोरोना वायरस से फैली महामारी के सितंबर मध्य तक खत्म होने की संभावना है। इसका मतलब है कि अगले 3 महीने तक कोरोना वायरस का खतरा बना हुआ है और प्रत्येक व्यक्ति को सावधानी बरतने की जरूरत है। स्वास्थ्य मंत्रालय के दो पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट्स ने एक गणितीय मॉडल के आधार पर अध्ययन किया और बताया है कि भारत में कोरोना वायरस सितंबर मध्य तक खत्म हो सकता है। स्वास्थ्य मंत्रालय के दो अधिकारियों DGHS के डिप्टी जनरल (पब्लिक हेल्थ) डॉ. अनिल कुमार और DGHS की असिस्टेंट डायरेक्टर (लैप्रोसी) रुपाली रॉय ने ये अध्ययन किया है। इस विश्लेषण को Epidemiology Internationa नामक जर्नल में छापा गया है। ये अध्ययन बैले के गणितीय मॉडल पर आधारित बताया जा रहा है।

coronavirus scan

सितंबर तक 100% एक्टिव मरीजों को ठीक कर लिया जाएगा

दुनिया ने अब तक कई महामारियां देखी हैं। डॉ. अनिल कुमार के अनुसार तेजी से फैलने वाली संक्रामक बीमारियों की भविष्यवाणी में बैले का मॉडल सहायक है। उन्होंने बताया कि भारत में मौजूदा आंकड़े देखें तो कोरोना वायरस से प्रभावित होने वाले कुल मरीजों में से आधे मामले अब एक्टिव हैं और लगभग आधे ठीक हो चुके हैं या मर चुके हैं। ठीक होने वाले मरीजों का प्रतिशत रोजाना बढ़ रहा है। इस आधार पर देखें तो भारत में सितंबर के मध्य तक सभी एक्टिव मामलों को ठीक कर लिया जाएगा और महामारी का फैलना रुक जाएगा।

इसे भी पढ़ें: आयुष विभाग का दावा, 7 चीजों से बने खास आयुर्वेदिक काढ़े से कोरोना को रोकने में सफलता, 90 लोगों पर दिखा असर

कैसे किया गया है दावा?

अगर आप शुरुआत से आंकड़ों को देखें तो भारत में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या पहले की अपेक्षा बढ़ती जा रही है। पहले जहां 10-15 प्रतिशत मरीज रिकवर हुए थे और 85% मरीज एक्टिव थे, वहीं ताजा आंकड़ों के अनुसार 51% मरीज एक्टिव हैं और 49% मरीजों को ठीक किया जा चुका है। इसका अर्थ है कि जिस तेजी से वायरस फैल रहा है, उससे कहीं ज्यादा तेजी से मरीज ठीक हो रहे हैं। इस बीच लगभग 2.5% मरीजों की दुखद मृत्यु भी हो रही है। मगर स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार ठीक होने वाले मरीजों की गति के अनुसार भारत में सितंबर के मध्य तक सभी एक्टिव मरीज ठीक हो जाएंगे। इसके बाद कुछ-एक मामले थोड़े दिनों तक आते रहेंगे, लेकिन वायरस का प्रसार लगभग रुक जाने की संभावना है।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK