आखिर क्यों कोरोना वायरस कर रहा है बॉडी के खास अंगो पर ही हमला ! जानें एक्सपर्ट की राय और बरतें सावधानियां

Updated at: Aug 13, 2020
आखिर क्यों कोरोना वायरस कर रहा है बॉडी के खास अंगो पर ही हमला ! जानें एक्सपर्ट की राय और बरतें सावधानियां

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि कोरोनावायरस इंसान के कुछ विशेष अंगों पर हमला कर रहा है। लेख में जानिए क्यों है ऐसा। 

 

सम्‍पादकीय विभाग
लेटेस्टWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Aug 13, 2020

पिछले 8 से भी अधिक महीने से नोवल कोरोना वायरस का कहर बनकर पुरी दुनिया पर टुटी हुई। अबतक इस वायरस से पुरे दुनिया में 2 करोड़ से भी अधिक लोग संक्रमित हो चुके है। और 7 लाख से भी अधिक लोगों की जान अभी तक इस वायरस के कारण जा चुकी हैं। राहत की बात यह है कि अबतक इस वायरस को 1.22 करोड़ लोगो ने मात दी है और इसपर फतह बनायी है। वहीं अगर बात भारत की करें तो अबतक ये जानलेवा वायरस 23 लाख से भी अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है और इसके कारण 46 हजार से भी अधिक लोगों की जान जा चुकीं है। 

corona

इंसान के खास अंगों पर हमला करता है वायरस

भारत के लिए सुकून की बात यह है कि अबतक इस वायरस को 16 लाख से भी अधिक देशवासीयों ने हराकर इस पर विजय प्राप्त की है। सार्स सीओवी-2 के हालिया अध्ययन में ये बताया गया है कि यह वायरस इंसान के शरीर को किसी खास- खास अंगो हमला करता है। आज हम आपको अपने इस अध्ययन में बताएंगे क्या विशेषज्ञों का कहना।

इसे भी पढ़ेंः  कोविड-19 से कोई गंभीर बीमार तो कोई बिना दवा ही हो रहा है ठीक, वैज्ञानिकों ने बताया क्या है इसका कारण

क्या कहते है विशेषज्ञ

स्पेन के ज़ारागोज़ा और एजेंसिया अरागोनसिया पैरा ला अनुसंधान फाउंडेशन के शोधकर्ता अर्नेस्टो एस्ट्राडा ने बताया कि “शरीर पर हमला करने के लिए  पैथोजन में मौजूद प्रोटीन को शरीर में प्रोटीन के साथ इंटरैक्ट करने की आवश्यकता होती है”। उन्होंने ये भी बताया कि हम यहां विवादास्पद प्रक्रियाओं पर विचार करते हैं जो कि वैकल्पिक मार्ग के रूप में SARS-CoV-2 परस्पर क्रिया द्वारा टारगेट करते है। 

health

अध्ययन में यह भी पाया गया है कि, पीपीआई(PPI) नेटवर्क के माध्यम से वायरस के प्रसार की अनुमति मिलती है।  

इसे भी पढ़ेंः क्या कोरोना से ठीक होकर मरीज स्वस्थ महसूस कर रहे हैं? लंबे समय में कोरोना वायरस के क्या प्रभाव हो सकते हैं?

अंगों की विफलता का कारण बन सकता है कोविड

अध्ययन में कहा गया है कि दो प्रोटीनों को एक दूसरे के साथ मेल-मिलाप करने के लिए प्रारंभिक अवस्था में फैलाव की आवश्यकता होती है। शोधकर्ता ने बताया कि इन दवाओं में से कुछ को मौजूदा दवाओं के साथ फेफड़ों में निर्दिष्ट करने से फेफड़ों के अलावा अन्य अंगों में मौजूद प्रोटीन की गड़बड़ी को रोका जा सकता है, इससे इस वायरस के अटैक में बहु-अंग विफलता से बचा सकता है, जो कई मामलों में रोगी की मृत्यु का कारण बनता है।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK