• shareIcon

रास्ते पर चलते वक्त भूल कर भी न करें ये 5 गलतियां, हो सकती हैं जानलेवा

विविध By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 05, 2019
रास्ते पर चलते वक्त भूल कर भी न करें ये 5 गलतियां, हो सकती हैं जानलेवा

सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक हम न जाने कितना चलते हैं। घर के दरवाजे से बाहर निकलना हो या मेट्रो के लिए रिक्शा पकड़ना या फिर भागते हुए बस को पकड़ना हम दौड़-भाग में अक्सर कुछ ऐसी चीजें भूल जाया करते हैं, जो हमारे लिए काफी घातक होती हैं। 

सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक हम न जाने कितना चलते हैं। चाहें वह घर के दरवाजे से बाहर निकलना हो या मेट्रो के लिए रिक्शा पकड़ना या फिर भागते हुए बस को पकड़ना हम दौड़-भाग में अक्सर कुछ ऐसी चीजें भूल जाया करते हैं, जो हमारे लिए काफी घातक होती हैं। अक्सर ये छोटी-छोटी हम दर्द मिलने पर और दर्द देती हैं। दरअसल इसकी शुरुआत हमारे जूते पहनने से होती और उसके बाद दूसरी चीजें आती हैं। अगर आप इस उधेड़बुन में हैं कि हम चलते वक्त ऐसी कौन सी गलतियां करते हैं तो हम आपको ऐसी 5 सामान्य गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपके लिए ध्यान न देने पर घातक साबित हो सकती है।

जूते का फिट न आना (Poor Fit Of Shoe)

अगर आपके जूते ढीले हैं तो आपको ये वह सपोर्ट नहीं दे पाएंगे, जिसकी आपकी जरूरत है। बेहद टाइट जूते आपकी उंगलियों को आपस में रगड़ेंगे, जिससे आपकी पैर में गांठ भी बन सकती है। स्टोर से जूते खरीदते वक्त आपको सहज महसूस होना चाहिए क्योंकि इससे आपके पैर की उंगलियों में दिक्कत हो सकती है और आपको चलने व दौड़ने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको जूते खरीदने हैं तो आप ऐसा दोपहर में करें क्योंकि उस वक्तआपके पैर थोड़े सूजे हुए होते हैं, जिससे आपको अपना सही आकार का एहसास होता है।

एक रास्ते पर लगातार चलना (Stuck in a Rut)

अगर आप रोजाना एक ही रूट पर चलते हैं तो आप उससे ऊब जाते हैं और कुछ रास्तों पर आपको इंटरनेट की भी दिक्कत मिलेगी। चलने को मजेदार बनाने के लिए आप इसमें नियमित रूप से बदलाव करते रहें। यह न केवल आपके मूड और प्रेरणा के लिए अच्छा है बल्कि यह आपकी मांसपेशियों और जोड़ों के लिए भी फायदेमंद है। अपने रूट में पहाड़ियों को शामिल करें। यह आपकी इंटेंसिटी और जांघ, हैमस्ट्रिंग व ग्लूट मांसपेशियों को मजबूत कर सकता है।

इसे भी पढ़ेंः  जरा सी चोट को गंभीर बना सकती है खून पतला करने वाली दवा, इन 5 आसान तरीकों से लें ये दवा

ज्यादा आवाज में गाना न सूनें (Tuned low volume)

रास्ते पर चलते वक्त तेज आवाज में गाने सुनना आपके लिए घातक साबित हो सकता है। अगर आप चलते वक्त भी गाने सुनना पसंद करते हैं तो घर से बाहर निकलने के बाद अपने फोन या आईपॉड की आवाज धीमी कर दे ताकि आप दूसरी आवाजों को पर्याप्त रूप से सुन पाएं। तेज रफ्तार बस, हार्न बजाती कार, कुत्ते का भौंकना और एंबुलेंस का साइरन सुनना आपके लिए बेहद जरूरी है क्योंकि कई सड़क दुर्घटनाओं में तेज आवाज में गाना सुनना अहम भूमिका अदा करता है।

मोबाइल पर देखते हुए न चलें (Dont Staring at Your Screen)

चलते वक्त अपने फोन पर चिपके रहना आपके लिए संकट के बादल खड़े कर सकता है। आप गड्ढे या फिर वाहनों की भीड़ में घुस सकते हैं। ऐसा बहुत बार होता है। 2004 के बाद से फोन पर देखते हुए चलने की घटनाएं दोगुनी हुई हैं और इसमें शिकार होने वाले 60 फीसदी वह लोग हैं, जो चलते हुए फोन की स्क्रीन पर देखते रहते हैं। अगर आपके लिए फोन पर बात करना इतना ही जरूरी है तो पहले बात करिए या और फिर चलिए।

इसे भी पढ़ेंः कोई भी दवा खरीदने से पहले जान लें ये 5 बातें, जरा सी गलती ले सकती है जान

ज्यादा चुस्त कपड़े न पहनें (Wardrobe Malfunction)

ज्यादा चुस्त और भारी कपड़े पहनना आपको असहज बना सकते हैं। कपड़े ढीले, सहज और सांस लेने योग्य होने चाहिए ताकि आप आसानी से चल सकें और पसीना आने पर वह आपके शरीर से चिपके नहीं।  गर्मी लगने पर आप कपड़े को थोड़ा खींचकर हटा सकते हैं और ठंडा होने पर उन्हें वापस छोड़ सकते हैं। अगर आपको मौसम ख़राब लग रहा है तो रेन कोट जैसी चीजों का प्रयोग करें और आपको धूप से बचने के लिए टोपी, धूप का चश्मा और सनस्क्रीन न भूलें ।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK