• shareIcon

लगातार तनाव में रहते हैं तो हो जाइए सावधान, दस्तक दे सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

अन्य़ बीमारियां By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 20, 2019
 लगातार तनाव में रहते हैं तो हो जाइए सावधान, दस्तक दे सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

थकान, नींद न आना, सिरदर्द, अत्यधिक चिड़चिड़ापन, पाचन समस्याएं, असहाय महसूस करना, कम आत्मसम्मान, घबराहट, यौन इच्छा में कमी, बार-बार संक्रमण तनाव के लक्षणों हैं। यह लगातार बना रहे तो आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित होना चाहिए। 

&nb

इस भागदौड़ भरी और व्यस्त जिदंगी में थोड़ा बहुत तनाव सामान्य है हालांकि अगर यह लगातार बना रहे तो आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित होना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि स्थायी तनाव को अपनी रोजमर्या का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए नहीं तो यह आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव छोड़ता है। बहुत से कारण हैं, जो तनाव बढ़ाते हैं। इसमें काम की समयसीमा, परीक्षाएं, कुछ खतरे की स्थितियां, व्यापारिक ऋण, वित्तिय कठनाइयां आदि शामिल हैं। स्थायी तनाव गंभीर शारीरिक और मानसिक लक्षणों की ओर ले जा सकता है, जो आपकी रोजमर्या के जीवन को मुश्किल बना सकता है।

थकान, नींद न आना, सिरदर्द, अत्यधिक चिड़चिड़ापन, पाचन समस्याएं, असहाय महसूस करना, कम आत्मसम्मान, घबराहट, यौन इच्छा में कमी, बार-बार संक्रमण आदि तनाव के लक्षणों में शामिल हैं। लंबे समय तक तनाव में रहना घातक स्वास्थ्य परिणामों में योगदान कर सकता है, इनमें से कुछ के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। अगर आप भी छोटी-छोटी बातों को लेकर तनाव में आ जाते हैं तो ये आपके लिए घातक हो सकता है।

दिल का दौरा

तनाव आपके रक्तचाप को बढ़ाता है और रक्त वाहिकाओं की परत को क्षति पहुंचाता है, जिससे दिल के दौरे का खतरा बढ़ता है।

इसे भी पढ़ेंः अगर आपको भी दिखाई दें ये 5 लक्षण तो यह है खसरे का संकेत

प्रतिरक्षा प्रणाली होती है प्रभावित

तनाव के कारण आपके शरीर को होने वाले अन्य नुकसान में आपका इम्यून सिस्टम भी आता है। तनाव लेने से आपके इम्यून सिस्टम से साइटोकिन्स नाम का प्रतिरक्षा कम्पाउंड बाहर निकलता है, जो आपके शरीर में अस्वस्थ कारकों से लड़ने के अपने प्रयास में स्वस्थय कोशिकओं को नुकसान पहुंचाता है।

Buy Online- Himalaya Herbals Stress Relief Massage Oil, 200ml, Offer Price- Rs. 130.00/-

समय से पहले चेहरे पर झलकता है बुढ़ापा

स्थायी तनाव ऑक्सीडेटिव तनाव और टेलोमेर (क्रोमोजोम के अंत में स्थित एक कैप) के छोटेपन से जुड़ा है। ये दोनों ही कारक कोशिकाओं की उम्र बढ़ने का संकेत देते हैं।

इसे भी पढ़ेंः जुकाम, खांसी और गले में दर्द है सीजनल एलर्जी के लक्षण, एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

वजन बढ़ाने में देता है योगदान

तनाव हार्मोन कोर्टिसोल पेट के आस-पास जमा चर्बी को बढ़ाने में योगदान देता है और फैट, नमक और शुगर की ललक बिगड़ जाती है, जिससे आपका वजन बढ़ता है।

संबंध बनाने में घटती रूचि

स्थायी तनाव आपके वैवाहिक जीवन को भी प्रभावित करता है। दरअसल तनाव बने रहने से महिलाओं में संबंध बनाने की रूचि कम होती चली जाती है और पुरुषों में स्तंभन दोष होने का खतरा बढ़ जाता है।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK