मोटापा बना सकता है बच्‍चों को बीमारियों का शिकार, जानें मोटापे से बचने के लिए किन बातों का रखें ध्‍यान

Updated at: Jun 30, 2020
मोटापा बना सकता है बच्‍चों को बीमारियों का शिकार, जानें मोटापे से बचने के लिए किन बातों का रखें ध्‍यान

मोटापा एक ऐसी समस्‍या है, जो आपको कई बीमारियों का शिकार बनाता है। आइए यहां बच्‍चों में मोटापा कम करने के टिप्‍स जानें। 

Sheetal Bisht
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jun 30, 2020

मोटापा एक ऐसी सामान्‍य समस्‍या है, जिससे अधिकतर लोग परेशान हैं। आजकल की खराब लाइफस्‍टाइल के कारण आजकल अधिकांश बच्‍चों में भी मोटापे की समस्‍या देखने को मिल रही है। मोटापा बच्‍चों के लिए हो या बड़ों के लिए, दोनों के लिए खतरनाक है। स्‍वस्‍थ रहने के लिए स्‍वस्‍थ वजन बनाए रखना बेहद जरूरी है। बचपन में मोटापा पूरी दुनिया में बच्चों को बड़ी संख्या में प्रभावित करता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जब एक बच्चा अपनी उम्र और लंबाई के अनुसार ज्‍यादा वजन का होता है।  डब्ल्यूएचओ के अनुसार, बचपन में मोटापा 21 वीं सदी की सबसे गंभीर और सामान्‍य सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्‍याओं में से एक है। यह समस्या वैश्विक है और लगातार कई देशों को प्रभावित कर रही है, खासकर शहरी इलाकों में निष्‍क्रिय जीवनशैली और गलत खानपान की आदतें बच्‍चों से लेकर बड़ों को बीमार बना रही हैं। बचपन में मोटापा बच्‍चों के शारिरिक और मानसिक दोनों स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित कर सकता है। इसीलिए बचपन के मोटापे को रोकना जरूरी है, जिसमें कि माता-पिता की अहम भूमिका होती है। आइए यहां हम आपको बच्‍चों में मोटापे को रोकने या वजन को कम करने के लिए यहां कुछ आसान तरीके बताते हैं। 

बचपन में कैसे करें मोटापे की रोकथाम

1. बच्‍चों की उम्र के हिसाब से दें सही पोषण 

कई माता-पिता अपने बच्चों को लाड़-प्‍यार में जरूरत से ज्‍यादा खाद्य पदार्थ सर्व करते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि आपकी ये आदतें आपके बच्‍चें को मोटापे का शिकार बना सकती हैं? शायद नहीं। इसीलिए हमेशा बच्चे की उम्र के अनुसार, उसे सही मात्रा में खाना और उसकी सही मात्रा में पोषण-संबंधी जरूरतों को पूरा करें। बच्‍चों के लिए सही पोषण और सही मात्रा में खाने से उनके विकास में योगदान मिलेगा और उन्‍हे ऊर्जा मिलेगी। 

इसे भी पढ़ें: बड़े ही नहीं बच्‍चे भी बन सकते हैं हाई ब्‍लड प्रेशर का शिकार, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

2. सही स्नैक्स या फूड्स चुनना सिखाएं

हमेशा ध्‍यान रखें कि आप अपने बच्‍चों को जैसा बचपन में सिखाते हैं, वही उनकी पसंद बनता चला जाता है। यदि आप अपने बच्‍चों को बचपन के शुरूआती समय में हेल्‍दी स्‍नैक्‍स और खानें की आदत डालते हैं, तो वही सीखते हैं। इसके विपरीत बच्चों को आम तौर पर मिठाई, कैंडी और तले हुए स्नैक्स और बाजार की चीजें खिलाई जाती हैं, तो वह उसी को पसंद करने लगते हैं। इसलिए यह आपके हाथ में है कि आप अपने बच्‍चे को खानपान की कैसी आदत डालते हैं। आप अपने बच्‍चों को हेल्‍दी डाइट वाले वाले गेम खिलाएं और सही स्नैक्स या फूड्स चुनना सिखाएं। 

3. एक साथ खाना खाएं 

यदि आप एक साथ यालि एक परिवार के रूप में एक साथ बैठकर खाना खाते हैं, तो यह बच्‍चे में स्‍वस्‍थ खानपान की आदतों को विकसित करता है। इसके अलावा, जब आप स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, तो आपके बच्चों को भी ऐसा ही सीखने में मदद मिलती है और संभावना होती कि वह उन्‍हीं चीजों को पसंद करते हैं। 

4. खाना खाते समय फोन या टीवी से बचें 

जब आप या आपके बच्‍चे खाना खाते हैं, तो आप खुद को और उन्‍हें टीवी या फोन से दूर रखें। क्‍योंकि जैसा आप करेंगे, वैसा आपके बच्‍चे सीखेंगे। खाना खाते समय टीवी या फोन देखना से ज्‍यादा या कम खाने की संभावना होती है। जिससे वजन भी बढ़ सकता है। इससे बच्चों को यह समझने में परेशानी होती है कि उनका पेट भर चुका है। 

इसे भी पढ़ें: बच्चों की आंखों पर कैसे असर डालती है मोबाइल से निकलने वाली नीली रोशनी, जानें कैसे बचाएं बच्चों को इससे?

5. बैलेंस डाइट दें 

हमेंशा अपने बच्‍चों की खाने की थाली को सभी पोषक तत्‍वों से भरपूर बनाएं, जिससे उनके उचित विकास में मदद मिले। आप उन्‍हें एक संतुलित, पौष्टिक और स्‍वादिष्‍ट खाना दें। जिससे वह बाहरी खाने के प्रति आकर्षित न हों और स्‍वस्‍थ रहें। इसके अलावा बचपन के मोटापे को कम करने के लिए उन्‍हें फाइबरयुक्‍त खाद्य पदार्थों का सेवन कराएं। क्‍योंकि प्रारंभिक चरण के लिए स्वस्थ खानपान की आदतें और नियमित शारीरिक गतिविधि बचपन के मोटापे के जोखिम से लड़ने में मदद करती हैं। इसके अलावा, परिवार के लोग और मां-बाप इसमें महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 

Read More Article On Children's Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK