Subscribe to Onlymyhealth Newsletter
  • I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.

चिकनगुनिया और डेंगु दोगुनी तेजी से पसार रहे पैर

चिकनगुनिया और डेंगु दोगुनी तेजी से पसार रहे पैर

इस साल मानसूनी बिमारियों का कहर अपने चरम-बिंदु पर है और डेंगू व चिकनगुनिया मिलकर पिछले साल की तुलना में दोगुनी तेजी से बीमारी फैला रहे हैं। इन दोनों के साथ मलेरिया ने भी इस बार लोगों पर कहर बरपाया हुआ है। चिकित्सकों ने ये कहते हुए चेताया है कि अभी तो मानसून शुरू हुआ है तो ये स्थिति है। आगे की स्थिति और भयावह हो सकती है।

 

पूरे देश में मिले डेंगु और चिकनगुनिया के पिछले साल और इस साल के मामले

वर्ष             चिकनगुनिया के मामले             डेंगु के मामले
2010            48,176                          28,292
2011             20,402                         18,860
2012             15,977                         50,222
2013             8,840                           75,808
2014             16,049                         40,571
2015             27,553                         99,913
2016 (अब तक मिले) 12,255                 27,879
(स्रोस- नेशनल वेक्टर बोर्न डीज़िड कंट्रोल प्रोग्राम वेबसाइट)


31 अगस्त 2016 तक पूरे देश में चिकनगुनिया के 12,255 मामले मिले हैं जबकि पिछले साल इससे थोड़े कम मामले अगस्त के अंत तक मिल थे। वहीं डेंगु के 27,879 मामले मिल चुके हैं जिसमें से 60 लोग डेंगु बुखार के कारण काल के गाल में समा चुके हैं। जबकि पिछले साल 99,913 डेंगु के मामले मिले थे जिसमें से 220 लोगों की मृत्यु डेंगु बुखार के कारण हुई थी। गौरतलब है कि ये आंकड़े अब तक अगस्त के अंत में रिकॉर्ड किए गए हैं जबकि अभी तो केवल मानसून की शुरुआत ही हुई है। जिससे की माना जा रहा है कि ये आंकड़े और बढ़ेंगे। 

 

मलेरिया भी बना चिंता का कारण

डेंगू की तुलना में चिकनगुनिया के ज्यादा मामले सामने आने के कारण इस बार चिकनगुनिया ज्यादा चिंता का कारण बना हुआ है। लेकिन चिकित्सकों का कहना है कि राहत की बात है कि इस बार मरीजों तक दवाईयों की पहुंच जल्दी हो रही है जिससे इन बीमारियों से होने वाली मौत का आंकड़ा घट गया है।


लेकिन डेंगु और चिकनगुनिया के बीच मलेरिया चिकित्सकों और लोगों की सबसे अधिक चिंता का कारण बना हुआ है। क्योंकि इससे बीमार होने वाले लोगों का आंकड़ा दिन पर दिन बढ़ते जा रहा है। इस साल अब तक 4.71 लाख मलेरिया के मामले मिले हैं जिसमें से 119 मलेरिया ग्रस्त मरीजों की मृत्यु हो चुकी है।

 

Read more Health news in Hindi.

Written by
Gayatree Verma
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागSep 05, 2016

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK