• shareIcon

चावल खाने से डाइबिटीज का खतरा

Updated at: Jun 04, 2012
डायबिटीज़
Written by: रीता चौधरी onlymyhealth editorial teamPublished at: May 18, 2012
चावल खाने से डाइबिटीज का खतरा

चावल खाने के कारण होता है डाइबिटीज

chawal khaane se diabetes ka khatra

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के अनुसार चावल खाने से डाइबिटीज का खतरा बढ़ जाता है, खासतौर पर सफेद चावल खाने से डाइबिटीज होने का खतरा अधिक होता है।

हॉवर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और हॉवर्ड मेडिकल स्कूल की टीम ने इसके लिए एशिया के दो देशों चीन और जापान तथा पश्चिम के दो देशों अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के लोगों पर इसका अध्ययन किया।

शोधकर्ताओं ने चावल खाने और उससे डाइबिटीज होने पर शोध किया है। हॉवर्ड के इस अनुसंधान में कहा गया है कि अगर आप रोज एक बड़ा बाउल सफेद चावल खाते हैं तो आपको टाइप-२ मधुमेह होने का खतरा सामान्य से 11 प्रतिशत ज्यादा होता है। इसके लिए अनुसंधानकर्ताओं ने 22 वर्ष की अवधि में 3,50,000 लोगों का अध्ययन किया। शोध शुरू होने के समय किसी को भी डाइबिटीज की शिकायत नहीं थी।

इस शोध में कहा गया की चावल खाने से डाइबिटीज होने की संभावना ज्यादा रहती है। लेकिन इस शोध में यह नहीं कहा गया कि किस चावल को खाने से डाइबिटीज होने का खतरा ज्यादा होगा, छोटे आकार वाले चावल या बासमती चावल। बाजार में हर किस्म का चावल उपलब्ध है।

दरअसल चावल के पकाने की विधि पर ही उसके खाने से होने वाला फायदा या नुकसान निर्भर करता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर चावल की बिरयानी बनाई जाए या चावल को मांस या सोयाबीन के साथ खाया जाए, तो डाइबिटीज होने का खतरा ज्यादा रहता है। क्योंकि इससे शरीर में रक्त में शर्करा की मात्रा पर असर पड़ सकता है।

•    शोधकर्ताओं ने इससे जुड़े 20 शोधों का अध्ययन किया तो पाया कि इनमें से केवल चार शोधो में चावल की वजह से डाइबिटीज होना पाया गया।

निष्कर्ष

लेकिन आहार विशेषज्ञों का कहना है कि वैज्ञानिकों को इस निष्कर्ष पर पहुंचने में जल्दीबाजी नहीं करनी चाहिए। अभी तक इस अनुसंधान में सभी बातों की पुष्टि नहीं हुई है। कुल मिलाकर नतीजा ये निकला है कि चावल खाने और डाइबिटीज होने में कुछ संबंध तो है, लेकिन हमेशा चावल खाने से ही डाइबिटीज हो ऐसा जरूरी नहीं है। यह काफी हद तक आपके चावल खाने की आदतों पर निर्भर करता है, कि आप एक दिन में कितना और किस किस्म का चावल खा रहे है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK