डायबिटीज के मरीज गेहूं की नहीं बल्कि चने की रोटी खाएं, न्यूट्रिनिस्ट से जानें चने की रोटी खाने के फायदे

Updated at: Oct 28, 2020
डायबिटीज के मरीज गेहूं की नहीं बल्कि चने की रोटी खाएं, न्यूट्रिनिस्ट से जानें चने की रोटी खाने के फायदे

डायबिटीज के मरीजों के लिए चने की रोटी खाना उनके वजन को भी संतुलित रखता है। वहीं इसके कई और फायदे भी हैं।

Pallavi Kumari
स्वस्थ आहारWritten by: Pallavi KumariPublished at: Oct 28, 2020

डायबिटीज के मरीजों (diabetes patient)को अक्सर अपनी डाइट में कुछ चीजों से परहेज करने को कहा जाता है। नाश्ते से लेकर, लंच और डिनर तक में उन्हें, उन्हीं चीजों का सेवन करने को कहा जाता है, जिनसे कि उनका ब्लड शुगर लेवल संतुलित रहे और डायबिटीज कंट्रोल में रह सके। ऐसे में आज हम आपको डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए रोटी के हेल्दी विकल्प के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे आप बिना टेंशन के अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। जी हां, हम बात चने की रोटी की कर रहें, जो कि डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है। इसी विषय को लेकर 'ऑनली माय हेल्थ' ने न्यूट्रिनिस्ट कविता देवगन से भी बात की, जिन्होंने डायबिटीज में चने की रोटी खाने के फायदे (chane ki roti ke fayde)के बारे में हमें गहराई से बताया। 

insidediabetesdiet

डायबिटीज में चने की रोटी (Gram flour roti for diabetes patient)

चने की रोटी को लेकर न्यूट्रिनिस्ट कविता देवगन कहती हैं कि सबसे पहली बात कि चना की रोटी ग्लूटेन फ्री जो कि एक बड़ा प्रभावी कारण है हम और आप इसे अपनी डाइट में शामिल करें। दरअसल ग्लूटन गेहूं, जौ और जई (बार्ली) जैसे अनाजों में मिलने वाला एक प्रोटीन है, जो कि ब्लड शुगर को बढ़ा सकता है। वहीं चने की रोटी ग्लूटेन मुक्त है, जो कि ब्लड शुगर लेवल को संतुलित रख सकता है। वहीं कई और कारण भी हैं, जिसकी वजह से डायबिटीज के मरीजों को अपनी डाइट में (diabetic diet) काला चना या चने की रोटी को जरूर शामिल करना चाहिए।

insidechanekiroti

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज की दवा मेटफॉर्मिन कैसे दिमाग पर डालती है सकारात्मक प्रभाव, जानें क्या कहता है अध्ययन

चने की रोटी खाने के फायदे (Gram flour roti benefits)

1.कोलेस्ट्रॉल कम करता है चने की रोटी

चने के आटे में ग्लिसेमिक इंडेक्स (GI) 70 होता है जबकि गेंहू के आटे में 100 के करीब होता है इसलिए चने की रोटी खाने से शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा नियंत्रित रहती है। वहीं अगर गेंहू के आटे और चने के आटे को मिलाकर सेवन किया जाए तो कोलेस्ट्राल लेवल भी सामान्य रहता है। इसकी मदद से गुड कोलेस्ट्राल बढ़ता है। वहीं चना दाल के आटे (chane ki roti nutrition)में बहुत अधिक घुलनशील फाइबर होता है जो, न केवल ब्लड में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है, बल्कि धीरे-धीरे रक्तप्रवाह में भी आराम से अवशोषित हो जाता है, परिणामस्वरूप  ये ब्लड शुगर के स्तर को सही रखता है और उसमें अचानक से बढ़ोतरी का कारण नहीं बनता है।

2.हाई प्रोटीन वाला होता है चने की रोटी

चने की रोटी गेहूं की रोटी की तुलना में अधिक प्रोटीन युक्त होता है। उदाहरण के लिए एक चने की रोटी खाने से आपको लगभग 10 ग्राम प्रोटीन मिलता है, जो कि गेहूं की रोटी की तुलना में ज्यादा है। वहीं इसे खाकर आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगेगी और आप कंप्लीट महसूस करेंगे। इस तरह ये आपको मोटापा और इटिंग डिसऑर्डर से भी बचा सकती है।

insiderotifordiabetes

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज को शुरुआती समय में गुड़हल और सदाबहार के फूल से कैसे कंट्रोल किया जा सकता है

3.पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद

चने की रोटी में हाई फाइबर होता है, जो कि आपके पेट के लिए बहुत अच्छा है। दरअसल जिन लोगों को कब्ज और पाचन तंत्र से जुड़ी परेशानियां रहती हैं, उनके लिए ये चने की रोटी खाना इसे ठीक कर सकता है। इसका फाइबर पाचनतंत्र को एक्टिव करता है, जिससे कि आपका पेट साफ रहता है।

इस फायदों के अलावा चने की रोटी खाने का एक फायदा ये भी है कि चने की दाल से बनी रोटी में आयरन और कैल्शियम की अधिक मात्रा होती है, जो कि दिमाग से तनाव को कम करने में मदद करता है। वहीं ब्रेकफास्ट में इसे खाना आपको दिनभर काफी एनर्जेटिक महसूस करवा सकता है। इसलिए आपको अपनी रेगुलर रोटी में बदलाव करके कभी कभार चने की रोटी खाने की कोशिश करनी चाहिए। तो अगर आपने आज तक चने की रोटी नहीं खाई है, तो दो कप चने का आटा लेकर गू्ंथ लें और फिर इसकी रोटी बना कर खाएं। 

Read more articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK