आम समस्या नहीं है महिलाओं का बाल झड़ना, जानें महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या के कारण और निवारण

Updated at: Jul 09, 2020
आम समस्या नहीं है महिलाओं का बाल झड़ना, जानें महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या के कारण और निवारण

महिलाओं के बाल झड़ने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि हार्मोनल कारण, गर्भनिरोधक गोलियों को सेवन इत्यादि। आइए जनाते हैं विस्तार से।

सम्‍पादकीय विभाग
बालों की देखभालWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Sep 19, 2013

जिन महिलाओं को बालों के झड़ने की समस्या है, विशेष रूप से तब जब कि यह एक आनुवंशिक प्रवृत्ती है तो उनमें बहुत छोटी उम्र में गर्भनिरोधक गोलियां लेने से बालों का झड़ना शुरू हो सकता है। आमतौर पर गर्भनिरोधक गोलियां लेना बंद करने के छह महीने बाद बाल फिर से बढ़ जाते हैं। महिलाओं में बाल झड़ने के ऐसे ही कुछ प्रमुख कारण निम्न प्रकार से हैं।

hair-fall-during-quarantine-inside2

पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि सिंड्रोम (पीसीओ)

इस हालत के साथ पड़ित महिलाओं में कई विभिन्न प्रकार के संभावित लक्षण दिख सकते है, जिनमें से एक बालों का झड़ना भी हो सकता है। इस हार्मोन के असंतुलन की जटीलता को समग्र उपायों के माध्यम से संबोधित करना सबसे अच्छा है।

गर्भावस्था / बच्चे के जन्म

जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, कुछ महिलाओं को हार्मोन में उतार चढ़ाव की वजह से अपने बालों में बड़े बदलाव का अनुभव होता है। इसका अर्थ सामान्य, घने बालों की अपेक्षा घुँघराले या सीधे बाल और अक्सर बालों के झड़ना हो सकता है। कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान इन परिवर्तनों का अनुभव होता है जबकि अन्य महिलाओं को गर्भावस्था के बाद इसका अनुभव होता है। बहरहाल, ज्यादातर मामलों में, यह अपने आप पूरी तरह से ठिक हो जाते है।

थायराइड रोग

अति सक्रिय थाइरोइड और कम सक्रिय थायराइड दोनों बालों के झड़ने का कारण बन सकते है। थायराइड असंतुलन का निदान एक प्रयोगशाला परीक्षण के माध्यम से आपके चिकित्सक द्वारा किया जा सकता है। ये असंतुलन समग्र उपायों के माध्यम से पूरी तरह से ठिक किये जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :  Myths About Curly Hair: आपके घुघराले बालों को नुकसान पहुंचा सकती है, कर्ली बालों से जुड़ी ये 5 मिथ्‍स

अपर्याप्त पोषक आहार

कई सनकी आहार कार्यक्रम और बाजार के चरम "विषहरण" योजनाओं से अनजाने में महिलाओं के बालों की बनावट और घनेपन को प्रभावित करना बहुत आसान है। आमतौर पर, आहार में अचानक चरम बदलाव, विशेष रूप से प्रोटीन आहार में कमी, चरम कैलोरी प्रतिबंध या एक प्रिडॉमिनेटली जंक फूड के शाकाहारी भोजन से प्रोटीन की कमी के कारण भारी राशी में बालों का झड़ना शुरु हो सकता है, जो अक्सर आहार में बदलाव की शुरुआत के दो या तीन महीने तक चलता है।अपने आहार के लिए एक उचित संतुलन बहाल करके, बालों के झड़ना बंद किया जा सकता है।

चिकित्सा

चिंता और अवसाद के साथ साथ रक्तचाप की पर्चे दवाऐं एक छोटे प्रतिशत लोगों में अस्थायी रुप में बालों के झड़ने का कारण हो सकती है। महिलाओं के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है, की कई महिलाऐं जब जीवन में उनको परिवर्तन के प्रमुख दौर में नुकासन से गुजरना पड़ता है,तब वह मनोदशा-स्थिरकारी दवाओं का सहारा लेती है। ज्यादातर मनोदशा-स्थिरिकारी और अवसाद विरोधी दवाओं के कारण यह दुष्प्रभाव पैदा हो सकता है।

सीरम आयरन की कमी

आयरन की कमी बालों के झड़ने का कारण बन सकती है। जिन महिलाओं को अक्सर बहुत ज्यादा या जरूरत से ज्यादा मासिक स्त्राव होता है, उनमें लोहे की कमी का विकास हो सकता है। लोहे की कमी का प्रयोगशाला में परीक्षणों द्वारा पता लगाया जा सकता है और लोहे की पूरक खुराक के साथ ठीक किया जाता है।

इसे भी पढ़ें : Hair Care Tips: खूबसूरत घने और हेल्दी बालों के लिए लड़कों को जरूर अपनाने चाहिए ये 5 हेयर केयर टिप्स

तनाव

तनाव बालों के झड़ने से संबंधित एक दिलचस्प कारण है। प्रमुख तनाव प्रकरण के परिणाम स्वरुप यह समस्या ह सकती हैं और प्रकरण के बाद तीन महीने तक जारी रहती है, और तीन महीने के बाद फिर से बाल बढ़ना शुरू कर सकते हैं। कई महिलाऐं दार्घकालीन कम श्रेणी के तनाव का सामना कर सकती है, और उनकी आनुवंशिक प्रवृत्ती  पर इस प्रकार के तनाव से शुरवाती एन्ड्रोजेनिक  बालों का झड़ना शुरु करना निर्भर कर सकते हैं।


बालों का झड़ना रोकने के लिए, गर्भनिरोधक या अवसाद विरोधी गोलियाँ जब तक बहुत जरुरत ना हो, लेने से बचे। यहां तक कि अगर आपको लगता है कि आपको यह लेनी है, तो भी अन्य राय और वैकल्पों का शोध ले। यदि आप हार्मोन के कारण संवेदनशील हैं, तो सिंथेटिक हार्मोन जोड़ने से आगे हार्मोनल समस्याओं को बढ़ावा मिल सकता हैं। इसके अलावा, एक स्वस्थ आहार को बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है - सनक आहार, चरम विषहरण कार्यक्रमों या मार्गदर्शन के बिना शाकाहार के साथ प्रयोग से बचें। शारीरिक गतिविधि एक अन्य बहुत अच्छा प्रतिबंधात्मक उपाय है, यह बालों के पुटिका को महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के संचलन को बढ़ावा देने के साथ आपके शरीर पर के तनाव हार्मोन के प्रभाव से बालों के झड़ने को कम करने जैसी डबल ड्यूटी में कार्य करता है।

Read more articles on Hair-Care in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK