• shareIcon

पोषण की कमी से भी होती है कैंसर रोगियों की मौत, जानें क्या करें जिसे न रहे कमी

कैंसर By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 23, 2019
पोषण की कमी से भी होती है कैंसर रोगियों की मौत, जानें क्या करें जिसे न रहे कमी

कैंसर के रूप में बढ़ने वाले सबसे अधिक प्रासंगिक सिंड्रोम में से एक कैचेक्सिया (Cachexia), रोगी के जीवन को जोखिम में डालता है और अनियमित रूप से कमजोरी और मृत्यु का कारण बनता है। 

कैंसर के रूप में बढ़ने वाले सबसे अधिक प्रासंगिक सिंड्रोम में से एक कैचेक्सिया (Cachexia), रोगी के जीवन को जोखिम में डालता है और अनियमित रूप से कमजोरी और मृत्यु का कारण बनता है। हाइपरमेटाबोलिज्म का संबंध कैंसर कैचेक्सिया के क्लीनिक और बॉयोलॉजिकल मार्करों के साथ है और यह मेटास्टैटिक कैंसर रोगियों में कम अस्तित्व के साथ जुड़ा हुआ है। देखा जाता है कि अक्सर कैंसर रोगियों में पोषण की कमी के चलते उनकी मौत हो जाती है। 

एक कैंसर रोगी के लिए आशा ही सब कुछ है। आशा को आसानी से परिभाषित नहीं किया जाता है, लेकिन विश्वास के बिना गले लगाना असंभव है। वास्तविकता में आशा हमेशा संकेत देती है कि इससे कुछ बेहतर होगा। कैंसर रोगियों में पोषण संबंधी कमियों को पूरा करने के लिए एस्पेरर बॉयोरिसर्च के ये दो नए हेल्थ सप्लीमेंट एस-फोर्टीटयूड (पोषण, सुरक्षा और रिकवरी) और एस-इनविग्योर (बेस फॉर्मूला) कैंसर रोगियों में पोषण की कमी को पूरा करती हैं। ये सप्लीमेंटस दुनिया भर में रोगियों के जीवन की बेहतर गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए कैंसर रोग प्रबंधन में मुख्य चिकित्सा की अधिक से अधिक सकारात्मक प्रभाव लाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

दिल्ली के द्वारका स्थित आकाश हेल्थकेयर सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के मेडिकल ऑन्कोलॉजी, हेमटोलॉजी एंड बोन मैरो ट्रांसप्लांट डायरेक्टर डॉ.राकेश चोपड़ा का कहना है कि कैंसर रोगियों के शरीर के विभिन्न भागों में अलग-अलग कोशिकाओं में अलग-अलग मैटाबोलिक मार्गों में अलग-अलग परिवर्तन होते हैं। एक वैज्ञानिक सूत्र जो पोषण संतुलन बनाए रखने के साथ-साथ रोगी के जीवन की गुणवत्ता को बनाए रखने में सहायता कर सकता है, एक आशाजनक प्रगति है। हम भविष्य में कैंसर केयर के लिए इस तरह के प्रभावी स्वास्थ्य सप्लीमेंटस और संपूर्ण बदलावकारी  फार्मूले के बारे आगे भी उपयोगी समाधान लेकर आएंगे।

इसे भी पढ़ेंः फेफड़ों के कैंसर के खतरे को बढ़ाती हैं ये 5 चीजें, कहीं आप तो इनकी चपेट में नहीं ?

एस्पेरर बॉयोरिसर्च के संस्थापक और सीईओ रक्तिम चट्टोपाध्याय ने कहा कि हमारा प्रयास कैंसर रोगियों के लिए बेहतर जीवन स्तर की दिशा में काम करना है। हम मानते हैं कि वैयक्तिकृत चिकित्सा स्वास्थ्य देखभाल में क्रांति लाने का हमारा मौका है। पोषण असंतुलन का कैंसर की बीमारी पर सीधा प्रभाव पड़ता है और हमारी खोज कैंसर के रोगियों में पोषण संबंधी जोखिम से होने वाले जोखिम को कम करने के लिए है।

कैंसर रोगियों से जुड़े कुछ अन्य तथ्य

हरियाणा में सबसे अधिक 39.6 प्रतिशत कैंसर के मामले दर्ज । 

दिल्ली में 27.3 प्रतिशत। 

उत्तर प्रदेश में 12.7 प्रतिशत कैंसर के मामले । 

इसे भी पढ़ेंः खतरनाक होता है मुंह का कैंसर, जानें इसके शुरुआती लक्षण, कारण और बचाव के टिप्स

दिल्ली की कैंसर रजिस्ट्री द्वारा किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि प्रोस्टेट कैंसर शहर में पुरुषों में दूसरा सबसे अधिक पाया जाने वाला कैंसर है, जो कि मौखिक और फेफड़ों के कैंसर के मामलों के पीछे है। पुरुषों में शीर्ष कैंसर क्षेत्र के अनुसार अलग-अलग होते हैं और उनमें प्रोस्टेट, मुंह, स्वरयंत्र और घुटकी शामिल हैं। महिलाओं के लिए, स्तन कैंसर के मामले सर्वाधिक हैं और इसकी दर काफी अधिक है। यह दर दिल्ली में भी काफी अधिक है। गर्भाशय ग्रीवा और डिम्बग्रंथि के कैंसर क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं।

Read More Articles On Cancer In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK