• shareIcon

Cancer Causes: कैंसर दुनियाभर में मौतों की दूसरी सबसे बड़ी वजह, इससे बचने के लिए जानें जीवनशैली से जुड़ी ये 10 बातें

कैंसर By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 02, 2019
Cancer Causes: कैंसर दुनियाभर में मौतों की दूसरी सबसे बड़ी वजह, इससे बचने के लिए जानें जीवनशैली से जुड़ी ये 10 बातें

धूम्रपान से आपको कैंसर हो सकता है, जैसा कि आप जानते हैं, लेकिन कुछ अन्य आश्चर्यजनक चीजें हैं, जो आपके रोजमर्रा की आदतों से जुड़ी हैं, जोकि बीमारी होने के जोखिम को बढ़ा सकती हैं।

ये बात हम सभी जानते हैं कि हमारी जीवनशैली स्‍वस्‍थ जीवन जीने का आधार है। खराब लाइफस्‍टाइल कैंसर जैसी कई जानलेवा बीमारियों का नेतृत्‍व करती है। कई वैज्ञानिक मानते हैं कि कैंसर हृदय रोग के बाद दुनिया में मौतों का दूसरा प्रमुख कारण है, ऐसे में अपने आप को बचाने के लिए उपाय करना जरूरी है। इसके लिए आपके अंदर अच्‍छी आदतों का विकसित होना आवश्‍यक है, जिससे कैंसर जैसी भयानक बीमारियों से खुद को बचाया जा सके। यहां हम आपको जीवनशैली से जुड़ी 10 ऐसी बातों के बारे में बता रहे हैं जो कैंसर का कारण बन सकती हैं। कैंसर से बचाव के लिए आपको इन कारणों के बारे में न सिर्फ जानना जरूरी है बल्कि इन चीजों से दूर रहना ही सही सलाह है। 

कैंसर के कारण: What causes cancer

1. तम्‍बाकू 

अमेरिकी कैंसर सोसाइटी के अनुसार, धूम्रपान करने वाले धूम्रपान न करने वालों की तुलना में 10 साल कम जीते हैं। यदि आपकी आदत है, तो इस लत को कम करना शुरू कर दें। 40 वर्ष की आयु से पहले छोड़ने से धूम्रपान से संबंधित बीमारी से मरने का खतरा लगभग 90 प्रतिशत कम हो जाता है।

Cancer-Causes-and-Prevention

2. ओवरवेट 

अक्‍सर, वजन का बढ़ना हृदय रोग और डायबिटीज के जोखिम को दर्शाया जाता है, जबकि इसमें कैंसर भी शामिल है। कई अध्‍ययनों में ये बात सामने आ चुकी है कि, कैंसर के कारणों में धूम्रपान के बाद अधिक वजन या मोटापा सबसे प्रमुख जोखिम कारकों में से एक हैं। 

3. शराब पीना 

शराब का एक छोटा पैग निश्चित रूप से आपके हृदय के लिए अच्‍छा हो सकता है। लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि नियमित रूप से शराब पीने से महिलाओं में 6 प्रतिशत और पुरुषों में 4.5 प्रतिशत से अधिक कैंसर का खतरा हो सकता है। किसी भी तरह के मादक पेय का मॉडरेट अमाउंट में सेवन करने से आपके स्तन और अन्य कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। 

4. एक्‍सरसाइज की कमीं   

जैसा कि शारीरिक निष्क्रियता से वजन बढ़ सकता है, यह एक कैंसर जोखिम कारक है जो आपके कोलन, स्तन और एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है, अमेरिकन कैंसर सोसाइटी की सलाह है कि वयस्कों को प्रत्येक सप्ताह कम से कम 150 मिनट की मध्यम तीव्रता या 75 मिनट की तेज गतिविधि में शामिल होना चाहिए। 

5. रेडॉन एक्‍सपोज़र

रेडॉन एक गंधहीन रेडियोधर्मी गैस है जो प्राकृतिक रूप से हवा, मिट्टी और पानी में पाई जाती है। इस बात के बहुत से प्रमाण हैं कि रेडॉन एक्सपोज़र फेफड़ों के कैंसर का एक कारण है। यह आमतौर घरों में पाई जाती है। ग्रेनाइट काउंटरटॉप्स सहित कुछ निर्माण सामग्री, रेडॉन का उत्सर्जन भी कर सकती है। 

6. सेकेंडहैंड स्‍मोक 

सिगरेट में कार्सिनोजेनिक रसायन होते हैं। जब आप एक धूम्रपान नहीं कर रहे हैं तब भी आपके कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। जब बात सेकेंड हैंड स्‍मोकिंग की आती है, तो यह आपके लिए ज्‍यादा खतरनाक हो सकती है। सेकेंड हैंड स्‍मोकिंग वह है, जब कोई दूसरा व्‍यक्ति स्‍मोक कर रहा होता है, और उसके धुएं से आप प्रभावित हो रहे होते हैं। 

7. प्रोसेस्‍ड मीट 

विश्व स्वास्थ्य संगठन सुअर के मांस, लंच मीट और सॉसेज को कार्सिनोजेन्स मानता है क्योंकि इनमें नाइट्राइट्स या नाइट्रेट्स नामक यौगिक होते हैं। मुद्दा यह है कि जब आप इन पदार्थों को गर्म करते हैं, तो वे नाइट्रोसेमाइन बना सकते हैं, जो कार्सिनोजेनिक हैं- शोध बताते हैं कि ये पदार्थ कोलोरेक्टल और अन्य प्रकार के कैंसर का खतरा पैदा कर सकते हैं। 

8. ट्रांस फैट 

शोध बताते हैं कि मानव निर्मित वसा जिसे ट्रांस फैट या आंशिक रूप से हाइड्रोजनीकृत तेल कहा जाता है- जिन पर कई देशों में प्रतिबंध लगाया गया है, लेकिन फिर भी खाद्य पदार्थों के तौर पर मिलते हैं। यह प्रोस्टेट, स्तन और पेट के कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है। एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि उनके रक्त में ट्रांस फैट के उच्चतम स्तर वाली महिलाओं में स्तन कैंसर होने का जोखिम बढ़ा देता है।

इसे भी पढ़ें:  कैंसर से बचना है तो सही रखें अपना खानपान, जानें कैंसर से बचाने वाले आहार

9. हॉट ड्रिंक्‍स 

अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि 149°F या उससे अधिक पर पेय पदार्थों का सेवन करने से ग्रासनली के कैंसर का खतरा बढ़ सकता है, यह कैंसर का एक बहुत घातक रूप। शोधकर्ताओं का मानना है कि उच्च तापमान ऊतक को नुकसान पहुंचा सकता है। कभी भी चाय या कोई पेय पदार्थ थोड़ा ठंडा करके पीएं।  

10. फरमेंटेड फूड 

हालांकि फरमेंटेड फूड या किण्वित खाद्य पदार्थ से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है, जो नाक के पीछे गले के ऊपरी हिस्से को प्रभावित करता है। हालांकि, अचार और अन्य किण्वित खाद्य पदार्थ ठीक हो सकते हैं, जब तक आप इसे ओवरडोज नहीं करते।

इसे भी पढ़ें: फेफड़ों के कैंसर से हर साल मरते हैं 60 लाख लोग, वजह है तम्‍बाकू! एक्‍सपर्ट से जानिए कैंसर के बचाव

डायबिटीज भी बन सकती है एक वजह 

लगभग 20 मिलियन लोगों के वैश्विक विश्लेषण ने हाल ही में डायबिटीज (टाइप 1 और टाइप 2) और कैंसर के जोखिम के बीच एक लिंक की पुष्टि हुई है। महिला डायबिटीज रोगियों में पुरुषों की तुलना में अधिक जोखिम पाया गया। शोधकर्ताओं का कहना है कि हाई ब्‍लड शुगर डीएनए म्यूटेशन को ट्रिगर कर सकता है जो कैंसर का खतरा बढ़ाते हैं।

Read More Articles On Cancer In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK