फोड़े-फुंसी से लेकर कैंसर तक को ठीक करते हैं नीम के पत्‍ते, जानें एक्‍सपर्ट की राय

फोड़े-फुंसी से लेकर कैंसर तक को ठीक करते हैं नीम के पत्‍ते, जानें एक्‍सपर्ट की राय

कैंसर का पता चलना किसी डरावने सपने से कम नहीं होता है। यह एक जीवनशैली बीमारी है, रोज़मर्रा की कई चीजें हैं जो आपके कैंसर के खतरे को बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाते हैं। विषाक्त पदार्थों के खतरों से दूर रहने के लिए

कैंसर का पता चलना किसी डरावने सपने से कम नहीं होता है। यह एक जीवनशैली बीमारी है, रोज़मर्रा की कई चीजें हैं जो आपके कैंसर के खतरे को बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाते हैं। विषाक्त पदार्थों के खतरों से दूर रहने के लिए एक स्वस्थ, रासायन मुक्त जीवन जीना महत्वपूर्ण है, इससे कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। कैंसर से खुद को सुरक्षित रखने के लिए इससे बचाव ही सबसे बेहतर तरीका है। इसके लिए प्राकृतिक तरीका अपनाना सबसे सुरक्षित विकल्‍प हो सकता है। इसमें दुष्‍प्रभाव का खतरा नहीं होता।  

 

वर्षों से, वैज्ञानिक और डॉक्टर प्राकृतिक और औषधीय रूप से कैंसर को रोकने के तरीकों पर शोध कर रहे हैं। ऐसा ही एक इलाज नीम के पत्तों के गुणों में पाया गया है। दुनिया भर में ऐसे अध्ययन किए गए हैं जो इस तथ्य का समर्थन करते हैं कि नियमित रूप से नीम के पत्तों का सेवन और उपयोग कैंसर के जोखिम को रोका जा सकता है। यह कई अलग-अलग प्रकार के कैंसर से भी आपकी रक्षा कर सकता है।

हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने हाल के दिनों में इसकी प्रभावकारिता को देखने के लिए संयंत्र का भी परीक्षण किया और पाया कि नीम के पत्तों में एक मजबूत फाइटोकेमिकल होता है जिसे निंबोलाइड के नाम से जाना जाता है, जो कैंसर से लड़ने वाले गुण प्रस्तुत करता है। इसमें मौजूद यौगिक का परीक्षण गला, अग्न्याशय और प्रोस्टेट कैंसर के लिए किया गया था, जिसमें महत्‍वपूर्ण सफलता मिली है।  

नीम को इतना मददगार क्यों माना जाता है?

एक तरफ नीम में कैंसर से लड़ने के गुण है तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय घरों में नीम का प्रयोग अलग-अलग उपचारों के लिए नीम का प्रयोग किया जाता रहा है। आयुर्वेद में नीम को "सर्व रोग निवारिणी" के रूप में जाना जाता है, जो सभी बीमारियों का समाधान कर सकता है। इसमें कई फायदेमंद और हीलिंग गुण होते हैं, जो चोट के इलाज, त्वचा विकारों या संक्रमण को रोकने, शरीर को डिटॉक्स करने और गैस्ट्रिक बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। नीम केवल एक पत्ती से अधिक है और इसके औषधीय गुणों के साथ इसे एक रामबाण या आधुनिक चिकित्सा चमत्कार कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें: सोने से पहले दूध में देशी घी डालकर पीने से दूर हो जाते हैं पेट के सारे रोग, और भी हैं कई फायदे

अपने सहायक गुणों के साथ, नीम प्रतिरक्षा को बढ़ावा देकर कीमोथेरेपी और विकिरण के दुष्प्रभावों का इलाज करने में भी मदद कर सकता है। जब शरीर कीमोथेरेपी के कठोर और मजबूत चक्रों से गुजरता है, तो प्रतिरक्षा से समझौता किया जाता है। नीम के पत्तों का सेवन करने से कैंसर से लड़ने में मदद मिल सकती है और यह आंत के स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाता है। कोशिकाओं को मजबूत बनाने से, यह किसी भी संभावित सूजन की संभावना को भी कम कर सकता है, जो कैंसर फैलने का गंभीर खतरा है। इसके एंटी-ऑक्सीडेंट और एंजाइम के बीमारी को दोबारा होने से रोकता है। 

इसे भी पढ़ें: गठिया का दर्द और सूजन को जड़ खत्‍म करता है कलौंजी का तेल, जानें अन्‍य फायदे

क्या नीम एक कैंसर-रोधी दवा है?

हालांकि नीम की कार्यप्रणाली परीक्षण जारी है, लेकिन इस बात से कोई इनकार नहीं है कि नीम के अर्क में आवश्यक गुण होते हैं जो आपके शरीर के लिए अच्छे होते हैं और कोशिका प्रजनन को भी बढ़ाते हैं। हालाँकि, इसके सभी लाभों के साथ नीम कुछ दुष्प्रभाव भी पैदा करता है। नीम के पत्ते और इससे निकाला गया तेल एक प्राकृतिक शुक्राणुनाशक है, जो शुक्राणुओं को मारता है। इसलिए, अक्सर यह सलाह दी जाती है कि चौथे या पांचवे महीने तक गर्भवती महिला किसी भी रूप में नीम का सेवन न करें क्योंकि इससे अनचाहे भ्रूण समाप्‍त हो सकते हैं। 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Ayurveda In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।