ब्रेस्टफीडिंग को लेकर शोध में हुआ बड़ा खुलासा, जानें एक्सरसाइज करना ब्रेस्ट मिल्क को कैसे कर सकता है प्रभावित

Updated at: Jul 29, 2020
ब्रेस्टफीडिंग को लेकर शोध में हुआ बड़ा खुलासा, जानें एक्सरसाइज करना ब्रेस्ट मिल्क को कैसे कर सकता है प्रभावित

मां का दूध इतना पौष्टिक होता है कि ये बच्चे के शरीर में कई खतरनाक बीमारियों के प्रति इम्यूनिटी पैदा कर सकता है। आइए जानते हैं इस शोध के बारे में।

Pallavi Kumari
लेटेस्टWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jul 29, 2020

शिशु के लिए उसकी मां के दूध से अच्छा कोई पौष्टिक भोजन नहीं है। स्तनपान करना न सिर्फ बच्चे के विकास में सहायक है, बल्कि यह उन्हें कई बीमारियों से भी दूर रखने में मदद करता है। साथ ही स्तनपान से शरीर में बनी हुई इम्यूनिटी बच्चे को जीवन भर काम आती है। वहीं हाल ही में आए शोध ने मां के दूध को और न्यूट्रिशल बनाने को लेकर बड़ा खुलासा किया है। साथ ही इस शोध में बताया गया है कि कैसे आप अपने स्तन के दूध को अधिक पौष्टिक बना सकते हैं। इतना ही नहीं ये शोध यह भी बताता है कि कैसे ये न्यूट्रिशल दूध बच्चे को मधुमेह, मोटापा और हृदय रोग जैसी गंभीर बीमारियों से बचा कर रख सकता है।

insidebreastfeedingbenefits

क्या कहता है ये शोध?

दरअसल अमेरिका में ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी के क्रिस्टिन स्टैनफोर्ड (Kristin Stanford from Ohio State University in the US) के एक नए अध्ययन के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान भी हल्के व्यायाम से स्तन के दूध में एक यौगिक बढ़ जाता है, जो डायबिटीज, मोटापा और हृदय रोग जैसे गंभीर स्वास्थ्य मुद्दों के एक बच्चे के आजीवन जोखिम को कम करता है। हालांकि हम सभी जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज करना बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार करता है पर ये कैसे होता है इसका जवाब इस अध्ययन में धिपा हुआ है। 

इसे भी पढ़ें :  World Breastfeeding Week 2020: कब और कैसे छुड़ाएं शिशु का स्तनपान? इन बातों का रखें ध्यान

जर्नल नेचर मेटाबॉलिज्म में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार, शोध के दौरान थमी रहने वाली माताओं से पैदा हुए चूहों का अध्ययन किया और उन्हें उन माताओं से दूध पिलाया जो पूरी गर्भावस्था में सक्रिय थीं। उन्होंने देखा कि सक्रिय मां के बच्चे के दूध पीने वाले चूहों में ज्यादा विकास हो रही था। शोधकर्ताओं ने लगभग 150 गर्भवती और प्रसवोत्तर महिलाओं के साथ गतिविधि ट्रैकर्स का पालन किया और पाया कि जिन लोगों के पास प्रति दिन अधिक स्टेप्स थे, उनके स्तन दूध में 3SL नामक यौगिक की एक बढ़ी हुई मात्रा थी। इस तरह पता चला कि ऐसी मांओं के दूध पीने वाले बच्चे ज्यादा स्वस्थ होते हैं।

मोडरेट एक्सरसाइज करना है फायदेमंद

शोधकर्ताओं का कहना है कि प्रेग्नेंसी के दौरान मोडरेट एक्सरसाइज करना मां के दूध में आवश्यक वृद्धि कर सकता है। इसलिए अगर प्रेग्नेंसी के दौरान कुछ नहीं कर रही हैं, तो आपको प्रतिदिन बस कुछ देर टहलने की कोशिश करनी चाहिए। इसके साथ ही गर्भावस्था के दौरान और बाद में व्यायाम संपूर्ण स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दे सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि प्रेग्नेंसी के दौरान सक्रिय रहना  आपको और आपके बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है।

insideexerciseforbreatfeeding

इसे भी पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग पर हावी न होने दें कोरोना का डर, दूध पिलाते वक्त इन बातों का रखें ध्यान

कई महिलाएं स्तनपान कराने या गर्भावस्था की जटिलताओं का अनुभव करती हैं, जिनमें बिस्तर पर आराम की आवश्यकता होती है। इसलिए, शोधकर्ता यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या वे सक्रिय माताओं के स्तन के दूध में पाए जाने वाले इस लाभकारी यौगिक को अलग कर सकते हैं और इसे शिशु फार्मूला में जोड़ सकते हैं। वे कहते हैं कि दूध में पाए जाने वाला ऑलिगोसैकराइड का बच्चों के स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। इसे सूत्र में जोड़ने से उन शिशुओं को भी लाभ मिल सकता है, जिनकी मां स्तनपान कराने में सक्षम नहीं हैं।

स्तनपान से कई फायदे होते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, यह जीवन के पहले वर्ष में अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम की दरों में उल्लेखनीय रूप से कमी ला सकता है और नवजात शिशु मृत्यु दर को भी कम कर सकता है। यह आपके बच्चे की प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और बाद में जीवन में एक्जिमा, अस्थमा और कई खाद्य एलर्जी जैसी बीमारियों के खतरे को कम करता है। इसके अलावा स्तनपान करवाना, आप बच्चे को टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह, लिम्फोमा और ल्यूकेमिया जैसी खतरनाक बीमारियों से भी बचा सकता है।

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK