• shareIcon

ज्‍यादा तनाव से बढ़ता है भूलने की बीमारी का खतरा

लेटेस्ट By एजेंसी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 07, 2013
ज्‍यादा तनाव से बढ़ता है भूलने की बीमारी का खतरा

strees ke karan ho sakate hai bhulakkad in hindi ; एक नये शोध में यह बाते सामने आयी है कि ज्‍यादा तनाव लेने से भूलने की बीमारी हो सकती है, जानिए इसके पीछे कौन से कारक जिम्‍मेदार हैं।

Stress Deteriorating Memoryज्‍यादा तनाव लेने से भूलने की बीमारी हो सकती है, हाल ही में हुए एक नये शोध में यह बात सामने आयी है कि महिलाओं में तनाव के चलते भूलने की बीमारी होने का खतरा बढ़ रहा है।


स्वीडेन की 800 महिलाओं पर शोध किया गया है, इसके लिए ऐसी महिलाओं को चुना गया जिनका तलाक हो चुका था या जो विधवा हो गईं थीं। इन महिलाओं में एक दशक के बाद अल्जाइमर से पीड़ित होने की आशंका जताई गई है।


बीएमजे ओपन की रिपोर्ट के अनुसार, ज्‍यादा तनावगस्‍त महिलाओं में भूलने की बीमारी बढ़ने की आशंका बढ़ती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक तनाव से जुड़े हार्मोन की वजह से दिमाग़ पर विपरीत असर पड़ता है।


इसके कारण शरीर में भी कई प्रकार के बदलाव होते हैं, इससे ब्लड प्रेशर और ब्लड सुगर बढ़ने लगता है। डॉ. लीना जॉनसन और उनके दल के चिकित्सकों का मानना है कि किसी हादसे से गुज़रने के बाद तनाव का स्तर बढ़ता है।


इस शोध में महिलाओं पर कई तरह के प्रयोग किए गए, करीब 35 से 45 साल की महिलाओं को कई परीक्षणों से गुजरना पड़ा और अगले चार दशक के दौरान नियमित समय अंतराल पर इन पर कई प्रयोग अभी और किए जाएंगे।


प्रत्येक चार में से एक महिला ने बताया कि वे दो बार तनाव के दौर से गुजरी हैं जबकि पांच में से एक महिला ने बताया कि वे तीन बार तनावपूर्ण दौर से गुजर चुकी हैं। हालांकि इस अध्ययन के दौरान इनमें से 425 महिलाओं की मौत हो गई जबकि 153 महिलाओं को भूलने की बीमारी हो गई।


डॉ. जॉनसन ने बताया कि, 'आने वाले दिनों के अध्ययन में यह आंकने की कोशिश होगी कि क्या तनाव सम्भालने के प्रबंधन और व्यवहारगत थेरेपी से भूलने वाली बीमारी का इलाज संभव होगा।'

 

 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK