• Follow Us

हकलाहट तथा तुतलाहट को सही करता है भ्रमण प्राणायाम, जानें करने की विधि और फायदे

Updated at: Feb 09, 2019
हकलाहट तथा तुतलाहट को सही करता है भ्रमण प्राणायाम, जानें करने की विधि और फायदे

हकलाहट और तुतलाहट ऐसी चीजें हैं जो व्यक्ति क अमूनन जन्म के साथ ही मिलती है। जो लोग हकलाते हैं उन्हें एक समय पर समाज में या अपने दोस्तों से बात करने में शर्म भी आती है और कई कमेंट्स का सामना भी करना पड़ता है। अक्सर देखा जाता है कि दवाओं के सेवन के

Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Feb 09, 2019

हकलाहट और तुतलाहट ऐसी चीजें हैं जो व्यक्ति क अमूनन जन्म के साथ ही मिलती है। जो लोग हकलाते हैं उन्हें एक समय पर समाज में या अपने दोस्तों से बात करने में शर्म भी आती है और कई कमेंट्स का सामना भी करना पड़ता है। अक्सर देखा जाता है कि दवाओं के सेवन के बावजूद लोगों की यह समस्या सही नहीं होती है। लेकिन भ्रमण प्राणायाम एक ऐसा तरीका है जिसके अभ्यास से हकलाहट और तुतलाहट की समस्या को सही किया जा सकता है। यह प्राणायाम का सबसे सरल रूप है। इसमें व्यक्ति अपनी सांस को विशेष प्रकार से अन्दर की ओर लेता है और फिर उसे बाहर की तरफ छोड़ता है। अपना स्वास्थ्य अच्छा रखने के लिए ये प्राणायाम से बेहतर कुछ नहीं है। प्राणायाम करने के कई सारे फायदे होते है। भ्रामरी प्राणायाम से जहां मन शांत होता है वहीं इसके नियमित अभ्यास से और भी बहुत से लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। आज हम आपको भ्रमण प्राणायाम करने का तरीका और इसके लाभ व सावधानियां बता रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें : फेफड़ों, कमर और कंधों के लिए फायदेमंद है आकर्ण धनुरासन, जानें कैसे करें ये आसन

भ्रमण प्राणायाम कैसे करें  

भ्रमण प्राणायाम करते हुए शरीर को सीधा रखें और सांस धीरे-धीरे लें। सांस लेते हुए मन में 1 से 4 तक की गिनती करें और पूर्ण रूप से सांस लेने के बाद ही सांस छोड़ें। मन में संख्या की गिनती करें। इस प्राणायाम में सांस लेने से अधिक समय सांस छोड़ने में लगाना चाहिए। इस क्रिया में पहले चलते हुए सांस को 4 से 5 कदम तक रोक कर रखें और फिर छोड़ें। इसके बाद धीरे-धीरे सांस रोकने की क्षमता को बढ़ाते हुए 10 से 15 बार तक करें। शुरूआत में इस क्रिया का अभ्‍यास आघे घंटे तक कीजिए। यानी टहलने की शुरुआत में 2 मिनट, बीच में 2 मिनट और अंत में 2 मिनट तक अभ्यास करें। इसके बाद समय को बढ़ाते हुए 4-4 मिनट पर 3 बार करें।

इस बात का रखें विशेष ध्यान

सांस लेने व छोड़ने की क्रिया सामान्य रूप से करें। इसके अभ्यास को अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार ही बढ़ाएं। इस प्राणायाम के अभ्यास के समय सीने के बाईं ओर जरा सा भी दर्द महसूस हो तो समझ लें कि अभ्यास आपकी शारीरिक क्षमता से अधिक हो रहा है। ऐसी स्थिति में कुछ समय तक अभ्यास बंद करके आराम करें और ठीक होने के बाद दुबारा इसे शुरू करें।

भ्रमण प्राणायाम के 5 जबरदस्त फायदे

  • भ्रमण प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है तथा फेफड़ों में मजबूती आती है।
  • जो लोग इसका अभ्यास करते है उनका दिल मजबूत होता है साथ ही साथ दिल का दौरा पड़ने की संभावना कम होती है।
  • इसे करने से बालो का झड़ना, सफ़ेद होना आदि समस्याए दूर होती है। बालों की समस्या दूर करने के लिए इसे जरुर करना चाहिए।
  • इसका नियमित अभ्यास कई तरह के रोगों का बचाव जैसे की टीबी, क्षयरोग, श्‍वांस संबंधी बीमारी, टायफाइड आदि से बचाव होता है।
  • भ्रामरी प्राणायाम करने से मन शांत होता है और तनाव दूर होता है। इस ध्वनि के कारण मन इस ध्वनि के साथ बंध सा जाता है, जिससे मन की चंचलता समाप्त होकर एकाग्रता बढ़ने लगती है।
  • यह मस्तिष्क रोगों में भी लाभदायक है। इसके अलावा यदि किसी योग शिक्षक से इसकी प्रक्रिया ठीक से सीखकर करते हैं तो इससे उच्च-रक्तचाप सामान्य होता है।
  • हकलाहट तथा तुतलाहट भी इसके नियमित अभ्यास से दूर होती है। इससे पर्किन्सन, लकवा, इत्यादि स्नायुओं से संबंधी सभी रोगों में भी लाभ पाया जा सकता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Exercise and Fitness In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK