Ayurvedic Treatment Of Constipation: पुरुषों में कब्ज की सम्स्या दूर करेंगे ये आयुर्वेदिक उपचार, पाएं राहत

Updated at: Mar 27, 2020
Ayurvedic Treatment Of Constipation: पुरुषों में  कब्ज की सम्स्या दूर करेंगे ये आयुर्वेदिक उपचार, पाएं राहत

कब्ज की परेशानी पुरुषों के लिए मुश्किल का सबब बन सकती है, इसलिए इसका जल्दी ठीक होना बहुत जरूरी है। आयुर्वेद से ऐसे ठीक करें कब्ज

Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 27, 2020

आपके दिन की शुरुआत आपके पूरे दिन को प्रभावित कर सकती है और सुबह-सुबह कब्ज से लड़ने से बुरा कुछ नहीं हो सकता है। पेट में भारीपन और फूलने की भावना के साथ, कब्ज आपके बदलते मिजाज का कारण बन सकता है और आपका ध्यान किसी काम पर भी नहीं लगेगा। हालांकि बाजार में कुछ चीजें ऐसी हैं, जो आपको अस्थायी रूप से राहत प्रदान कर सकती हैं लेकिन समय के साथ ये समस्या को और खराब हो सकती है। इसके बजाय आप दवाओं के बिना घरेलू उपचार के जरिए कब्ज की समस्या से राहत पा सकते हैं। इसलिए अगर आप लगातार इस समस्या से परेशान रहते हैं तो जीवनशैली में कुछ सरल बदलाव और घरेलू उपचार के साथ आप इस विकार से निजात पा सकते हैं। 13 वर्षों से ज्यादा का अनुभव रखने वाली डॉ. प्रीति मंगेश देशमुख आपको आयुर्वेद के जरिए कब्ज की समस्या से राहत पाने का तरीका बता रही है। तो आइए जानते हैं। 

constipation

5 आयुर्वेदिक टिप्स, जो कब्ज से दिलााएंगे राहत 

खूब फाइबर खाएं

खराब डाइट कब्ज को बढ़ाने वाला एक प्रमुख कारक है। फाइबर न केवल आपका पेट भरता है, बल्कि आपके मल को हल कर बाहर निकलने में आसान बनाता है। एक व्यक्ति को आदर्श रूप से एक दिन में 20-40 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए। अगर आप भी लंबे समय से कब्ज से पीड़ित हैं, तो आप इस मात्रा को थोड़ा बढ़ा सकते हैं। अपनी फाइबर की मात्रा बढ़ाने का एक आसान तरीका यह सुनिश्चित करना है कि आप हर भोजन के साथ कच्चे सलाद में कुछ न कुछ लेते रहें। अन्य खाद्य पदार्थ जो फाइबर से भरपूर होते हैं उनमें ओट्स, बादाम, अनाज, बीन्स, दाल और फल शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ेंः Kidney Stone Treatment with Ayurveda: गुर्दे की पथरी कर रही परेशान तो घर पर इन 5 तरीकों से निकालें बाहर

अदरक या पुदीने की चाय

अदरक एक ऐसी जड़ी बूटी है, जिसमें शरीर को गर्मी देने वाले तत्व पाए जाते हैं। अदरक की चाय आपके शरीर में अधिक आंतरिक गर्मी पैदा करने में मदद कर सकती है। यह पाचन प्रक्रिया को सक्रिय करने में मदद करता है और जिससे कब्ज से राहत मिलती है। वहीं पुदीना में मेन्थॉल का एंटीस्पास्मोडिक प्रभाव होता है जो पाचन तंत्र की मांसपेशियों को आराम करने में मदद करता है। इस तत्व के कारण मल का बाहर निकलना आसान हो जाता है।  कुकरौंधा (Dandelion) चाय का उपयोग हल्के प्राकृतिक रेचक (लैक्सेटिव) के रूप में भी किया जा सकता है।

अरंडी का तेल

अरंडी का तेल एक प्रसिद्ध प्राकृतिक लैक्सेटिव है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस तेल के घटकों में से एक छोटी और बड़ी आंत को उत्तेजित करने में मदद करता है। अरंडी के तेल का ज्यादा लाभ पाने के लिए खाली पेट 1 या 2 चम्मच तेल पीएं। नियमित रूप से ऐसा करने पर आप लगभग 8 घंटे के भीतर मल पास करने में सक्षम होंगे। 

इसे भी पढ़ेंः Kidney Stone Causes: गुर्दे में पथरी का कारण बन सकता है पानी न पीना, जानिए क्‍या है पथरी होने की वजह

खूब पानी पीएं

पानी न केवल शरीर को हाइड्रेट करता है, बल्कि पाचन तंत्र के साथ भोजन को स्थानांतरित करने में भी मदद करता है। पर्याप्त पानी नहीं पीने से मल कठोर और कठिन होने की संभावना है। आदर्श रूप से, आपको दिन में कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए। इस गिनती के हिस्से के रूप में सोडा या कोल्ड ड्रिंक या फिर मीठे पेय की गिनती न करें क्योंकि वे वास्तव में आसानी के बजाय कब्ज पैदा कर सकते हैं।

गर्म नींबू पानी

नींबू का रस पाचन तंत्र को उत्तेजित करने में मदद करता है और इसलिए कब्ज के इलाज के लिए इसे आदर्श पेय कहा जाता है। जब गर्म पानी में नींबू मिलाया जाता है, तो यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद कर सकता है। इस मिश्रण में थोड़ा सा शहद मिलाना भी हल्के लैक्सेटिव के रूप में काम कर सकता है। वैकल्पिक रूप से, आप शहद के स्थान पर नमक डाल सकते हैं क्योंकि यह आंत की मांसपेशियों के संकुचन को प्रोत्साहित करता है और मैग्नीशियम से समृद्ध होता है।

Read More Articles On Ayurveda in Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK