शिशु की मालिश के लिए करें ग्रेपसीड ऑयल (अंगूर के बीज का तेल) का प्रयोग, शरीर और बालों को मिलेंगे कई फायदे

शिशुओं की मालिश के लिए ग्रेपसीड ऑयल एक बेहतर ऑप्शन हो सकता है। इसके इस्तेमाल से स्किन को कई फायदे होते हैं। चलिए जानते हैं इस बारे में -

 

Kishori Mishra
नवजात की देखभालWritten by: Kishori MishraPublished at: Jul 30, 2021
Updated at: Jul 30, 2021
शिशु की मालिश के लिए करें ग्रेपसीड ऑयल (अंगूर के बीज का तेल) का प्रयोग, शरीर और बालों को मिलेंगे कई फायदे

शिशुओं की स्किन बड़ों की स्किन से काफी ज्यादा नाजुक होती है। ऐसे में उनकी त्वचा के लिए एक्स्ट्रा केयर की जरूरत होती है। माता-पिता को अपने शिशुओं की स्किन का खास ध्यान रखना चाहिए, ताकि उनकी स्किन पर किसी तरह की परेशानी न हो। इसलिए शिशुओं की स्किन पर केमिकल्सयुक्त प्रोडक्ट के बजाय नैचुरल प्रोडक्ट्स लगाने की कोशिश करें ताकि उन्हें स्किन से जुड़ी परेशानियां न हों। खासतौर पर शिशुओं  की ऐसे तेल से मालिश (Best Baby Masssage Oil) करें, जिससे उनकी स्किन की कोमलता बरकरार रहे और उन्हें रैशेज जैसी परेशानियां न हों। ऐसे ही तेलों में से एक है ग्रेपसीड ऑयल। जी हां, ग्रेपसीड ऑयल (Grapeseed oil) का इस्तेमाल करने से शिशुओं की स्किन को काफी ज्यादा फायदा होता है। चलिए जानते हैं इस बारे में विस्तार से-

शिशुओं को ग्रेपसीड ऑयल लगाने के फायदे

स्किन को रखता है सुरक्षित

हम सभी जानते हैं कि शिशुओं की स्किन काफी ज्यादा नाजुक होती है। ऐसे में उन्हें भरपूर नमी और पोषक की जरूरत है। मार्केट्स में मौजूद कुछ तेलों से उनकी मालिश करने से स्किन पर रैशेज और एलर्जी की शिकायत हो सकती है। ऐसे में ग्रेपसीड ऑयल का इस्तेमाल करना आपके शिशुओं के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है। यह एसेंशियल ऑयल लिनोलिक और ओलेइक से भरपूर होता है, जो शिशुओं की स्किन को सुरक्षित रखने में आपकी मदद करता है। 

इसे भी पढ़ें - 2-3 माह का शिशु नहीं कर रहा है ये 9 हरकतें तो तुरंत कराएं चेकअप, वरना हो सकती हैं जन्मजात समस्याएं

रुखी स्किन से करे बचाव

शिशुओं की स्किन काफी ज्यादा नाजुक होती है। ऐसे में उनकी स्किन पर इंफेक्शन और ड्राईनेस होने का खतरा काफी ज्यादा रहता है। हल्की-फुल्की गर्म और ठंड हवाओं से शिशुओं की स्किन काफी ज्यादा ड्राई होने लगती हैं। ऐसे में ग्रेपसीड ऑयल का इस्तेमाल करना काफी अच्छा साबित हो सकता है। यह ऑयल शिशुओं की स्किन में काफी आसानी से समा जाता है। इससे उनकी स्किन पर चिपचिपाहट नहीं होती है। साथ ही ड्राई स्किन से भी राहत मिलता है।

बच्चों को रखे हेल्दी

ग्रेपसीड ऑयल से बच्चों की मालिश करने से शिशु हेल्दी रहता है। दरअसल, ग्रेपसीड ऑयल एंटीऑक्सींडेट, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटी माइक्रोबॉयल और एंटी एलर्जिक गुणों से भरपूर होता है। यह तेल शिशुओं की त्वचा को हेल्दी बनाए रखने के साथ-साथ शारीरिक विकास करने में भी असरदार साबित होता है। इस तेल के इस्तेमाल से शिशुओं की एक्जिमा से जुड़ी परेशानियां दूर होती हैं। 

इसे भी पढ़ें - क्या आपका बच्चा भी खाता है मिट्टी या चॉक? इन आसान उपायों से छुड़ाएं मिट्टी की लत

शिशुओं के बालों के लिए है बेहतर

स्किन की तरह बालों को सॉफ्ट और चमकदार बनाए रखने में ग्रेपसीड ऑयल काफी फायदेमंद है। यह शिशुओं के नाजुक बालों को मजबूती प्रदान करता है। शिशुओं की स्कैल्प काफी नाजुक होती है। अगर आप उनके बालों पर इस तेल का इस्तेमाल करते हैं, तो इससे क्रैडल कैप जैसी आम समस्याओं से राहत पाया जा सकता है। इस तेल से आप शिशुओं के सिर से बाल तक मालिश कर सकते हैं। 

ग्रेपसीड ऑयल इस्तेमाल करते समय बरतें ये सावधानियां

  • बच्चों को जरूरत से ज्यादा तेल न लगाएं। इसका सीमित मात्रा में ही इस्तेमाल करें। 
  • बच्चों को तेल लगाने से पहले एक बार डॉक्टरी सलाह जरूर लें। 
  • मसाज के सही तरीकों को फॉलो करें, ताकि शिशु को अधिक से अधिक फायदा हो सके।

शिशुओं की मालिश के लिए हमेशा नैचुरल तेल का इस्तेमाल करें। ताकि आप उनके स्किन को सुरक्षित रख सकें। डॉक्टर की सलाह पर ही अच्छे से अच्छे तेल का चुनाव करें। मार्केट्स में मौजूद तेल का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह के बिना न करें। क्योंकि इससे उनकी स्किन पर बुरा असर पड़ सकता है।

Image Credit - Pinterest

Read more Articles on Newborn Care in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK