एसेन्ट्रिक एक्‍सरसाइज से पाएं घंटों का लाभ मिनटों में

एसेन्ट्रिक एक्‍सरसाइज से पाएं घंटों का लाभ मिनटों में

एसेन्ट्रिक एक्‍सरसाइज में आपको जिम में घंटों पसीना बहाने की जरूरत नहीं है। आपको बस व्‍यायाम का एक खास तरीका अपनाना है और कम मेहनत में आप पा सकते हैं एक कसरती शरीर। एक ऐसा शरीर जिसकी चाह आपको बरसों से है।

हफ्ते में बस एक दिन और वो भी सिर्फ आधा घंटा। बस इतनी सी करसत करके आप सकते हैं गठीला बदन। जानिए कौन से ऐसे व्‍यायाम हैं जो आपको देंगे जिम जैसी बॉडी और भी कम पसीना बहाये। व्‍यायाम आपकी सेहत और सूरत दोनों को दुरुस्‍त रखता है। कुछ लोग एक्सरसाइज की शुरुआत तो कर लेते हैं, लेकिन जल्‍द ही इससे ऊब जाते हैं। उन्‍हें यह मेहनत थका देने वाली और समय नष्ट करने वाली लगती है। लेकिन एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज से आप जिम में घंटो पसीना बहाने के मुकाबले बेहतर नतीजे पा सकते हैं। इस लेख को पढ़ें और एसेन्ट्रिक एक्सिरसाइज तथा इसके फायदों के बारे में जानें।

यदि आपसे कहा जाए कि हफ्ते में एक दिन और बस आधा घंटा एक्सरसाइज करना और हफ्ते भर जिम में पसीना बहाने के लाभ बराबर हैं तो। शायद आपको यकीन न आए। लेकिन ऐसा सम्‍भव है। जी हां ' मेडिसिन एंड साइंस इन स्पोर्ट्स एंड एक्सरसाइज' नामक जनरल में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि प्रत्येक सप्ताह 30 मिनट "एसेन्ट्रिक एक्सिरसाइज' कर आप रोज घंटा भर एरोबिक और जिमिंग करने वाले लोगों के बराबर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किया जा सकता है। रिपोर्ट बताती है कि एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज रक्त लिपिड स्तर (कोलेस्ट्रॉल) और ट्राइग्लिसराइड्स को घटाने की क्षमता रखती है, साथ ही रैस्टिंग ऊर्जा क्षमता की खपत को भी बढ़ाती है।

 




एसेन्ट्रिक एक्‍सरसाइज क्या है


जब हाथों की एक्सरसाइज के समय आप अपनी बाजू को मोड़ते हैं तो यह गतिविधि 'कॉन्सेंट्रिक' कहलाती है। इस गतिविधि में आपके बाइसेप की मांसपेशियों में संकुचन होता है। और जब आप हाथ को दोबारा सीधा करते हैं तो यह क्रिया 'एसेंट्रिक" कहलाती है। इस गतिविधि में बाइसेप की मांसपेशियों का फैलाव होता है। सामान्य एक्सरसाइज में मांसपेशियों पर परिश्रम कर जोर डाला जाता है। ऐसी एक्साइज को कॉन्सैन्ट्रिक एक्सरसाइज कहा जाता है। उदाहरण के लिए 'बाइसेप-कर्ल' करते समय आप वजन को अपने हाथों को धीरे से झुकाकर पकड़ते हैं और फिर जल्दी से शुरुआती स्थिति में लौटते हैं। लेकिन, इस एक्‍सरसाइज को उल्टे क्रम में किया जाता है। इसी को एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज कहते हैं। जिसके फायदे लाजवाब है।


एसेन्ट्रिक एक्‍सरसाइज के लाभ

यह माना जाता है कि एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज आणविक (मॉलीक्यूलर) स्तर पर तेजी से मांसपेशियों को बढ़ाती है। और साथ ही उन्‍हें मजबूत बनाता है। परिणामस्वरूप शरीर को अधिक रैस्टिंग ऊर्जा और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, ताकि वह मांसपेशियों को मजबूत कर सके।

एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज के कुछ अन्य लाभ भी हैं, जैसे एसेन्ट्रिक एक्सरसाइज कर आप कम समय में ही व्यायाम के अधिक लाभ ले सकते हैं। भागदौड़ भरी जिंदगी में भी एक्सरसाइज कर सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं।

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK