• shareIcon

मानसून में बच्‍चों का रखें खास ख्‍याल

परवरिश के तरीके By रीता चौधरी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 21, 2012
मानसून में बच्‍चों का रखें खास ख्‍याल

इस मौसम में सूती कपड़े बच्‍चों के लिए ज्‍यादा अच्‍छे रहेंगे।

Baby care in monsoon in hindi

बरसात के मौसम और बचपन की यारी तो बहुत खूब होती है। तेज गर्मी के महीनों के बाद मौसम में आया बदलाव राहत की बौछारें लेकर आता है। हवा के तेज झोंकों के साथ बारिश होना.. ऐसे में भला किसका दिल नहीं चाहेगा इस मौसम का आनंद उठाने का। और बच्‍चे उनकी तो बात ही कुछ और है। उनके लिए तो बारिश कुछ ज्यादा ही खास होती है। वे खेल-खेल में ही बार-बार अपने कपड़े गीला करते हैं। लेकिन एक ओर जहां यह बरसात ठंडक और मस्‍ती लेकर आती है, वहीं साथ ही यह अपने साथ लाती है ढ़ेरों बीमारियां।  ऐसे में पैरेट्स जरा सी सावधानी बरतें तो बच्चे भी खुलकर इस मौसम का मजा उठा सकते हैं।
 
बरसात में बच्‍चों में होने वाली आम बीमारियां-
 
बच्चों का इम्युन सिस्टम बड़ों से कमजोर होता है, ऐसे में उनमें इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है। बरसात में डायरिया, दस्त, जॉन्‍डिस (पीलिया), वायरल फीवर, टायफाइड, सर्दी-खांसी आम बीमारियां हैं। इनमें जॉन्डीस और टायफायड से बच्चे विशेष रूप से प्रभावित होते हैं। इसलिए बरसात के मौसम में कुछ बातों का ख्याल रखें।
 
 
बच्चों का रखें खास ख्याल-
 
·         बच्‍चों को बारिश में ज्यादा न भीगने दें।

·         बच्‍चों को ज्‍यादा देर भीगे हुए कपड़ों में न रहने दें।

·         अगर बच्‍चे बरसात में भीग भी जाते हैं तो उनका सिर और बदन अच्‍छे से पोंछकर रखें।
 
·         बाजार में बिकने वाली खुली चीजों को बच्‍चों को बिल्‍कुल ना खाने दें। इसके अलावा कच्चा और ठंडा खाना भी ना खिलाएं।
 
·         बच्‍चों को पानी उबालकर या फिल्‍टर करके ही दें। स्कूल जाने वाले बच्चों को इस मौसम में घर से पानी की बोतल देकर ही भेजे।
 

·         बच्‍चों के हाथों एवं नाखूनों की सफाई पर विशेष ध्यान दें।
 

·         बच्चों में हर बार खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद साबुन से हाथ धोने की आदत डालें।
 

·         मच्छरदानी का प्रयोग जरूर करें।
 

·         जॉन्डीस से बचाने के लिए छोटे बच्चों को टीका लगवाना ना भूले।
 

·         तीन-तीन साल के अंतराल पर बच्चों को टायफाइड का टीका लगवाएं।

 

इस मौसम में सूती कपड़े बच्‍चों के लिए ज्‍यादा अच्‍छे रहेंगे।

·         छोटे बच्चों की स्किन बहुत सेंसेटिव होती है, लिहाजा उन्हें नहलाने के बाद कोई भी लोशन बिना चिकित्‍सीय सलाह के न लगाएं। इससे रैशेज हो सकते हैं।
 

·         इस मौसम में मच्छरों की भरमार होती है, इसलिए बच्चों को फुल पैंट या पूरी बाजू के कपड़े पहनाएं।
 
 
 
बच्‍चों की इम्युनिटी को बढ़ाएं-
 

खानपान का खास ख्याल रखकर बच्चों में इम्युनिटी को बढ़ाया भी जा सकता है। इसके लिए बच्‍चों को हाई प्रोटीन डाइट देनी चाहिए।          
 
·         बच्‍चों को दाल व अन्‍य हल्‍का भोजन खिलाएं। यदि आप चाहें तो अंडों को नाश्‍ते में शामिल करना एक अच्‍छा विकल्‍प होगा।
 

·         बच्‍चों को सीजनल फ्रूट जैसे मौसमी और संतरे जरूर दें। इनमें विटामिन सी होता है जो  इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करता है।
 

·         इसके अलावा लूज मोशन हो जाएं तो डीहाइड्रेशन न होने दें। ओआरएस का घोल दें, इसके अलावा दाल या चावल का पानी पिलाएं।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK