Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

हाइपोथायरायडिज्म का आयुर्वेदिक उपचार

एक्सरसाइज और फिटनेस
By सम्‍पादकीय विभाग , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 15, 2011
हाइपोथायरायडिज्म का आयुर्वेदिक उपचार

जैसा की आप सभी जानते हैं थायरॉयड ग्रंथि  हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण ग्रंथि है, जो हमारे शरीर को बेहतर कार्य करने में मदद करती हैं। इस ग्रंथि द्वारे निष्पादित किये जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कार्यों की सूची में, हमारे शरीर द्वारा ऊर्जा क

Hypothyroidism ka ayurvedic upchaar in hindiजैसा की आप सभी जानते हैं थायरॉयड ग्रंथि  हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण ग्रंथि है, जो हमारे शरीर को बेहतर कार्य करने में मदद करती हैं। इस ग्रंथि द्वारे निष्पादित किये जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कार्यों की सूची में, हमारे शरीर द्वारा ऊर्जा के उपयोग को नियंत्रित करना, शरीर के कामकाज के लिए प्रोटीन बनाना और चयापचय दर का विनियमन करना यह कुछ नाम शामिल हैं।


हाइपोथायरायडिज्म तब होता हैं, जब हमारे शरीर में थायराइड हार्मोन की कमी होती हैं - एक परिस्थिती  जिसमें  थायरॉयड ग्रंथि पर्याप्त थायराइड हार्मोन का उत्पादन नहीं कर सकती हैं। हाइपोथायरायडिज्म के तरफ लापरवाही से  नही बरतनी चाहिए, और इसलिये इसका जितना जल्दी संभव हो इलज करना  जरूरी है हाइपोथायरायडिज्म के लिए उपचारों में आयुर्वेदिक इलाज एक उपचार है। चलों हम इस उपचार के विकल्प को  विस्तार से जानते हैं।

हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोग थकान और हार्मोनल असंतुलन  से पीड़ित होते हैं।  अगर वे खुद को पूरी तरह से ठीक करना चाहते हैं तो उनको अपने आहार पे और उनके दवाईंयों पे ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती हैं। आयुर्वेद निम्नलिfखित भी कहता हैं –

  • हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों को दूध का उपभोग करना चाहिए।
  • हाइपोथायरायडिज्म के उपचार में सहायता के लिए इन लोगों को कुछ विशिष्ट सब्जियां जैसे ककडी बडी मात्रा में खाने को भी कहा जाता हैं।
  • मूंग की दाल और चने की दाल की तरह दलहन हाइपोथायरायडिज्म के उपचार में मदद करते हैं।
  • चावल और जौ खाए।
  • योग थायरॉयड ग्रंथि को स्थिर करने में मदद करता है। सर्वांगासन और सुर्यनमस्कार जैसे विभिन्न आसन थायरॉयड ग्रंथि को पर्याप्त थायराइड हार्मोन का उत्पान करने में मदद करते हैं।
  • थायराइड हार्मोन का अधिक उत्पादन करने में प्राणायाम थायरॉयड ग्रंथि को मदद करता है।
  • गोक्षुरा, ब्राम्ही,जटामासी,पुनरवना जैसी कई जड़ी बूटियाँ हाइपोथायरायडिज्म के लिए आयुर्वेदिक इलाज में उपयोग की जाती हैं।
  • आयोडीन की कमी के कारण हाइपोथायरायडिज्म होता हैं। आयोडीन की उच्च मात्रा होनें वाले खाद्य पदार्थ खाने सें इस हालत में सुधार होने में मदद मिलेगी।
  • हायपोथायरायडिज्म के लिए आयुर्वेदिक इलाज में महायोगराज गुग्गुलु और अश्वगंधा  के साथ  भी इलाज किया जाता हैं।


उचित उपचार  और एक उचित आहार के साथ नियमित रूप से व्यायाम की मदद के साथ हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोग जल्दी ठीक हो सकते हैं। आपकी थायरॉयड ग्रंथि आपके एक स्वस्थ लंबे जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती हैं, यह हमेशा याद रखें। हाइपोथायरायडिज्म सबसे आम  बिमारी है और शुक्र है की इसपर कई उपचार उपलब्ध हैं ।

हालांकि, इस हालत का समय में इलाज किया जाना जाना उतना ही महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि इस समस्या के उपचार में विफलता आने से व्यक्ति  में गंभीर स्वास्थ्य जटिलताऐं विकसित हो सकती हैं।


अपने उपचार के अच्छे परिणाम मिलने के लिए अपने आप की अच्छी देखभाल करना याद रखे। अपने उपचार पर भरोसा रखे और आपके डाँक्टर दिये निर्देषो का पालन करे, जिससे आप एक लंबे समय तक आनंदमय और स्वास्थ्यमय जिवन बिता सकते हैं।

 

 

Written by
सम्‍पादकीय विभाग
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागSep 15, 2011

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Trending Topics
More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK