इन 3 चीजों के कारण तेजी से बढ़ता है आपका वजन, इन्हें कंट्रोल करने के लिए आजमाएं ये खास आयुर्वेदिक टिप्स

Updated at: Sep 23, 2020
इन 3 चीजों के कारण तेजी से बढ़ता है आपका वजन, इन्हें कंट्रोल करने के लिए आजमाएं ये खास आयुर्वेदिक टिप्स

वजन घटाने के लिए असल में आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं, बस आपको अपने शरीर में इन तीन चीजों को हेल्दी रखना है।

Pallavi Kumari
वज़न प्रबंधनWritten by: Pallavi KumariPublished at: Sep 23, 2020

वजन घटाना के लिए सिर्फ डाइट और एक्सरसाइज करना ही जरूरी नहीं है, बल्कि शरीर के कुछ अंगों को ठीक रखना भी बेहद जरूरी है। दरअसल वजन बढ़ने की परेशानी की शुरुआत पेट के खराब स्वास्थ्य से ही शुरू होती है। आपका गलत खाना शरीर में खराब फैट के संचय को बढ़ाता है, जिससे धीमे-धीमे टिशूज में फैट जमता है और फिर ये शरीर के अलग-अलग में जमा हो जाते हैं। खराब पेट की तरह ही कुछ चीजें और भी होती हैं, जो कि वजन बढ़ाने में  छिपे हुए कारकों की तरह की काम करते हैं। आज हम आपको इन्हीं कारकों के बारे में विस्तार से बताएंगे कि कैसे ये वक्त के साथ आपका वजन बढ़ाता है और आपको इसका पता भी नहीं होता। साथ ही हम आपको इन्हें कंट्रोल करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक टिप्स भी बताएंगे।

insideguthealth

वजन बढ़ाने वाले 3 छिपे हुए कारक

1.माइक्रोबायोटा का खराब होना

गट हेल्थ के बारे में हम में से ज्यादातर लोग जानते भी नहीं है, जबकि इसका ठीक होना वजन घटाने के लिए बेहद जरूरी है। दरअसल हमारे आंतों में कुछ गुड बैक्टीरिया रहते हैं, जिनका ,संतुलन बिगड़ जाने से पाचनतंत्र सही से काम करना बंद कर देता है। सामूहिक रूप से उन्हें गुत माइक्रोबायोटा के रूप में जाना जाता है और यह आपके संपूर्ण स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसे में अगर आपको वजन कम करना है, तो सबसे पहले इसके ठीक करने की कोशिश करें। ज्यादा से ज्यादा फर्मेंडेट चीजों का सेवन करें, जो कि गट बैक्टीरिया के विकास में मदद करते हैं। 

आयुर्वेदिक उपाय

आयुर्वेद में, गट बैक्टीरिया को ठीक रखने के लिए कच्चे फल खाने और पकी या उबली हुई सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है। वहीं अन्य ऐसे अस्वास्थ्यकर संयोजनों को मिश्रित करने वाली स्मूदी पीने से पूरी तरह से बचें जो शरीर में अमा या विषाक्त पदार्थों के संचय का कारण बनते हैं। वहीं आप दही और बासी चावल खा सकते हैं, जो कि पेट में इन बैक्टीरिया का विकास करेगा। साथ ही सूजन को कम करने के लिए अजवाइन का रस में काला नमक और नारियल के तेल मिला कर के साथ ले सकते हैं। ये आसानी से वजन घटाने में आपकी मदद करेगा।

इसे भी पढ़ें : वेट लॉस से जुड़े इन फैक्ट्स पर विश्वास करना होगा मुश्किल, मोटापा छोड़ फिट दिखना चाहते हैं तो जानें इन्हें

2.चपाचय का खराब होना

चपाचय यानी कि मेटाबॉलिज्म का खराब होना, आपकी पाचन क्षमता को खराब कर देता है। इससे आप जो भी खाएंगे वो सही से पचेगा नहीं और शरीर का वेस्ट शरीर में ही संचित होने लगेगा। इस तरह धीमे-धीमे आपका वजन बढ़ता ही जाएगा। तेजी से खाना खाना या कम पानी पीना इसके पीछे एक बड़ा कारण हो सकता है। वहीं गलत जीवनशैली को जीना और बहुत ज्यादा फैट से भरपूर चीजों को खाना भी आपके मेटाबॉलिज्म को धीमे-धीमे खराब कर देता है।

आयुर्वेदिक उपाय

मेटाबॉलिज्म को ठीक रखने के लिए सुबह-सुबह एक हर्बल मसालेदार चाय या गर्म काढ़ा बनाएं। आप 500 मिलीलीटर पानी में 1 टीस्पून जीरा, 1 टीस्पून सौंफ के बीज, 1 टीस्पून धनिया के बीज, 1 इलायची और एक चुटकी गाजर के बीज उबाल लें। इस खूब उबालने के बाद इसमें नमक और नींबू के कुछ बूंद मिला लें। अब रोज सुबह इसे पिएं। ये ब्लोटिंग और अपच से छुटकारा दिला देगा।

insidegreentea

इसे भी पढ़ें : Dieting Mistakes: डाइटिंग करते समय की जाने वाली कुछ गलतियां और उनसे बचने के उपाय

3. लिवर और किडनी को अस्वस्थ रखना

आपका बिना सोचे समझे खाना-पीना आपके लिवर और किडनी को और खराब कर सकता है। वहीं लिवर और किडनी का सही से न काम करने से शरीर में विष्कात पदार्थ जमा हो जाते हैं। इससे भी तेजी से वजन बढ़ता है। इसलिए इन दोनों को ठीक करने के लिए खूब पानी पिएं और इस आयुर्वेदिक नुस्खे को अपनाएं

आयुर्वेदिक उपाय

रोज सुबह गर्म पानी में नमक, नींबू और घी मिला कर इसका सेवन करें। ये आपके शरीर से अपशिष्ट चीजों के बहाव को बेहतर बनाने में मदद करेगा। अगर आप एक दुबले शरीर यानी कि एक्टोमॉर्फ या मध्यम शरीर यानी कि मेसोमोर्फ हैं, तब भी ये नुस्खा आपकी मदद करेगा। 

ये तीनों चीजें एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं, अगर एक में परेशानी होगी तो दूसरे में भी ये परेशानी बढ़ती चली जाएगी। इसलिए आप पाचन तंत्र को चिकना करने और कब्ज के मुद्दों को खत्म करने के लिए इन आयुर्वेदिक नुस्खों को अपनाएं और अपने पेट को चुस्त दुरुस्त रखें। इस तरह ये वजन घटाने में आपकी तेजी से मदद करेगा।

Read more articles on Weight-Management in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK