थायरॉइड, डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मरीज इन आहारों से रहें दूर, जानिए किस तरह की डाइट है फायदेमंद

Updated at: Sep 03, 2020
थायरॉइड, डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मरीज इन आहारों से रहें दूर, जानिए किस तरह की डाइट है फायदेमंद

अगर आप थायरॉइड, डायबिटीज और हाइपरटेंशन की समस्‍या से परेशान हैं तो आपको अपनी डाइट में विशेष ध्‍यान रखने की आवश्‍यकता है।

Atul Modi
स्वस्थ आहारWritten by: Atul ModiPublished at: Sep 03, 2020

इंटरनेट हेल्‍थ टिप्‍स से भरा पड़ा है। हर कोई सबसे अच्छा होने का दावा करता है। ऐसे में आपके दिमाग में भ्रम पैदा हो सकता है। आप अपना आहार डिसाइड नहीं कर पाते हैं। एक गलत कदम और आपकी स्वास्थ्य समस्या को और भी जटिल बना सकती है। जो लोग डायबिटीज, थायरॉइड और हाइपरटेंशन की समस्‍या से ग्रसित हैं उन्‍हें सही डाइट का चुनाव कर पाना आसान नहीं होता है। खासकर गर्भवती या कम उम्र की महिलाएं अपने डाइट पर ध्‍यान नहीं दे पाती हैं। 

ऐसे में आपकी मदद करने के लिए, यहां कुछ सामान्य स्वास्थ्य स्थितियों के लिए सबसे अच्छे आहार के साथ उन आहारों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे परहेज करना चाहिए। हालांकि अपने आहार में कोई बड़ा बदलाव करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा तरीका है।

पीसीओएस या थायरॉयड की समस्‍या

thyroid

पीसीओएस या थायरॉयड जैसे हार्मोनल समस्‍याओं से पीड़ित लोगों को केवल विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में आंतरायिक उपवास (Intermittent Fasting) की कोशिश करनी चाहिए। आंतरायिक उपवास कोर्टिसोल स्तर (तनाव हार्मोन) को बढ़ाता है। यह हार्मोनल समस्‍याओं पर अल्पकालिक नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। इस प्रकार यह पीसीओएस और थायराइड से पीड़ित लोगों के लिए सबसे अच्छा है कि सप्ताह में पांच दिन Intermittent Fasting को फॉलो करें। 

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में थायरॉइड के संकेत हैं वजन बढ़ना और एक्रागता में कमी, जानें एक्‍सपर्ट टिप्स

डायबिटीज

टाइप 2 डायबिटीज अपने आप में दिल की बीमारियों का खतरा है, इस प्रकार से पीड़ित लोगों को संतृप्त वसा में उच्च आहार का पालन करने की सलाह नहीं दी जाती है। हालांकि अच्छे स्रोतों से उच्च वसा वाले किटोजेनिक आहार टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। लेकिन इस तरह के आहार से चिपकना थोड़ा कठिन है, इसलिए आपको अपने पोषण विशेषज्ञ से लगातार निगरानी की आवश्यकता होती है। जो लोग प्री-डायबिटिक हैं वे आंतरायिक उपवास की मदद ले सकते हैं। 

कैंसर 

यदि आपको कैंसर है या इसका पारिवारिक इतिहास है तो ऐसे लोगों को कड़ाई से उच्च प्रोटीन आहार का सेवन करने से बचना चाहिए। ये आहार IGF-1 हार्मोन को बढ़ा सकते हैं जो कैंसर को ट्रिगर कर सकते हैं। जो लोग हैवीवेट उठाते हैं और इस प्रकार बहुत सारे एनिमल बेस्‍ड प्रोटीन का सेवन करते हैं, उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि यह कैंसर की प्रवृत्ति को बढ़ाता है।

इसे भी पढ़ें: हार्ट अटैक के बाद हार्ट को हेल्दी रखने के लिए रोजाना की आदतों में लाएं ये 5 बदलाव! जिंदगी और सेहत होगी दुरुस्त

हृदय रोग या उच्च रक्तचाप

जिन लोगों को दिल की बीमारियां या लिवर की बीमारियां हैं, उन्हें केटोजेनिक डाइट फॉलो करने से बचना चाहिए क्योंकि इस आहार में संतृप्‍त वसा की मात्रा अधिक होती है। संतृप्त वसा को उच्च कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोग के बढ़ते जोखिम के साथ जोड़ा गया है। यदि किसी को उच्च रक्तचाप है, तो उन्‍हें नमम की मात्रा में कमी लाना चाहिए। हाइपरटेंशन को मैनेज करने के लिए कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार का सेवन अच्‍छा विकल्‍प है। 

18 वर्ष से कम या गर्भवती महिलाएं

गर्भवती महिलाओं और बढ़ते बच्चों को हर कीमत पर कीटो डाइट से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें कार्ब्‍स अधिक होता है जो मस्तिष्क के विकास और अन्य गतिविधियों के लिए ईंधन के रूप में काम करते हैं। इसका बच्चों के विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK