• shareIcon

भूलकर भी बच्‍चों के साथ बात करने समय न बोंलें ये 4 बातें, पड़ सकता है बच्‍चे पर गलत असर

Updated at: Dec 09, 2019
परवरिश के तरीके
Written by: शीतल बिष्‍टPublished at: Dec 09, 2019
भूलकर भी बच्‍चों के साथ बात करने समय न बोंलें ये 4 बातें, पड़ सकता है बच्‍चे पर गलत असर

अगर चाहते हैं कि आपका बच्‍चा आगे चलकर व्‍यवहार, आदतों और बातचीत करने के तरीके में सही हो, तो आप बच्‍चे के सामने इन शब्‍दों के इस्‍तेमाल से बचें।  

बच्‍चों का दिमाग एक खाली किताब की तरह होता है, जिसमें आप जैसा चाहों वैसा भर सकते हो। ऐसे में उन्‍हें, वास्तविक दुनिया के लिए तैयार करने के लिए उन्हें निरंतर प्रयासों और कुछ सावधानियों की आवश्यकता होती है। माता-पिता को सही मूल्यों को स्थापित करने के लिए अपने बच्‍चों के सामने कुछ अच्छे उदाहरण सेट करने होंगे और उन्हें सही भाषा का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना होगा। शब्दों का स्थायी प्रभाव हो सकता है, खासकर बच्‍चे पर क्योंकि यह एक प्रभावशाली उम्र में हैं। इसीलिए अक्सर कहा जाता है कि बच्चों के सामने जो कहना चाहिए, उसके प्रति गहरी सोच और सतर्क रहना चाहिए।

Parenting Tips for parents

विशेषज्ञों के अनुसार, एक बच्चे के बढ़ते और बढ़ते दिमाग को विकसित करने में वयस्‍क क्‍या कहते हैं और क्‍या बोलते हैं, इसकी बड़ी भूमिका होती है। आपके द्वारा बोले जाने वाले शब्‍द आपके बच्‍चे पर नकारात्‍मक और सकारात्‍मक दोनों तरह के प्रभाव छोड़ सकते हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि आपको अपने बच्‍चे के सामने कौन से शब्‍दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। 

बिगड़ा हुआ

आपको जिन शब्दों का उपयोग करने से बचना चाहिए उनमें से एक "खराब या बिगड़ा" हुआ। वे समग्रता में अर्थ को नहीं समझ सकते हैं और चोट महसूस कर सकते हैं। ऐसे शब्दों का उपयोग उनके आत्मसम्मान को चोट पहुंचा सकता है। इससे बच्‍चा बहुत सी चीजें अपने मन में दबाकर रख सकता है। 

इसे भी पढें: अगर चाहते हैं आपके बच्चे का कद न रहे छोटा, तो शुरुआत से ही अपनाएं ये 5 आदतें

स्‍मार्ट 

हालांकि आपके बच्चे की बुद्धि की सराहना करना और उनके IQ की प्रशंसा करना अच्छी बात है। देखा जाए, तो इस शब्‍द में कोई बुराई नहीं है। लेकिन एक्‍सपर्ट कहते हैं कि बच्‍चे को "स्मार्ट" कहने से उनकी वास्तविक मेहनत छिन जाती है। इसके अलावा, बच्‍चे में ओवर कॉन्फिडेंस आ जाता है और उन्हें यह विश्वास करने के लिए मजबूर किया जाता है कि वे एक अलग तरह की बुद्धि के साथ पैदा हुए हैं और हमेशा सही होते हैं। 

Child Care

बेवकूफ

एक वैध कारण है कि आपको नकारात्मक शब्दों का उपयोग करते हुए अपने बच्चों का हवाला देना बंद कर देना चाहिए। चाहे गुस्से में हों या सिर्फ उनका मजाक उड़ाने के लिए, किसी भी तरह का नाम-पुकारना बुरा है। याद रखें, आपको अपने बच्चों से सीधे बात करनी चाहिए और उन्हें नकारात्मक नामों के साथ उसे नहीं जोड़ना चाहिए। याद रखिए जैसा आप करेंगे, ऐसा आगे चलकर आपका बच्‍चा भी कर सकता है और दूसरे बच्‍चों का मजाक बना सकता है।

इसे भी पढें: पढ़ाई में कमजोर बच्‍चों को बनाना है होशियार, तो डांट नहीं अपनाएं ये 4 तरीके

प्रिंसेस या हीरो

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, लिंग स्टीरियोटाइपिंग को बिल्कुल भी प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए और "प्रिसेंस" या "हीरो" जैसे शब्दों का उपयोग करने से पहले ही उन्हें अपनी डिक्‍सनरी से बाहर कर दें। यदि आपके बच्चे किसी फिल्म को देखने या किसी प्रेरणादायक चरित्र के बारे में पढ़ने के बाद खुद का नाम लेते हैं, तो यह ठीक है। अन्यथा, कोशिश करें और स्टीरियोटाइपिंग से बचें।

Read More Article On Parenting In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK