क्‍या आप घुटने के दर्द (गठिया) से परेशान हैं? डॉ. मिलिंद पाटिल से जानिए जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के उपाय

Updated at: May 24, 2020
क्‍या आप घुटने के दर्द (गठिया) से परेशान हैं? डॉ. मिलिंद पाटिल से जानिए जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के उपाय

कोरोना वायरस और लॉकडाउन के इस दौर में ज्‍यादातर लोग जोड़ों के दर्द या ज्‍वाइंट पेन से परेशान हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए जाने आसान उपाय।

Atul Modi
अन्य़ बीमारियांWritten by: Atul ModiPublished at: May 24, 2020

कोरोना वायरस (COVID-19) के इस विश्व संकट के साथ खुद को सुरक्षित रखने के लिए घर के अंदर रहना अनिवार्य है। हालांकि लॉकडाउन में ढील दी जा रही है, अंदर रहना अभी भी समय की जरूरत है विशेष रूप से बुजुर्गों के लिए। कम प्रतिरक्षा, वृद्ध व्यक्तियों को वायरस के उच्च जोखिम में डालती है, जिससे उनके लिए घर के अंदर रहना महत्वपूर्ण हो जाता है। लेकिन गठिया के रोगियों के लिए इसका मतलब 'दर्दनाक जोड़े' हो सकता है।

भारत की लगभग 15 प्रतिशत आबादी, यानि 180 मिलियन लोगों को गठिया है। गठिया के कारण होने वाला जोड़ों का दर्द, सूजन, अकड़न, शारीरिक कमजोरी, सोने में तकलीफ और थकान से किसी भी व्यक्ति का सामान्य स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। गठिया के शुरुआती चरणों में, आमतौर पर दवाओं और जीवनशैली में बदलाव का सुझाव दिया जाता है। पुराना गठिया एक व्यक्ति की गति को रोक सकता है या उसे पंगु भी बना सकता है। ऐसे मामलों में जॉइंट रिप्लेसमेंट अंतिम उपाय हो सकता है। इसलिए, गठिया के रोगियों के लिए एक सक्रिय जीवन शैली और संतुलित वजन बनाए रखना दर्द के प्रभावी प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण है।

joint-pain

डॉक्‍टर मिलिंद पाटिल, सीनियर ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन एवं एमडी, रिवाइवल बोन एंड जॉइंट क्लिनिक, ठाणे के अनुसार: "इस महत्वपूर्ण समय में, शारीरिक रूप से सक्रिय रहना जोड़ों के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करने में बहुत लाभदायक साबित हो सकता है। इस समय ज़्यादातर लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं, इसलिए आसन को फैलाने और मुद्रा बदलने क लिए काम से लगातार ब्रेक लेना आवश्यक है। एक खराब मुद्रा होने से जोड़ों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, विशेष रूप से घुटने, जो शरीर में सबसे बड़ा लोड बेयरिंग जोड़ है। यह अंततः घुटने के दर्द का कारण बन सकता है। अपने वजन पर नजर रखें और अपनी दिनचर्या में वजन कम करने वाले व्यायाम शामिल करें। पालक, चेरी, नारंगी, अंगूर, अखरोट, सोयाबीन, अदरक जैसे विटामिन और खनिज युक्त आहार को अपने फूड पैलेट में शामिल करें। अपने जोड़ों को अच्छी तरह से चिकना रखने और सूजन को कम करने के लिए रोजाना कम से कम 8 गिलास पानी पिएं।" 

जानिए घर पर रहते हुए जोड़ों के दर्द के प्रभावी निवारण के लिए के कुछ उपाय

बॉडी का पॉश्‍चर (शरीर की मुद्रा) बदलना है आवश्यक 

अधिकांश लोगों को घर से काम कर रहे हैं, इसलिए आसन को फैलाने और मुद्रा बदलने के लिए काम से लगातार ब्रेक लेना आवश्यक है। लंबे समय तक एक ही मुद्रा में बैठने से जोड़ों में रक्त का प्रवाह बाधित हो सकता है, विशेष रूप से घुटने, जिससे दर्द और कठोरता हो सकती है। खिंचाव के लिए छोटे ब्रेक लेने से घुटने तक रक्त परिसंचरण में सुधार और बेहतर गतिशीलता में सहायता मिल सकती है।

exercise-tips

व्यायाम को अपना सर्वश्रेष्ठ मित्र बनायें

शारीरिक गतिविधियों से दर्द में आराम मिलता है। व्यायाम जोड़ों के आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह बदले में दर्द को दूर करने में मदद करता है और जोड़ों की गति को बेहतर बनाता है। हर 2 घंटे में अपने घर के अंदर लगातार टहलें, योग का आनंद लें या अपने शरीर को सक्रिय रखने के लिए वर्चुअल ज़ुम्बा / एरोबिक्स क्लास ज्वाइन करें। उच्च प्रभाव वाले व्यायाम जैसे कि सीढ़ियों पर लगातार भागना, गहरी स्क्वाटिंग या लन्जिंग करना, गठिया के रोगियों को इनसे बचना चाहिए। योगासन जैसे बटरफ्लाई पोज, ट्राइकोनासन, मार्जारीआसन और साइकलिंग मूवमेंट जोड़ों को गति बनाए रखने में मदद करते हैं। अपने जोड़ों की सूजन को कम करने के लिए बर्फ / हीट पैक का उपयोग करें।

इसे भी पढ़ें: क्‍यों तकलीफदेह है अर्थराइटिस? आर्थोपेडिक सर्जन से जानें अर्थराइटिस के इलाज से जुड़ी महत्‍वपूर्ण बातें

अपने अतिरिक्त वजन को घटाएं

अधिक वजन होना घुटने के दर्द के लिए प्रमुख कारणों में से एक है। हमारे जोड़ों को एक निश्चित मात्रा में वजन ढोने के लिए डिज़ाइन किया गया है। प्रत्येक एक किलो अतिरिक्त वजन घुटनों पर चार गुना दबाव का कारण बन सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि आपके शरीर के वजन का सिर्फ 10% कम करने  से आपके गठिया दर्द को 50% तक कम किया जा सकता है। इसलिए अपनी दिनचर्या में वजन कम करने वाले व्यायामों को शामिल करें।

इसे भी पढ़ें: जोड़ों में दर्द और गठिया की समस्या को बढ़ा सकते हैं ये 5 कारक, युवाओं को भी हो सकती है समस्या

अच्‍छी और गहरी नींद ले

यदि रात में काम करना, लगातार टीवी देखना, 4 घंटे के लिए सोने से आप परिचित है, तो सावधान रहें कि कम नींद उन जोड़ों के दर्द का कारण हो सकती है। जब कोई व्यक्ति सोता है, तो उसकी सूजन का स्तर कम हो जाता है, जिससे शरीर को ठीक होने का मौका मिलता है। इसलिए, एक बार में 7 से 8 घंटे की निर्बाध नींद आपके जोड़ों और मांसपेशियों को स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण है।

स्वस्थ आहार स्वस्थ शरीर की कुंजी है

विटामिन डी जोड़ो क दर्द को ठीक करने में बहुत मदद करता है। जोड़ों के दर्द को कम करने के लिए जितना संभव हो उतना सूरज प्राप्त करें। और अपने आहार को पौष्टिक और विटामिन युक्त खाद्य पदार्थों से नियंत्रित करें। शरीर को सक्रिय रखने के लिए तरल पदार्थों का सेवन फायदेमंद है। यहां तक कि हल्के निर्जलीकरण एक मानव शरीर को दर्द के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है, इसलिए तरल पदार्थ पीना महत्वपूर्ण है। धूम्रपान, प्रोसेस्ड जंक फूड और वातित पेय की खपत से भी बचें क्योंकि वे आपकी हड्डियों को खोखला बना सकते हैं, जिससे आपको फ्रैक्चर का खतरा बढ़ सकता है। शराब का सेवन भी कम किया जाना चाहिए क्योंकि यह सूजन को बढ़ाता है।

अपने हड्डी रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें

चूंकि ओपीडी परामर्श के लिए फिर खुल चुके है, इसलिए समय पर निदान और उपचार के लिए जोड़ों के दर्द के मामले में एक आर्थोपेडियन से परामर्श करना उचित है। यदि अस्पताल जाने में संकोच हो, तो आप ई-परामर्श सुविधा का लाभ भी ले सकते हैं। याद रखें, देरी के साथ, जोड़ों को नुकसान कई गुना बढ़ जाता है। यदि प्रारंभिक अवस्था में इलाज किया जाता है, तो गठिया की प्रगति को कम किया जा सकता है।

इनपुट्स: डॉक्‍टर मिलिंद पाटिल, सीनियर ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन एवं एमडी, रिवाइवल बोन एंड जॉइंट क्लिनिक, ठाणे (महाराष्‍ट्र)

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK