• shareIcon

Aromatherapy Side Effects: अरोमाथेरेपी कराने से पहले जान लें इसके 5 दुष्‍प्रभाव, ताकि बाद में न पड़े पछताना

Updated at: Nov 29, 2019
तन मन
Written by: शीतल बिष्‍टPublished at: Nov 29, 2019
Aromatherapy Side Effects: अरोमाथेरेपी कराने से पहले जान लें इसके 5 दुष्‍प्रभाव, ताकि बाद में न पड़े पछताना

Aromatherapy Side Effects: यदि आप भी अरोमाथेरेपी का सोच रहे हैं, तो इससे पहले इसके साइड इफेक्‍ट जान लें, कि किन लोगों को यह नहीं करानी चाहिए।  

अरोमाथेरेपी एक वैकल्पिक चिकित्‍सा पद्धति है, जो कि कई हजारों सालों से चली आ रही है। इसका उपयोग तनाव को दूर करने से लेकर दर्द, जलन और कई परेशानियों को दूर करने के लिए किया जाता है। अरोमाथेरेपी सेशन में कुछ चिकित्सा और जीवन शैली की स्थितियों को कम करने में मदद करने के लिए मरहम लगाने वाले खुशबूदार एसेंशियल ऑयल का इस्‍तेमाल किया जाता है।

इस थेरेपी की मदद से आप कुछ स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कि नींद न आना, सिरदर्द और वजन कम करने और तनाव से राहत पाने के लिए अरोमाथेरेपी की मदद ले सकते हैं। वैसे देखा जाए, तो अधिकांश एसेंशियल ऑयल पौधों के अर्क से प्राप्त होते हैं और इनका उपयोग सुरक्षित माना जाता है, लेकिन कुछ लोगों को इन प्राकृतिक तेलों पर प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है। आइए हम आपको बताते हैं कि यदि आप भी अरोमाथेरेपी लेने की सोच रहे हैं, तो इससे पहले इसके दुष्प्रभावों के बारे में जान लें। 

Aromatherapy side effects

हार्मोन संतुलन को कर सकता है गड़बड़ 

वैसे तो अरोमाथेरेपी काफी फायदेमदं साबित होती है, लेकिन कुछ एसेंशियल ऑयल हार्मोनल संतुलन में गड़बड़ी के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। इसकी वजह यह है कि कई एसेंशियल ऑयल एस्ट्रोजेन की तरह व्यवहार करते हैं और एण्ड्रोजन के प्रभाव को कम करते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप एरोमाथेरेपी की ओर रुख करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह लें।

सेंसिटिव स्किन 

एसेंशियल ऑयल को वैसे त्‍वचा व बालों के लिए अच्‍छा माना जाता है। क्‍योंकि यह प्राकृतिक और सुरक्षित हैं, फिर भी यह  कुछ लोगों में एलर्जी प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकते हैं। इससे आपकी स्किन में जलन और सूजन और रैडनेस हो सकती है। सेंसिटिव स्किन वाले लोगों को पहले पैच टेस्ट करने की सलाह दी जाती है।

Skin Rashes

इसे भी पढें: तनाव को दूर करने और त्‍वचा को चमकदार बनाए रखने में मददगार है कैंडल मसाज थेरेपी

सिरदर्द और मतली

एक तरफ अरोमाथेरेपी आपके तन व मन को शांत करने और सिरदर्द को दूर करने में मददगार है, वहीं दूसरी तरफ यह सिरदर्द और मतली का कारण भी बन सकती है। मतली, सिरदर्द और चक्कर आना आमतौर पर अरोमाथेरेपी उपचार से जुड़े कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हैं। लेकिन यह समय के साथ या तेलों को साफ करने या धोने के बाद दूर हो जाता है। 

Headache

अस्थमा रोगियों के लिए नहीं है सुरक्षित

अस्‍थमा रोगी यदि अरोमाथेरेपी का विचार बना रहे हैं, तो आप इस विचार को छोड़ दें। क्‍योंकि यह आपके लिए सुरक्षित नहीं है, क्‍योंकि एसेंशियल ऑयल को अवशोषित करने से नाक में जलन हो सकती है। आप छींकने, बहती नाक और नाक में जमाव का अनुभव कर सकते हैं। अस्थमा से पीड़ित लोगों को अरोमाथेरेपी से सख्ती से बचना चाहिए।

इसे भी पढें: तनाव, डिप्रेशन और पैनिक अटैक के लिए फायदेमंद है 'साउंड बाथ थेरेपी', जानें इस थेरेपी के अन्‍य फायदे

Aromatherapy For Pregnant Women

गर्भवती महिलाएं अरोमाथेरेपी से बचें 

गर्भवती महिलाओं को भी अरोमाथेरेपी से बचने की सलाह दी जाती है। अरोमाथेरेपी पहली तिमाही में विकासशील भ्रूण के लिए खतरा पैदा कर सकती है। वहीं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इससे बचना चाहिए। ऐसे में आप अपने चिकित्सक की अनुमति के बिना अरोमाथेरेपी की तरफ कदम न बढ़ाएं।  

Read More Article On Mind and Body In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK