• shareIcon

    आपको निकट दृष्‍टि‍दोष है या दूर दृष्‍टि‍दोष

    आंखों के विकार By Anubha Tripathi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 08, 2014
    आपको निकट दृष्‍टि‍दोष है या दूर दृष्‍टि‍दोष

    कई बार हमें दूर की चीजें साफ दिखायी नहीं देतीं और कई बार हम करीब की चीजों को अच्‍छी तरह नहीं देख पाते। आंखों में इस तरह का विकार पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आपको नेत्र विशेषज्ञ से मिलना चाहिये।

    क्‍या आपको दूर की कोई चीज धुंधली नजर आती है या फिर करीब की किसी चीज को देखने में आपको परेशानी होती है। अगर ऐसा है तो आपको दृष्‍टि दोष है। आंखों की समस्‍या हमेशा साफतौर पर पहचान में नहीं आती। खासतौर पर बचपन में लोग इस तकलीफ को पहचान पाने में असमर्थ होते हैं। निकट दृष्टि दोष (मायोपिया) और दूर दृष्टि दोष (प्रिस्‍बोपायोपिया) नजर से संबंधित सबसे सामान्‍य बीमारियों में शामिल हैं। ये वास्‍तव में अपवर्तक त्रुटियां हैं। अगर आपको नजर संबंधी कोई दोष है, तो वह कौन सा हो सकता है, यह जानने के लिए पढ़ें

    निकट दृष्‍टि दोष और दूर दृष्टि दोष में क्‍या अंतर है ?

    अगर आपको सिनेमा हॉल में फिल्‍म देखते समय, टीवी स्‍क्रीन पर देखते समय या ब्‍लैक बोर्ड देखते समय परेशानी होती है, तो आपको इन दोनों में से कोई परेशानी हो सकती है। मानव आईबॉल पानी, जैली और प्रोटीन से बनी है। यह विस्तृत 3 डी छवियों का निर्माण करने में सक्षम होती है। आंखों की पलको के साथ आईबॉल खुद पर ध्‍यान केंद्रित कर सकती हैं, यह दृष्टि को छोटे कण से दूर पर्वत की चोटी तक बदल सकती हैं। आईबॉल यानी पुतली इन भागों से मिलकर बनती है। जब किसी उत्‍पाद से रोशनी टकराकर लौटती है, तो वह आंखों के रेटिना पर प्रतिबिंबित होती है। अपर्वतक त्रुटियां तब होती हैं जब रोशनी से बनने वाली छवि रेटिना पर बनने के स्‍थान पर रेटिना के आगे या पीछे बनने लगती है।

    nearsightness or farsightness in hindi

    निकट दृष्टि दोष

    इसे मायोपिया भी कहा जाता है। इस दृष्टि दोष में रोशनी से टकराकर बनने वाली छवि रेटिना पर बनने के स्‍थान पर उसके आगे या पीछे बनती है। इस दृष्‍टि दोष में आपको नजदीक की वस्‍तुयें तो आपको साफ नजर आती हैं, लेकिन दूर की वस्‍तुयें धुंधली और अस्‍पष्‍ट नजर आती हैं। अमेरिकन ऑप्‍टोमेट्रिक एसोसिएशन के अनुसार ऐसी परिस्थिति आवश्‍यकता से अधिक लंबी पुतली या फिर ज्‍यादा घुमावदार कोर्निया के कारण होती है।


    दूर दृष्टि दोष

    इस दृष्टि दोष को हायप्रोपिया भ्‍ज्ञी कहा जाता है। यह मायोपिया से बिलकुल उलट स्‍थिति होती है। हायप्रोपिक व्‍यक्ति को दूर की चीजें तो साफ नजर आती हैं, लेकिन नजदीक की वस्‍तुयें देखने में उसे परेशानी होती है। अमेरिकन ऑप्‍टोमेट्रिक एसोसिएशन के मुताबिक जिस व्‍यक्ति की पुतली बहुत छोटी होती हैं, या जिसका कॉर्निया सही आकार में नहीं मुड़ा होता उसे यह परेशानी होती है।

    क्‍या आपको हो सकता है दृष्टि दोष

    अलग-अलग लोगों को दृष्टि संबंधी समस्‍यायें अलग होती हैं। कुछ लोगों को एक ही दृष्टि दोष होता है, वहीं कइयों को दोनों परेशानियां एक साथ हो सकती हैं। ऐसे लोगों को नजदीक और करीब कहीं भी स्थित वस्‍तुयें धुंधली और अस्‍पष्‍ट नजर आती हैं।

    nearsightness and farsightness


    क्‍या करें

    नेत्र विशेषज्ञ से अपनी आंख की पूरी जांच करवायें। इससे आपको पता चलेगा कि आखिर आपकी परेशानी किस स्‍तर की है। अगर आपको कोई चीज साफ नजर नहीं आती या फिर धुंधली नजर आती है, तो आपको नेत्र विशेषज्ञ से सहायता लेनी चाहिये। इसके अलावा अगर आपको निम्‍न में से कोई भी लक्षण नजर आएं, तो बिना देर किये डॉक्‍टर से संपर्क करें।


    •धुंधला दिखाई देना
    •दो-दो दिखाई देना
    •अस्पष्टता
    • चकाचौंध या किसी वस्‍तु के पास चमकदार रोशनी दिखाना
    • भेंगा
    • सिरदर्द
    • नेत्र तनाव
    • ध्यान देने में कठिनाई

    निकट दृष्टि दोष और दूर दृष्टि दोष दोनों के लिए इलाज के कई विकल्‍प मौजूद हैं। रिफ्लेक्‍टिव एरर को चश्‍मा, कॉन्‍टेक्‍ट लैंस आदि से ठीक किया जा सकता है। इसके अलावा आजकल ऑपरेशन के जरिये भी नेत्र विकार को ठीक किया जा सकता है। ये ऑपरेशन कुछ ही मिनटों के होते हैं। इसमें कॉर्निया को एडजस्‍ट किया जाता है। सही निदान और इलाज के बाद अधिकतर लोग सही प्रकार देख पाते हैं। आप अपने नेत्र विशेषज्ञ से अपनी पसंद का विकल्‍प चुन सकते हैं।

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK