लगभग 2% प्रिस्क्रीप्शन में लिखी दवाएं मरीजों को दी जाती हैं गलत, जानें कैसे और क्यों?

Updated at: Jun 18, 2020
लगभग 2% प्रिस्क्रीप्शन में लिखी दवाएं मरीजों को दी जाती हैं गलत, जानें कैसे और क्यों?

जब भी आप किसी मेडिकल शॉप से दवाएं लेते हैं तो उन्हें अपनी प्रिस्क्रीप्शन से जरूर मैच करें। इससे आप गलत दवाओं के सेवन से बच सकते हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
विविधWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 18, 2020

शोधकर्ताओं का एक बड़ा पैनल यह दावा करता है कि लगभग 2% प्रिस्क्रीप्शन में लिखी गई दवाएं मरीजों को गलत दी जाती हैं। जिसके चलते आप गलत तरीके से गलत दवाओं का सेवन कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके डॉक्टर ने जो दवा लिखी है आप वही खरीद रहे हैं इसके लिए फार्मेसी काउंटर पर लगे लेबल को अच्छी तरह से पढ़ें। एक रीफिल के लिए, कंटेनर को खोलकर जरूर देखें कि आप वही दवाएं ले रहे हैं जो आपके डॉक्टर ने लिखकर दी है। अन्यथा आप गलत दवाओं का सेवन कर और भी ज्यादा बीमार हो सकते हैं। 

पैसे बचाने के लालच में न आएं

doctor

कुछ राज्यों में गैग के नियम फार्मासिस्टों को इस बात के लिए बाध्य करते हैं कि वो किसी व्यक्ति को प्रिस्क्रीप्शन में लिखी दवाओं के लिए पैसे बचाने की अनुमति या सलाह नहीं दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, फार्मासिस्ट अपने लाभ के लिए या बिना लाइसेंस द्वारा खरीदी दवाओं को बेचने के लिए आपको पैसे बचाने का लालच दे सकते हैं। इसलिए सकर्त रहें और वही दवाएं खरीदें तो आपके डॉक्टर ने पर्चे में लिखकर दी है। यदि वह दवा किसी कारण से उपलब्ध नहीं है तो उस स्थिति में आप उसका सब्स्टिटूट खरीद सकते हैं।

दिशा निर्देशों का पालन करें

उच्च रक्तचाप, टाइप 2 मधुमेह और अन्य लंबी बीमारियों में मरीज उस तरह दवाओं का सेवन नहीं करते हैं जिस तहह डॉक्टर द्वारा निर्देश दिए गए होते हैं। जबकि ऐसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे मरीजों को बहुत ही सर्तकता से डॉक्टर द्वारा बताए गए दिशा निर्देशों का पालन करना चाहिए और रोजाना समय पर दवाओं का सेवन करना चाहिए। यदि आप बहुत व्यस्त रहते हैं तो अपनी दवाओं को उस जगह रखें जहां आपकी नजरें अक्सर रहती है। या फिर आप पिल रिमांइडर ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: अपने पेशाब के रंग से जानें डिहाइड्रेशन का स्तर, इन चीजों से शरीर में करें पानी की पूर्ति

दवाओं की अधिक डोज़ न लें

5 में से एक व्यक्ति आईबूप्रोफेन या नेप्रोक्सन की तरह सामान्य गैर-स्टेरायडल एंटी-इंफ्लेमेटरी (एनएसएआईडी) को बताई गई खुराक से अधिक लेता है और लगभग 25% लोग एक समय में दो या अधिक NSAIDs मिलाते हैं। जो आपके लिवर या गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता है और आपके शरीर के अंदर रक्तस्राव का कारण बन सकता है। इसलिए डॉक्टर ने जितनी खुराक बताई है उतना ही सेवन करें। 

डॉक्टर से लाइअप जरूर कराएं

यदि आप नियमित रूप से किसी दवा, थैरेपी या फिर सप्लीमेंट का सेवन कर रहे हैं तो साल में एक बार अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ लाइनअप जरूर कराएं। ऐसा हो सकता है कि आप जिन दवाओं का सेवन कर रहे हैं अब आपको उनमें से कुछ लेने की आवश्यकता नहीं है या वे दवाएं आपके शरीर को फायदा पहुंचाने की बजाय नुकसान कर रही हैं।

इसे भी पढ़ें: इन आसान तरीकों से रखें अपने फेफड़ों को सुरक्षित, नहीं पड़ेगी डॉक्टर की जरूरत

फूड फैक्ट्स

कुछ दवाएं खाली पेट बहुत अच्छा और जल्दी असर करती हैं। जबकि कुछ दवाएं भोजन के बाद लेने पर फायदा करती हैं। इसके अलावा, कुछ खाद्य पदार्थ और दवाएं का मिश्रण आपकी सेहत पर बुरा असर भी डाल सकता है। इनमें कुछ एंटीबायोटिक दवाओं के साथ डेयरी उत्पाद, कुछ कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं, अंगूर का रस, हरी पत्तेदार सब्जियां और अन्य विटामिन के-युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हैं। इसलिए किसी भी फूड के साथ कोई भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से जरूर सलाह लें।

Inputs: WebMd

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK