Gallbladder Attack: गॉल ब्लैडर अटैक क्‍या होता है? जानिए अटैक होने पर क्‍यों होता है पित्‍ताशय में दर्द

Updated at: Aug 21, 2020
Gallbladder Attack: गॉल ब्लैडर अटैक क्‍या होता है? जानिए अटैक होने पर क्‍यों होता है पित्‍ताशय में दर्द

गलत खानपान की आदतों की वजह से आज कल पित्ताशय का दर्द या पथरी की समस्या काफी आम होती जा रही है। जानें क्या है इसका कारण।

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 20, 2020

हमारी जीवनशैली की वजह से हम बहुत से शारीरिक परेशानियों से घिरते जा रहे हैं। पित्ताशय का दर्द उन्हीं समस्याओं में से एक है। यह दर्द सिर्फ पित्ताशय की पथरी के कारण ही नहीं वरन सूजन, संक्रमण और यहां तक कि कैंसर जैसी घातक बीमारियों के कारण भी हो सकता है।आपको जानकर हैरानी होगी कि इस तरह की समस्या बुजुर्गों और महिलाओं में ज्यादा होती हैं।

दरअसल पित्ताशय की थैली लीवर के नीचे होती है और इसका काम है महत्वपूर्ण एंजाइम बाइल को स्टोर करना। यह एक तरह का तरल पदार्थ है बाइल का उत्पादन लीवर द्वारा होता है। यह फैट को तोड़ने का काम करता है। जब आप कुछ खाते हैं तो आप का पित्ताशय बाइल को आपकी छोटी आंत तक पहुंचाता है। जिससे कि आपका खाना पच सके। पित्ताशय के भयंकर दर्द के क्या कारण और लक्षण है् डालें एक नज़र।

gall bladder

क्या होता है पित्ताशय अटैक - What Is Gallbladder Attack

जब बाइल आप के पित्ताशय से बाहर निकलने में असमर्थ होता है तो वह एक अटैक की स्थिति उत्पन्न कर सकता है। आपके पित्ताशय में बाइल का अत्याधिक होना इस अटैक को और अधिक भयंकर बना देता है और आपके पित्ताशय में इसकी वजह से सूजन या जलन हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: गलत खानपान से हो सकती हैं गॉल ब्लैडर (पित्त की थैली) की ये 4 बीमारियां, जानें इसे स्वस्थ रखने के उपाय

पित्ताशय अटैक के कुछ लक्षण - Gallbladder Attack Symptoms

दर्द होना (pain)

इस अटैक का सबसे मुख्य लक्षण होता है दर्द होना। आपको अचानक से दर्द होने लगता है जो और अधिक भयंकर रूप धारण कर सकता है। आप को आपके पेट के उपरी व दाहिने हिस्से में दर्द महसूस होगा। आपको उल्टियां भी आ सकती हैं या फिर आप का जी भी मिचला सकता है। यह दर्द आपको 20 मिनट तक हो सकता है।

आंखो में पीलापन (Eyes Turn Yellow)

इस अटैक के द्वारा आपकी आंखो की सफेदी पीलेपन में तब्दील हो सकती है। इसके अलावा आप के पेशाब का रंग भी बदल कर पीला हो सकता है। डॉक्टर्स इसे पीलिया कहते हैं। यह सब पित्ताशय में आने वाले अटैक के कारण ही होता है। आपका सामान्य बुखार भी आ सकता है।

पित्ताशय अटैक के कारण - Gallbladder Attack Causes

गालस्टोन - Gall stone

आपकी बाईल में अत्यधिक कोलेस्ट्रॉल होने से वह क्रिस्टल जैसे छोटे छोटे पदार्थ बनाने लगता है। यह क्रिस्टल्स एक साथ इकठ्ठे होकर पत्थर बना लेते हैं। यह एक दाने के जितना छोटा भी हो सकता है और एक गोल्फ बॉल जितना बड़ा भी। यह ज्यादा हानिकारक नहीं होता परन्तु यदि यह पत्थर आपकी बाईल में फस कर उसे आपके पित्ताशय से निकलने से रोकते हैं तो यह बहुत हानिकारक भी हो सकता है। इसे गालस्टोन के नाम से जाना जाता है और यह भी पित्ताशय के भयंकर दर्द का मुख्य कारण होता है।

gall stone

कुछ अन्य कारण

कुछ अन्य चीज जो आपके बाईल को आपके पित्ताशय से बाहर निकलने से रोकती हैं, वह हर चीज पित्ताशय अटैक का कारण होती हैं। इनमे मुख्य रूप से सूजन, जलन व ट्यूमर आदि शामिल होते हैं। आपके कुछ टिश्यूज़ में असमान्य विकास भी इसका कारण हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: पित्ताशय की थैली निकलवाने के बाद कैसी हो आपकी डाइट? जानें खान पान से जुड़ी जरूरी सावधानियां

आप का वजन व डाइट भी इसमें महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है:

यदि आप ज्यादा तला हुआ भोजन या ज्यादा कैलोरीज़ वाली चीजें खाते हैं और फाइबर से युक्त चीजों को बहुत कम खाते हैं, तो आपको पित्ताशय में अटैक आने की ज्यादा संभावनाएं हैं। यदि आप मोटे या ओवर वेट हैं तो भी आप को यह भयंकर दर्द होने की ज्यादा संभावना है। इसलिए आप को एक हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने की बहुत अधिक आवश्यकता है। आपको अपनी डाइट व वजन पर मुख्य रूप से ध्यान देना चाहिए।

ज्यादा सेक्स भी एक कारण:

20 से 60 वर्ष की आयु की महिलाओं में पुरुषों की तुलना में पित्ताशय की पथरी होने की संभावना अधिक होती है। गर्भावस्था, हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी या जन्म नियंत्रण की गोलियों से आपके शरीर में अतिरिक्त एस्ट्रोजन बनने लगता है। 60 के बाद, हालांकि, पुरुषों और महिलाओं को समान जोखिम होता है।

अन्य परिस्थितियां जो बाधाओं को बढ़ाती हैं:

जैसे-जैसे आप की उम्र बढ़तघ हैं, आपको पित्ताशय की थैली से संबंधित बीमारियों की संभावना अधिक होती है। एक बार जब आप 40 वर्ष के हो जाते हैं, तो आपका जोखिम बढ़ना शुरू हो जाता है। यदि आपके परिवार में किसी अन्य को यह परेशानी है, तो आप भी अधिक संभावना रखते हैं।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK