Belly Button Oiling: पीरियड्स के दर्द को कम करने से लेकर पेट की समस्‍याओं का इलाज है नाभि में तेल लगाना

Updated at: Sep 10, 2020
Belly Button Oiling: पीरियड्स के दर्द को कम करने से लेकर पेट की समस्‍याओं का इलाज है नाभि में तेल लगाना

नाभि यानि Belly Button आपके संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ा है। आयुर्वेद के अनुसार, नाभि पर तेल लगाने से आपका शरीर को कई फायदे मिलते हैं। 

Sheetal Bisht
आयुर्वेदWritten by: Sheetal BishtPublished at: Sep 10, 2020

प्राकृतिक तेलों से मालिश या ऑयलिंग आयुर्वेद का एक प्रमुख हिस्सा है। एसेंशियल ऑयल और वाहक तेलों से लेकर सभी एक व्यक्ति के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं। कुछ प्राकृतिक तेलों को शरीर के विभिन्न हिस्सों में लगाने से आपको कई स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। लेकिन आपके शरीर का एक हिस्सा ऐसा है, जिससे कि आप अपने शरीर पर तेल की मालिश की शुरूआत कर सकते हैं। वह है बेली बटन यानि आपकी नाभि। आइए यहां हम आपको नाभि पर प्राकृतिक तेलों को लगाने के कुछ आश्चर्यजनक लाभ बताते हैं। 

नाभि पर तेल लगाने के फायदे 

पेट की समस्याओं का इलाज करने में सहायक 

नाभि पर तेल कोई अच्‍छा एसेंशियल ऑयल लगाने से आपके पेट के दर्द को कम किया जा सकता है। नाभि में तेल लगाने से आपकी पेट संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में मदद मिलती है। जैसे- यह फूड पॉइजनिंग, अपच और दस्त को रोकने में मदद करने के साथ आपके पेट के स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकता है। वहीं नाभि में तेल लगाने से यह सूजन और मतली के लिए एक महान उपाय है। आप अपने पेट संबंधी तकलीफों को दूर करने के लिए नाभि पर अदरक या पुदीने का तेल लगा सकते हैं।  

Belly Button Benefits

गंदगी को दूर करे 

हम सब लगभग कोशिश करते हैं कि अपने शरीर को साफ रखें। लेकिन शरीर के अन्य भागों की तरह, नाभि को भी नियमित रूप से साफ किया जाना चाहिए। आप अंगूर के बीज का तेल, सूरजमुखी का तेल या फिर जोजोबा ऑयल जैसे प्राकृतिक तेलों का उपयोग कर सकते हैं। ये तेल हल्के होते हैं और आपकी नाभि क्षेत्र को प्रभावी ढंग से साफ कर सकते हैं। इसके लिए आपको बस एक कॉटन पैड पर कुछ तेल बूंद डालकर इससे अपनी नाभि को साफ करना है। 

इसे भी पढ़ें: समग्र स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देती है ये आयुर्वेदिक मसाज 'पादाभ्यंग', जानें इसके स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

संक्रमण को ठीक कर सकता है

आपकी नाभि बहुत आसानी से गंदी हो जाता है और नियमित रूप से इसकी सफाई न होने से यह कवक और बैक्टीरिया के लिए घर बन जाती है। इस सबके परिणामस्वरूप संक्रमण हो सकता है। ऐसे में आप एक सही और प्राकृतिक तेल का चुनाव करके इससे अपनी नाभि को साफ कर सकते हैं। इससे आपको संक्रमण को रोकने और उसे ठीक करने में मदद मिल सकती है। इसके लिए सबसे अच्छा विकल्प है कि आप टी ट्री ऑयल या सरसों के तेल का उपयोग करें। इसमें अद्भुत एंटीफंगल और एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं।  

पीरियड्स के दर्द को कम करे 

महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द होना एक आम बात है। लेकिन कभी-कभी पीरियड्स का दर्द असहनीय हो जाता है। जिसके कारण आपके पीरियड्स के दिन काफी तकलीफ भरे गुजर सकते हैं। ऐसे में आप अपनी नाभी पर पुदीने, अदरक और नारियल का तेल लगा सकते हैं। इससे आपको पीरियड्स के असहनीय दर्द से तुरंत कुछ मिनटों में ही राहत मिलेगी। 

त्वचा को हाइड्रेट और मॉइस्चराइज़ करता है

नाभि में तेल लगाने से आपके पेट के आसपास की त्‍वचा मॉइश्‍चराइज होती है। अक्‍सर इस क्षेत्र की त्वचा ड्राई हो जाती है, ऐसे में जैतून और नारियल का तेल नाभि पर लगाने से चा हाइड्रेट और त्वचा नरम होती है।  

इसे भी पढ़ें: बीमारियों से बचाने और इम्‍युनिटी बूस्‍ट करने वाले काढ़े का अधिक सेवन डाल सकता है सेहत पर दुष्‍प्रभाव

Belly Button Oiling

प्रजनन क्षमता में सुधार 

शायद आपको चौंकाने वाला लगे लेकिन नाभि में तेल लगाने से आपकी प्रजनन क्षमता में सुधार होता है। आपकी नाभि आपकी प्रजनन क्षमता के साथ जुड़ी हुई है। आखिरकार, यह एक माँ को बच्चे से जोड़ता है। बेली बटन पर कुछ एसेंशियल ऑयल जैसे कि अमरूद की पत्‍ती का तेल या क्‍लेरी सेज ऑयल आपके लिए फायदेमंद हैं। इनमें से किसी भी तेल के साथ नाभि की मालिश करने से हार्मोन नियंत्रित होते हैं और गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है।

इस प्रकार आपको अपनी नाभि पर तेल लगाने से कई फायदे मिल सकते हैं। आप ऐसा रोज नहीं, तो हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं। 

नोट : हमेशा एसेंशियल ऑयल को वाहक तेलों के साथ पतला करें और फिर उनका उपयोग करें। क्‍योंकि इसका अधिक मात्रा में उपयोग त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। 

Read More Article On Ayurveda In Hindi  

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK