• shareIcon

अनुवांशिक बीमारियों का पता लगाना होगा आसान

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Dec 07, 2012
अनुवांशिक बीमारियों का पता लगाना होगा आसान

जेनेटिक भिन्‍नता के चलते होने वाली कई बीमारियों का अंदाजा अब पहले से ही लगा पाना आसान होगा।

anuvanshik beemariyon ka pata lagana hoga asan

जेनेटिक भिन्‍नता के चलते होने वाली कई बीमारियों का अंदाजा अब पहले से ही लगा पाना आसान होगा। कोलकाता स्थित इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्‍टीवेशन ऑफ साइंस (आईएसीएस) के वैज्ञानिकों ने जीनक्रमों की भिन्‍नताओं का पता लगाने की खास तकनीक विकसित की है। इससे कैंसर, कुष्‍ठ  जैसी संक्रामक बीमारियां, एड्स व अन्‍य कई बीम‍ारियों के प्रति संवेदनशीलता का पहले से पता लगाया जा सकेगा।

 

[इसे भी पढ़ें: आंत के कैंसर से बचाता है चावल]

 

आईएसीएस में बायोलॉजिकल केमिस्‍ट्री की एसोसिएट प्रोफेसर रूपा मुखोपाध्‍याय के मुताबिक इस प्रकार की अनुवांशिक विसंगतियों से हमें पता चलता है कि हमारा शरीर वायरस, बैक्‍टीरियम, प्रीयान या फंगज जैसे बीमारी फैलाने वाले पैथोजेंस से कैसे मुकाबला करता है। इन अनुवांशिक विसंगतियों का पता लगाकर किसी भी व्‍यक्ति में बीमारी के प्रति संवेदनशीलता का पता लगाया जा सकता है।

 

[इसे भी पढ़ें: एक्जिमा है त्वचा का दुश्मन]

 

जीनक्रमों में इस प्रकार की असमान्‍यता को डीएन पर आधारित बायोसेंसर तकनीक के जरिए पता लगाया जा सकता है। डीएनए एक सीढ़ीनुमा घुमावदार अणुओं की संरचना होती है जो जैविक गुणों को अगली पीढ़ी मे ले जाती है। जबकि, बायोसेंसर उपकरण एंजाइम और एंटीबॉडीज जैसे किसी जैविक पदार्थ या जैविक अणु में रसायनों की मौजूदगी का पता लगा लेता है।

 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK