Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

एनीमिया, थकान और कमजोरी विटामिन B12 की कमी के हैं संकेत, उम्र (महिला और पुरुष) के अनुसार जानें अपनी जरूरत

विविध
By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 12, 2019
एनीमिया, थकान और कमजोरी विटामिन B12 की कमी के हैं संकेत, उम्र (महिला और पुरुष) के अनुसार जानें अपनी जरूरत

ये तथ्‍य व्‍यापक रूप से ज्ञात है कि विटामिन B12, अंडे, डेयरी उत्‍पाद, सी फूड आदि में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। विटामिन B12 की दैनिक जरूर व्‍यक्ति के लिंग, उम्र औ

विटामिन B12 हमारे शरीर के लिए एक आवश्‍यक विटामिन है, जो कि पानी में घुलनशील पोषक तत्‍व है। विटामिन B12 की खुराक उम्र, लिंग और जीवनशैली के आधार पर दी जाती है। मेटाबॉलिज्‍म के निर्माण के अलावा यह मस्तिष्क के समुचित कार्य और डीएनए निर्माण में मदद करता है। यह आपके शरीर में कई वर्षों तक संग्रहीत किया जा सकता है। विटामिन B12 की कमी से गंभीर समस्‍याएं देखने को मिल सकती हैं। इस विटामिन की कमी से एनीमिया, कमजोरी और थकान हो सकती है, और कुछ मामलों में, तंत्रिका क्षति (Nerve damage) हो सकती है। 

कुछ कारण हैं, जो विटामिन B12 की कमी का कारण हो सकते हैं: 

आहार: पूरी तरह से शाकाहारी भोजन का सेवन करें।

उम्र: 50 से अधिक उम्र के व्‍यक्तियों में इसकी कमी देखने को मिलती है। 

एनीमिया: शरीर में B12 को अवशोषित करने में असमर्थता के कारण खून की कमी हो सकती है जो RBC को संश्लेषित करती है।

सर्जरी: वजन घटाने की सर्जरी से B12 का अवशोषण कम हो जाता है।  

ये तथ्‍य व्‍यापक रूप से ज्ञात है कि विटामिन B12, अंडे, डेयरी उत्‍पाद, सी फूड आदि में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। विटामिन B12 की दैनिक जरूर व्‍यक्ति के लिंग, उम्र और जीवनशैली जैसे विभिन्‍न कारकों पर निर्भर करता है। आप सप्लीमेंट्स लेकर अपने दैनिक विटामिन B12 की आवश्यकता पूरी कर सकते हैं। 

vitamin-b12 

उम्र के आधार पर विटामिन B12 की कितनी खुराक की है जरूरत

50 से कम उम्र के लोग

14 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों को दैनिक जरूरत का 2.4 mcg की आवश्‍कता होती है, जोकि उन्‍हें रोजाना कि डाइट से मिल सकता है। ऐसे लोगों को आमतौर सप्‍लीमेंट नहीं दिया जाता है। खाने में अंडे, टूना आदि शामिल करने की सलाह दी जाती है। हालांकि आप सप्‍लीमेंट लेकर भी इसकी आपूर्ति कर सकते हैं। 

50 से ज्‍यादा उम्र के लोग

अधिक उम्र के लोगों में विटामिन B12 की कमी होने का खतरा अधिक रहता है। उम्र के साथ, शरीर कम एसिड का उत्पादन करता है, जो भोजन में B12 तक पहुंचता है। 65 वर्ष से अधिक आयु के 62 प्रतिशत वयस्कों में इष्टतम रक्त का स्तर कम पाया जाता है। इस प्रकार, नेशनल एकेडमी ऑफ मेडिसिन B12 के इष्टतम स्तर तक पहुंचने के लिए सप्‍लीमेंट और फोर्टीफाइड फूड की सिफारिश की जाती है, जैसे फोर्टिफाइड नारियल का दूध या फोर्टिफाइड अनाज। विटामिन से कैसे दूर होगी हाथ-पैरों में होने वाली झुनझुनाहट

गर्भवती महिलाएं 

सामान्य लोगों की तुलना में गर्भवती महिलाओं को स्वाभाविक रूप से अधिक मात्रा में B12 की आवश्यकता होती है। इस पोषक तत्व का स्तर कम होना शिशुओं में जन्म दोष से जोड़ा गया है। यह शिशुओं को जन्म के समय वजन की कमी जैसे जोखिम में भी डाल सकता है। इस प्रकार, गर्भवती महिलाओं के लिए दैनिक जरूरत का 2.6 mcg है। इसके लिए अच्छी डाइट जरूरी है या प्रसवपूर्व विटामिन लिया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: शरीर में विटामिन बी-12 की कमी है तो जरूर खाएं ये 4 आहार, मिलेंगे ढेर साले लाभ

स्तनपान कराने वाली महिलाएं

विटामिन B12 की कमी स्तनपान करने वाले शिशुओं के विकास में कमी ला सकते हैं। स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए विटामिन B12 दैनिक जरूरत का 2.8 mcg है। 

इसे भी पढ़ें: अगर शरीर है विटामिन बी12 की कमी तो हो जाएं सावधान!

विटामिन B12 ऊर्जा बढ़ाता है

B12 को ऊर्जा के स्तर में सुधार करने के लिए विशेष रूप से जोड़ा गया है, खासकर उन लोगों में जिनमें इस विटामिन की कमी है और वो सप्‍लीमेंट ले रहे हैं। कुछ अध्ययनों में एक महीने के लिए प्रति दिन 1mg का सेवन करने का सुझाव दिया गया है, इसके बाद B12 के आदर्श स्तर को बनाए रखने के लिए प्रति दिन लगभग 125-250 mcg की खुराक दी जाती है। B12 का सेवन यादादाश्‍त और मनोदशा में सुधार के साथ भी जुड़ा हुआ है, हालांकि इस का समर्थन करने के लिए ज्‍यादा वैज्ञानिक सिद्धांत नहीं हैं।

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Written by
Atul Modi
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 12, 2019

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK