• shareIcon

डेढ़ साल में 34 kg वजन घटाकर fat to fit हुई ये एनआरआई महिला, इस डाइट से ब्लड शुगर भी किया कंट्रोल

वज़न प्रबंधन By जितेंद्र गुप्ता , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Sep 10, 2019
डेढ़ साल में 34 kg वजन घटाकर fat to fit हुई  ये एनआरआई महिला,  इस डाइट से ब्लड शुगर भी किया कंट्रोल

47 साल की अनिंदिता देवघरिया का कहना है कि मैं केवल उन महिलाओं को प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रही हूं कि जो एक उम्र के बाद आशाहीन हो जाती है कि वह अब वजन नहीं घटा सकतीं।

मौजूदा समय में वजन घटाना किसी सपने से कम नहीं है और जब यह सपना साकार होता है तो मोटापा से जूझ रहे व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान देखते ही बनती है। ऐसे ही सपने को साकार कर दिखाया है अनिंदिता देवघरिया ने। 47 साल की अनिंदिता दो बच्चों की मां हैं और पिछले 22 वर्षों से अमेरिका में रह रही हैं। कुछ वक्त पहले तक 102 किलो की रहीं अनिंदिता ने अपनी मजबूत इच्छाशक्ति और ढृढ संकल्प के साथ अपना वजन घटाने का सफर शुरू किया था और अब परिणाम सबके सामने हैं। अनिंदिता अब 68 किलोग्राम की है और दूसरों को अपने वजन घटाने के सफर की कहानी बता रही हैं कि कैसे उन्होंने कई मुश्किलों को पार कर अपने इस वजन घटाने के सपने को पूरा किया। तो आइए जानते हैं कि कैसा रहा अनिंदिता का सफर उनकी जुबानी।

फार्मास्युटिकल रेगुलेटरी कंपनी, ग्लोबल फार्मा कंसल्टेंट्स, एलएलसी की प्रेजिडेंट अनिंदिता का फिटनेस सफर जनवरी 2016 में शुरू हुआ था। अपने वजन को घटाने के लिए उन्हें करीब डेढ़ साल का वक्त लगा। अनिंदिता अभी भी काम कर रहे हैं। उनका कहना है कि वजन घटाना एक प्रक्रिया है न कि कोई ऐसी चीज कि एक रात में हो जाए। उन्होंने कहना है कि मैं केवल उन महिलाओं को प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रही हूं कि जो एक उम्र के बाद आशाहीन हो जाती है कि वह अब वजन नहीं घटा सकतीं।

अनिंदिता का कहना है, ''आज जो मैंने एक सबसे बड़ी उपल्बधि हासिल की है वो यह है कि मेरा डायबिटीक स्तर जो पहले बहुत लो (11.4) हुआ करता था, आज वह 5.8 हो गया है, जिसको लेकर मैं बहुत खुश हूं।  मेरे डॉक्टर ने मेरी दूसरी दवाइयां बंद करवा दी। एक समय ऐसा था कि मैं डायबिटीज के लिए 6 से 7 दवाई ले रही थीं और मेरा ब्लड शुगर तब भी कंट्रोल नहीं रहता था।''

ठान लेना बहुत जरूरी

अनिंदिता का कहना है कि जब मैं 44 साल की थी और मेरा वजन 102 किलो था तब मैंने ठान लिया कि मुझे वजन घटाने को लेकर वास्तव में कुछ करने की जरूरत है। मेरी मां मोटी थी और उन्हें ऑस्टियोआर्थराइटिस था। एक वक्त ऐसा आया जब उनके पैरों में गतिशीलता समाप्त हो गई और उन्हें बिस्तर पकड़ना पड़ा। उन्हें और कोई बड़ी स्वास्थ्य समस्या नहीं थी। डॉक्टरों का कहना था कि ऐसा उनके अतिरिक्त वजन होने के कारण हुआ है, जिसके कारण अब उनके पैर उनका वजन नहीं उठा सकते। तब मुझे अहसास हुआ कि अगर मुझे अपनी भावी जिंदगी अच्छी चाहिए तो मुझे अपना वजन घटाने के लिए कुछ करने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ेंः वजन घटाते वक्त इन 4 बातों का हमेशा रखें ख्याल, कभी भी नहीं होगी कमजोरी

कैसे हुई सफर की शुरुआत

अनिंदिता ने कहा, ''मैंने वेगन (शाकाहारी) डाइट प्लान के साथ शुरुआत की। मैंने डॉ. जोएल फुहरमैन द्वारा लिखित 'ईट टू लिव' नाम की किताब पढ़ी। मैंने उस प्लान का पालन किया और महज दो सप्ताह के भीतर 6 किलो तक वजन घटाया। इसने मुझे आगे जारी रखने के लिए प्रेरित किया। यह वजन घटाने का एक स्वस्थ तरीका था और मुझे यह प्लान बेहद अच्छा लगा। इसके बाद मैंने बॉलीवुड एक्सरसाइज क्लास भी ज्वाइन किया। शुरुआत में यह बहुत मुश्किल था। मैं औरों के साथ ऐसा करने में सक्षम नहीं थी लेकिन चूंकि मुझे डांस करना पसंद था इसलिए मैंने सप्ताह में तीन बार क्लास जाना जारी रखा। मैंने ध्यान देना शुरू किया कि मेरे स्टेमिना में अंतर आ रहा है। मेरा वजन कम होना शुरू हो गया था।''

और भी थी बीमारियां

उन्होंने कहा, ''मुझे डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर जैसी अन्य स्वास्थ्य समस्याएं थीं। मुझे पता था कि मुझे अपना वजन तेजी से कम करने के लिए कुछ करने की जरूरत है। अगर मैं ऐसा नहीं करूंगी तो मेरा डॉक्टर मुझे इंसुलिन दे देगा, जो मैं नहीं चाहती थी। तब मैंने अपने डॉक्टर के ऑफिस से बाहर आकर डाइट प्लान की कोशिश करने का फैसला किया, जिसमें लो कार्ब और हाई प्रोटीन शामिल था। मैंने सप्ताह में लगभग दो दिन एक निजी प्रशिक्षक के साथ स्ट्रेंथ ट्रेनिंग भी करना शुरू किया।''

आसान नहीं रही राह

अनिंदिता ने कहा, ''मैं बीते कई वर्षों से ढेरों प्लान शुरू कर चुकी थी लेकिन कुछ वक्त बाद उन्हें छोड़ देती थी। मुझे लगता है हर किसी को अपनी प्रेरणा की जरूरत होती है। मेरे लिए, क्योंकि यह मेरे स्वास्थ्य को लेकर था, मैं चुनौती लेने के लिए तैयार थी। जब आप शुरू करते हैं तो यह कभी भी आसान नहीं होता। चूंकि आप अपनी खाने की आदत में बदलाव कर रहे होते हैं, इसलिए पहले कुछ दिन बेहद मुश्किल होते हैं। कोई भी बेहद गुस्सैल और उसमें चिड़चिड़ापन हो सकता है। इसलिए आपको इससे गुजरते वक्त मदद के लिए आपके आसपास मौजूद लोगों के समर्थन की आवश्यकता होती है। मेरे पति ने मुझे समर्थन देने के लिए  वास्तव में मेरे साथ वेगन डाइट प्लान शुरू किया था लेकिन उन्होंने दो सप्ताह के बाद इसे बंद कर दिया। अगर आप शुरुआत वाले हिस्से को जारी रखते हैं और परिणाम आते हुए देखते हैं तो आपको खुद ब खुद लगेगा कि इसे जारी रखना चाहिए।''

इसे भी पढ़ेंः इन 5 सस्ती जड़ी-बूटियों के साथ आप आसानी से घटा सकते हैं वजन, जानें इसके फायदे

किसने रखा प्रेरित

उन्होंने बताया, ''मेरे स्वास्थ्य ने। मेरा लक्ष्य था कि मुझे अपनी सेहत वापस चाहिए क्योंकि मेरे बच्चे बड़े हो रहे थे। मैं बिना इंसुलिन के अपना ब्लड शुगर कंट्रोल रखना चाहती थी। वेगन प्लान शुरू करने के पहले दो सप्ताह के भीतर ही मुझे परिणाम दिखना शुरू हो गए थे। ''

आज क्या है आपका फिटनेस मंत्र

आप कोई भी प्रोग्राम चुनें बस उसपर बने रहें। उसे बीच में न छोड़ें। अगर आप रास्ते से भटक गए हैं तो जल्द से जल्द उस पर वापस लौटने का प्रयास करें क्योंकि आप कर सकते हैं। वजन घटाना से मतलह सिर्फ चर्बी घटाने से नहीं है बल्कि ये स्वस्थ और फिट रहने के बारे में है।

आपका डेली डाइट चार्ट क्या है

अपनी डाइट के बारे में बताते हुए अनिंदिता ने कहा कि मैं अभी भी लो कार्ब, हाई प्रोटीन डाइट ले रही हूं। मैं रात को ओट्स और बहुत सी बेरी भिगोती हूं और उन्हें दालचीनी पाउडर साथ सुबह खाती हूं। मैं अपनी प्लेट पर बहुत बारीकी से नजर रखती हूं।

  • मैं लंच मैं प्रोटीन शेक लेती हूं। रात में आमतौर पर मैं चपाती और बहुत सारी सब्जियां और कुछ प्रोटीन लेती हूं।
  • खाने के बीच जब भी मुझे भूख लगती है मैं कुछ नट्स या सेब का टुकड़ा और पीनट बटर खा लेती हूं।
  • मैं चावल, आलू, आटा और मिठाई खाना पसंद नहीं करती।
  • मैंने पिछले कुछ वर्षों से चाय में चीनी डालना बंद कर दिया है। इसके अलावा मैंने अपनी डाइट में जितना हो सके उतनी कम शुगर लेना का प्रयास किया है।
  • जब भी संभव होता है मैं मूंग स्प्राउट्स और अन्य बीन्स खाने की कोशिश करती हूं। मुझे फैट का सेवन कम से कम करना पसंद है। मैंने हाल ही में शॉर्ट टर्म डाइट ली थी, जिसके कारण मैंने एक महीने में चार किलो कर वजन कम कर दिया था। मैं "नो फैट, नो शुगर" डाइट अपना रही हूं। मुझे वह डाइट बेहद पसंद है क्योंकि मैं स्वच्छ और स्वस्थ भोजन करना पसंस करती हूं।

डेली वर्कआउट रूटीन क्या है

उन्होंने कहा, ''मैं सप्ताह में तीन से चार बार एक घंटे वर्कआउट (बॉलीवुड जुंबा )करती हूं। जब मैंने अपना अधिकतर वजन घटा लिया था तो मैंने एक पर्सनल ट्रेनर के साथ सप्ताह में दो दिन स्ट्रेंथ ट्रेनिंग भी करना शुरू कर दिया था। '' 

दूसरी महिलाओं के लिए संदेश

आप अकेली नहीं हैं और वजन घटाना कोई असंभव कार्य नहीं है। सिर्फ एक कार्यक्रम चुनिए और उसके साथ अंत तक जुड़े रहें। उस प्लान के साथ धोखा मत करिए अगर आप नतीजे चाहती हैं तो। अपने आस-पास एक ऐसे सपोर्ट सिस्टम बनाएं, जो आपकी मदद करें और आपके प्रति जवाबदेह हों। अपने सपने को ध्यान में रखिए औप उसके लिए काम करती रहिए। जब आप अपना लक्ष्य हासिल करेंगी और स्वस्थ हो जाएंगी तो उससे अच्छी भावना आपके लिए दूसरी नहीं होगी।

Read More Articles on weight loss in hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK