• shareIcon

डायबिटीज को जड़ से काटने में वरदान है बादाम, जानें सेवन का सही तरीका

घरेलू नुस्‍ख By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 13, 2018
डायबिटीज को जड़ से काटने में वरदान है बादाम, जानें सेवन का सही तरीका

नवम्बर 14 विश्व मधुमेह दिवस के रूप में मनाया जाता है जिसका उददेश्य मधुमेह के प्रति जागरूकता तथा शिक्षा बढ़ाना है।

नवम्बर 14 विश्व मधुमेह दिवस के रूप में मनाया जाता है जिसका उददेश्य मधुमेह के प्रति जागरूकता तथा शिक्षा बढ़ाना है। वर्तमान में विश्व भर में 425 मिलियन लोग मधुमेह से प्रभावित हैं जिसमें से 2017 के अनुसार 72.9 मिलियन से अधिक केस भारत में है, इनमें से अधिकांश में टाइप 2 का मधुमेह है और इससे कार्डियोवेस्कुलर रोग तथा इसकी जटिलताओं के जोखिम में वृद्वि होती है। हाल ही में इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन द्वारा टाइप 2 के 12000 लोगों पर कराए गये एक सर्वेक्षण में यह खुलासा हुआ कि तीन में से 2 लोगों में कार्डियोवेस्क्यूलर जोखिम तत्व पाये गये, हांलाकि एक चैथाई ने कहा कि उन्होनें कभी भी अपने चिकित्सक से कार्डियोवेस्क्यूलर जोखिम तत्वों से जिक्र नहीं किया या उन्हें याद नहीं कि उन्होनें कभी जिक्र किया। 

 शोध ने यह सुझाव दिया कि जीवनशैली बदलने से जिसमें शारीरिक गतिविधियां शामिल हो, अतिरिक्त वजन घटाने से और आहार में महत्वपूर्ण बदलाव लाने से ना सिर्फ टाइप 2 टाइबिटीज के प्रबंधन में मदद मिलेगी बल्कि इससे टाइप 2 डायबिटीज के विकसित होने के जोखिम को भी बहुत कम कर सकती हैं और यहां तक कि दवाईयों से भी अधिक दीर्घकालीन प्रभाव प्रदान कर सकती है। आॅमन्ड बोर्ड आॅफ कैलिफोर्निया द्वारा वित्तपोषित अध्ययनों में यह दर्शाया गया कि अपने स्वस्थ आहार में बादाम को शामिल करके टाइप 2 डायबिटीज के लोगों में कार्डियोवेस्कुलर लाभ की क्षमता हैः

50 एशियाई भारतीयों के साथ टाइप 2 मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्राॅल के स्तरों के अध्ययन में पाया गया कि पूरे, अनियंत्रित बादामों के  विकल्प को अपनाना -जो भारतीय संस्कृति में पहले से ही एक परिचित भोजन है- अच्छी तरह से संतुलित आहार में 20 प्रतिशत कैलोरी के लिए हृदय स्वास्थ्य के उपायों में काफी सुधार हुआ है जो टाइप 2 मधुमेह से जुड़ा हुआ है और जिसमें शामिल हैं—

इसे भी पढ़ें : मुंह के छालों में फायदेमंद हैं ये 5 नुस्खे, 5 मिनट में मिलेगी राहत

  • कमर की परिधिः कमर पर अतिरिक्त वसा का जमना एक स्वास्थ जोखिम का संकेतक है ।
  • कमर से लम्बाई का अनुपातः बाॅडी वसा वितरण का एक मानक है।
  • कुल कोलेस्ट्राॅल: रक्त में कोलेस्ट्राॅल की मात्रा का एक मानक
  • ट्राईग्लेसेराईड्सः रक्त में वसा का एक प्रकार जिससे हृदय रोग का जोखिम बढ जाता है।
  • एलडीएल कोलेस्ट्राॅल: खराब तरह का कोलेस्ट्राॅल जो धमनियों को अवरूद्व करने का प्रमुख स्रोत है।
  • सी रिएक्टिव प्रोटीनः शरीर में सूजन का एक मापक।
  • हिमोग्लोबिन ए1: दो तीन माह के अंतराल में रक्त र्शकरा के स्तर के औसत मानक। 
  • एशियाई भारतीयों में टाइप 2 डायबिटीज के लिए अनुवांशिक पूर्वाग्रह है और ये निष्कर्ष टाइप 2 महुमेह से जुडे कार्डियोवेस्कुलर जोखिक कारकों पर बादाम के कई फायदेमेंद प्रभावों को दर्शाते हैं। 

डायबिटीज, हद्य रोग और मधुमेह

टाइप 2 मधुमेह वाले 33 चीनी प्रतिभागियों के बीच एक और अध्ययन में, जिन्होंने हदय को स्वस्थ आहार खाया, इन पर रक्त शर्करा के स्तर और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी कारकों के रखरखाव पर एक दिन में 60 ग्राम बादाम शामिल करने के प्रभाव को देखा गया। बादाम आहार ने कुल बेहतर पोषण प्रदान किया गुणवत्ता, न तो बादाम या बादाम के बिना आहार से रक्त शर्करा स्तर में सुधार हुआ , ना ही उम्मीद के अनुसार अधिकांश कार्डियोवेस्कुलर जोखिम के कारकों में। हालांकि, शोधकर्ताओं ने पाया कि प्रतिभागियों के एक उप-समूह में जिनके पास काफी अच्छी तरह से नियंत्रित टाइप 2 मधुमेह था, बादाम आहार ने फास्टिंग सिरम ग्लूकोज स्तर (जो फास्टिंग के बाद क रक्त शर्करा के स्तर को मापता है ) में 6 प्रतिशत की कमी पाई गई और एचबीए1सी (जो अधिक रक्त शर्करा के स्तर को मापता है, एक दो या तीन महीने की अवधि में ) में 3 प्रतिशत की कमी पाई पाई गई। इन परिणामों से पता चलता है कि एक स्वस्थ आहार में बादाम शामिल करने से बेहतर नियंत्रित प्रकार 2 मधुमेह वाले लोगों में दीर्घकालिक रक्त शर्करा के स्तर में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें : पुरानी से पुरानी बवासीर को सही करता है जिमीकंद, जानिए इसके लाजवाब फायदे

कितनी मात्रा में लें बादाम

एक बेतरतीब(रेन्डम) नियंत्रित क्लीनिकल अध्ययन ने हृदय रोग के जोखिम कारकों और डायबिटीज के बेहद खराब नियंत्रित टाइप 2 के 21 अमेरीकी वयस्कों को 12 सप्ताह तक 1.5 औंस बादाम के आहार के प्रभावों को जांचा। बादाम उपभोग करने वाले समूह (एन = 10य औसत आयु 57.8 वर्ष) में प्रतिभागियों ने सी-प्रतिक्रियाशील प्रोटीन (सीआरपी) स्तरों में लगभग 30 प्रतिशत की कमी का अनुभव किया, जो दिल की बीमारी के जोखिम से जुड़े सूजन का एक संकेत है, उन लोगों की तुलना में जिन्होनें बादाम का सेवन नहीं किया थ (एन = 11, यानिकि औसत उम्र 54.7 साल)। सूजन को हृदय रोग, मधुमेह, और अन्य पुरानी बीमारियों में भूमिका निभाने के लिए माना जाता है, और ऊंचा सीआरपी टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है।

बादाम के अन्य फायदे

कुल मिलाकर, बादाम ग्लाइसेमिक इंडेक्स को कम करती है और आहार फाइबर, रिबोफाल्विन, मैग्नीशियम, प्रोटीन, कैल्शियम सहित एक शक्तिशाली पोषक तत्व प्रदान करते हुए उनकी बहुमुखी प्रतिभा और कई रूपों के साथ जोडकर टाइप 2 मधुमेह के रोगों को राहत प्रदान करती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK