छुट्टियां और एलर्जी

Updated at: May 20, 2015
छुट्टियां और एलर्जी

छुट्टियों में एलर्जी से प्रभावित लोगों को सामान्य लोगों की तुलना में घर से दूर रहने में अधिक परेशानी होती है।

 

Shabnam Khan
एलर्जीWritten by: Shabnam Khan Published at: May 20, 2015

छुट्टियों का मौसम यानी समर वेकेशन आ चुके हैं। ऐसे में बहुत से लोग अपने परिवार समेत छुट्टियां मनाने घर दूर जाते हैं। घूमना फिरना किसे पसंद नहीं होता लेकिन एलर्जी से प्रभावित लोगों को सामान्य लोगों की तुलना में घर से दूर रहने में अधिक परेशानी होती है क्योंकि बाहर जाकर वो बाहर के एलर्जेन, सेंट, आहार और वातावरण के सम्पर्क में आते हैं।

छुट्टियों की तैयारी से पहले आप यह जान लें कि यह परेशानी कभी भी हो सकती है और आपकी छुट्टियों का मज़ा किरकरा हो सकता है। इस दौरान अगर आपको ठीक से नहीं पता है कि आपको एलर्जी है या नहीं तो आप अपने पारिवारिक चिकित्सक से या इम्यूनोलाजिस्ट से सम्पर्क कर सकते हैं। यहां हम आपको कुछ ऐसे तरीके बता रहे हैं जो घर से बाहर जाने पर एलर्जी से बचने में आपकी मदद करेंगे।

women in hindi

कार के अंदर

यह मुख्यतः उन लोगों को हो सकता है जिन्हें नाक से संबंधी एलर्जी रहती है। ऐसे में कार से चलने के दौरान एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है। एलर्जेन के सम्पर्क में आने से बचने का एक आसान तरीका है कार में बैठने से 10 मिनट पहले एसी चला दें। ऐसा करने से कार में मौजूद सभी कीड़े और मोल्ड स्पोर निकल जायेंगे। विशेषज्ञ ऐसी सलाह देते हैं कि खिड़किया बंद करके ही कार से चलें। यह ध्यान रखने योग्य बात है कि सुबह या देर शाम को कार से चलना ज़्यादा अच्छा होता है। ऐसे समय यात्रा ना करें जब हवा की क्वालिटी खराब हो।

प्लेन

प्लेन में एलर्जेन की मात्रा मोल्ड, डस्ट माइट और पोलेन के रूप में अधिक होती है। प्लेन से यात्रा करने के दौरान हवा की क्वालिटी का फोरकास्ट देख लें। अपने बैग में एलर्जी की सभी दवाइयां रखना ना भूलें। ऐसे समय में यात्रा की योजना बनायें जब वायु की क्वालिटी ठीक रहती है। अगर आपको नाक से सम्बन्धी कोई एलर्जी है तो नेज़ल स्प्रे रखना ना भूलें।

Plane in hindi

 

होटल

अगर आप किसी होटल या दोस्त के घर पर ठहर रहे हैं तो ऐसे में कोशिश करें कि आप अपनी तकिया के कवर का इस्तेमाल करें। होटल के बेड धूल के कणों के फैलने की सबसे अच्छी जगह होते हैं। अपने आपको इन एलर्जेन से बचाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने लिए एक अलग बेडिंग ले जायें। दूसरा विकल्प यह हो सकता है कि आप एलर्जी फ्रैंडली या हाइपोएलर्जिक कमरे की व्यवस्था करें। अगर आपको मोल्ड से एलर्जी है तो आप ड्राई और सनी रूम ले सकते हैं और ठंडे और पूल के पास वाले कमरों से दूर रहें। ध्यान रखें कि वातावरण ताज़ा हो। अगर आप पोलेन एलर्जिक हैं तो ऐसे में आपको खिड़कियां खुली रखकर एयर कन्डीशन चला देना चाहिए। होटल के कमरों और आलमारियों में कपड़े ना रखें क्योंकि इनमें मोल्ड के स्पोर रहते हैं।

खुली हवा में

पालेन की स्थिति का पता लगाना बहुत ज़रूरी है। अगर पालेन की स्थिति बाहर के वातावरण में ज़्यादा है तो ऐसे में घर के अन्दर रहने की कोशिश करें।विशेषज्ञ ऐसी सलाह देते हैं कि वातावरण में मौजूद पालेन आपके बालों में और कपड़ों में चिपक सकते हैं। ध्यान रखें कि बाहर से आने के बाद आप ठीक तरीके से नहायें। ध्यान रखें कि कुछ जगहों पर साइकलिक एलर्जेन बहुत ही प्रभावी होते हैं।

इस प्रकार की सभी जानकारियों और सावधानियों को ध्यान में रखें और अपनी छुट्टियों और यात्रा का आनन्द उठायें।

Image Source - Getty Images

Read More Artcles on allergy in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK