• shareIcon

Delhi Pollution: प्रदूषण भरा माहौल आपको बना सकता है डिप्रेशन का शिकार, रिसर्च में हुआ खुलासा

Updated at: Nov 05, 2019
लेटेस्ट
Written by: शीतल बिष्‍टPublished at: Nov 05, 2019
Delhi Pollution: प्रदूषण भरा माहौल आपको बना सकता है डिप्रेशन का शिकार, रिसर्च में हुआ खुलासा

जब आप दिल्ली-एनसीआर जैसी जहरीली हवा में रह रहे हों, तो आप ये जान लें कि यह वायु प्रदूषण न केवल आंखों में जलन, गले में खराश और सांस लेने में तकलीफ पैदा कर रहा है, बल्कि आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी प्रभावित कर रहा है। 

वायु प्रदूषण का स्तर पिछले तीन साल के ऊँचे स्तर पर पहुँच गया है, जो कि एक गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या की स्थिति पैदा कर रहा है। वायु प्रदूषण न केवल आपके फेफड़ों पर बुरा असर डाल रहा है, बल्कि यह आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी प्रभावित कर रहा है। हाल में हुए एक अध्‍ययन के अनुसार वायु प्रदूषण युवाओं में डिप्रेशन और स्‍ट्रेस लेवल को बढ़ा सकता है। 

क्‍या कहती है रिसर्च?

एन्वायरमेंटल हेल्थ पर्सपेक्टिव्स पर छपे एक अध्ययन के अनुसार वायु प्रदूषण का बढ़ता स्‍तर युवाओं में डिप्रेशन और स्‍ट्रेस लेवल को बढ़ाने के लिए जिम्‍मेदार है। जिसकी वजह से युवाओं में आत्‍महत्‍या का स्‍तर बढ़ रहा है। यह जहरीली हवा आपके शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के साथ मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को भी बुरी तरह प्रभावित कर रही है। 

Air_Pollution

इस रिसर्च में 144 युवाओं के एक सामाजिक तनाव के स्‍तर की जांच की गई, जिसमें 5 मिनट की स्‍पीच और गणित टेस्‍ट शामिल था। अध्‍ययन में प्रतिभागियों की हृदय गति और अन्य शारीरिक प्रतिक्रियाओं का अध्ययन करने के बाद, यह पाया गया कि उनमें तनाव के लिए एक ऑटोनोमिक रिस्‍पॉन्‍स के साथ स्‍ट्रेस का लेवल 2.5 का स्तर बढ़ गया था।

इसे भी पढें: खतरनाक प्रदूषण के प्रभाव को कम करेंगी ये 3 ड्रिंक्स, फेफड़े होंगे डिटॉक्‍स

वायु प्रदूषण और तनाव या डिप्रेशन के बीच संबंध 

अध्ययन में जहरीली हवा और अधिक तनाव या डिप्रेशन के बीच संबंध को स्पष्ट नहीं किया गया है, लेकिन यह अध्‍ययन इस तथ्य पर फिर से जोर देता है कि जहरीली हवा न्यूरोडेवलपमेंट और संज्ञानात्मक कार्य को भी नुकसान पहुंचा सकती है।

वायु प्रदूषण से बचने के लिए डॉक्टरों द्वारा यही सलाह दी जा रही है कि जब तक बिल्कुल ज़रूरत न हो, बाहर जाने से बचें। क्‍योंकि यह जहरीली हवा आपको तेजी से साँस लेने में मुसीबत का कारण हो सकती है। ऐसे में यह किसी को भी तनाव में डालने और खराब मूड के लिए जिम्‍मेदार है। 

Air_Pollution

इसे भी पढें: दिल्‍ली के प्रदूषण पर प्रियंका चोपड़ा ने एयर प्‍यूरीफायर और मास्‍क के बारे में कही ये बात

वायु प्रदूषण आपको डिप्रेशन में कैसे डाल सकता है?

ओशनर जर्नल (Ochsner Journal)में प्रकाशित 2018 के चीन के आंकड़ों के मुताबिक, वातावरण में PM 2.5 में हर 1% की बढ़ोत्तरी पर मानसिक तनाव या डिप्रेशन में 6.67% तक का इजाफा हो सकता है।

इसलिए, जहरीली हवा न केवल आपके फेफड़ों को नुकसान पंहुचा सकती है, बल्कि यह आपके सोचने के तरीके को भी प्रभावित करती है। वायु प्रदूषण हमारे मानसिक स्वास्थ्य को कितना नुकसान पहुंचा रहा है, यह निर्धारित करने के लिए गहराई से शोध करने की सख्‍त जरूरत है।

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK