कोरोना के बाद अब डेंगू की चपेट में आए दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, जानें कितनी खतरनाक है ये स्थिति

Updated at: Sep 25, 2020
कोरोना के बाद अब डेंगू की चपेट में आए दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, जानें कितनी खतरनाक है ये स्थिति

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की कोरोना वायरस जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब डेंगू का शिकार हो गए हैं।

Vishal Singh
लेटेस्टWritten by: Vishal SinghPublished at: Sep 25, 2020

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की कोरोना वायरस जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब उन्हें डेंगू के लक्षण भी दिखे। आपको बता दें कि 14 सितंबर को डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया कोरोना पॉजिटिव पाए थे, जिसके बाद वो होम आइसोलेशन में थे। लेकिन तबीयत बिगड़ने से उन्हें बीते बुधवार को जयप्रकाश अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां अब उनकी डेंगू की रिपोर्ट भी पॉजिटिव पाई गई है। 

covid-19

कोरोना के बाद डेंगू की चपेट में मनीष सिसोदिया

जानकारी के मुताबिक, सिसोदिया को सांस में परेशानी और बुखार के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना के साथ इस बात पर भी चिंतित हैं कि डेंगू और अन्य मच्छर जनित बीमारियों का मौसम दुनिया में मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति को बढ़ा सकता है। जबकि दोनों में एक जैसे लक्षण पाए जाते हैं लेकिन दोनों अलग-अलग तरीके से पीड़ित को नुकसान पहुंचाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: रामकृष्ण ने महामारी में घर से 1500 Km दूर रहकर की संक्रमितों की सेवा

ट्वीट कर लोगों को दी थी जानकारी

कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने द्विट कर लोगों को सूचित किया था कि वो कोरोना पॉजिविट हैं और फिलहाल उन्होंने खुद को होम आइसोलेशन में रखा हुआ है। लेकिन कोरोना के बाद डेंगू से पीड़ि मनीष सिसोदिया की प्लेटलेट्स लगातार गिरती जा रही हैं जो एक चिंता का विषय बन गया है। कोरोना और डेंगू की इस स्थिति से ये पता चलता है कि दोनों मरीज को किस हद तक नुकसान पहुंचाते हैं और ये मरीज का खतरा कितना बढ़ाते हैं। 

क्या ये दो वायरस का मौसम है?

ये डॉक्टर और वैज्ञानिकों के लिए एक बड़ा सवाल और चिंता का विषय बनता जा रहा है कि क्या ये मौसम कई वायरस का एक साथ आने का संकेत है? ये समस्या इतनी खतरनाक इसलिए भी हो सकती है क्योंकि इस स्थिति में रोगी को दो अलग-अलग नैदानिक परीक्षणों से गुजरना होगा। इसलिए एक संक्रमण से मरीज दूसरे वायरस के साथ भी गंभीर स्थिति में जा सकता है। वहीं, अगर कोई मरीज कोरोनो और डेंगू का शिकार होता है तो ऐसे में उसकी जिंदगी काफी गंभीर स्थिति में पहुंच सकती है। इसलिए ऐसे में किसी भी लापरवाही से हमे दूर रहना होगा। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना पॉजिटिव मरीजों के लिए खतरनाक है शरीर में जिंक की कमी, शोध में हुआ खुलासा

तेजी से बढ़ रहा है कोरोना का आंकड़ा

आपको बता दें कि हाल ही में चीन से कोरोना वायरस का प्रकोप फैला, जो हम काफी तेजी से दुनियाभर में अपने पैर पसार चुका है। भारत में भी इसका आंकड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है। यही वजह थी कि भारत सरकार और दूसरी सरकारों ने भी अपने-अपने देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी। इस महामारी के साथ अगर दूसरे संक्रमण और दूसरी बीमारी रोगी को अपना शिकार बनाती है तो ये काफी गंभीर स्थिति बन जाएगी। इसलिए इससे निपटना हमारे लिए बहुत जरूरी है। इस गंभीर स्थिति यानी कोरोना या दूसरे संक्रमण को एक साथ होने से बचाव के लिए जरूरी है कि हमे खुद के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने की जरूरत है और बाहर जाने और किसी भी लापरवाही से बचाव जरूरी है। 

Read More In Latest Health News

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK