• shareIcon

साल 2030 तक समाप्‍त हो सकता है एड्स

लेटेस्ट By Nachiketa Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 16, 2015
साल 2030 तक समाप्‍त हो सकता है एड्स

एड्स जैसी महामारी को लेकर संयुक्‍त राष्‍ट्र का एक बयान आया है, यूएनओ की मानें तो भारत सहित पूरी दुनिया में एड्स का खात्‍मा 2030 तक हो जायेगा, अधिक जानने के लिए यह स्‍वास्‍थ्‍य समाचार पढ़ें।

एड्स एक महामारी है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र ने की मानें तो यह महामारी वर्ष 2030 तक समाप्त हो सकती है। वैश्विक प्रतिक्रिया के चलते भारत सहित दुनिया भर में 3 करोड़ एचआईवी के नये संक्रमणों को पिछले 15 सालों में टाल दिया गया।

AIDS in Hindi संयुक्‍त राष्‍ट्र की मानें तो भारत एचआईवी प्रभावित प्रमुख पांच देशों में शामिल है। यूएन एड्स के रणनीतिक सूचना एवं मूल्यांकन के निदेशक पीटर घाइस ने कहा, वर्ष 2015 तक डेढ़ करोड़ लोग जीवन रक्षक एचआईवी ट्रीटमेंट ले रहे हैं।

साल 2011 में सदस्य राष्ट्रों ने डेढ़ करोड़ का जो महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किया था उसे हासिल कर लिया गया है। इस उपलब्धि के साथ ही हमने वर्ष 2000 से एड्स संबंधित करीब 80 लाख मौतों को टाला है।

पीटर घाइस ने बताया, विश्व ने 2000 से 2014 के बीच नये एचआईवी संक्रमणों में 35 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की है। 83 देशों में नये संक्रमणों को कम किया और इसमें बढ़ोतरी नहीं हुई।

पीटर ने बताया कि इसके अलावा जिन देशों में एचआईवी मामलों की संख्या सबसे अधिक है उन सभी ने अपने एचआईवी महामारी के रूख को पलट दिया है। इनमें दक्षिण अफ्रीका, भारत, मोजांबिक, नाइजीरिया एवं जिम्बाब्वे शामिल हैं।

भारत में साल 2014 में 785191 वयस्कों को एंटी रेट्रोवायरल उपचार मिल रहा था। इनमें 11724 गर्भवती महिलाएं शामिल हैं। इसके अलावा 14 साल की आयु वर्ग के 45,546 बच्चों का भी यह उपचार चल रहा था।

 

Image Source-Getty

Read More Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK