अब ब्लड टेस्ट से भी पता चल जाएगा किसे है मनोवैज्ञानिक विकार होने का ज्यादा खतरा: स्टडी

Updated at: Aug 28, 2020
अब ब्लड टेस्ट से भी पता चल जाएगा किसे है मनोवैज्ञानिक विकार होने का ज्यादा खतरा: स्टडी

नए अध्‍ययन में पाया गया है कि अब ब्‍लड टेस्‍ट से मनोवैज्ञानिक विकार होने की संभावना का पता चल सकता है।  

Sheetal Bisht
लेटेस्टWritten by: Sheetal BishtPublished at: Aug 28, 2020

क्या होगा यदि आप पहले से ही जानते हैं कि क्या आप भविष्य में किसी मानसिक विकार को विकसित करने की संभावना रखते हैं? ऐसे में पहले से मनोवैज्ञानिक विकार की भविष्यवाणी से आपको इसे रोकने में मदद मिल सकती है। साइकोटिक डिसऑर्डर या मनोविकृति एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है जहाँ बीमार व्यक्ति वास्तविकता से अलग हो जाता है। दुःख की बात है कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि वे दूसरों के साथ कैसा व्यवहार कर रहे हैं। ज्यादातर लोग अपने परिवार के सदस्यों को भी नहीं पहचानते हैं। इन मानसिक या मनोवैज्ञानिक विकारों में सिज़ोफ्रेनिया और भ्रम संबंधी विकार, को गंभीर मानसिक विकारों के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, जो कि सबसे आम विकारों में से एक भी है। यह न केवल इससे पीड़ित व्यक्ति के लिए, बल्कि उनके करीबी लोगों के लिए भी काफी दर्दनाक हो सकता है। इस प्रकार, मानसिक विकारों की संभावना का प्रारंभिक पूर्वानुमान एक निवारक उपाय के रूप में मदद कर सकता है। हाल में हुए एक नए अध्‍ययन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि अब ब्‍लड टेस्‍ट से पहले ही मनोवैज्ञानिक विकारों के विकसित होने की संभावना का पता लगाया जा सकता है। आइए यहां जानिए, ये नया अध्‍ययन क्‍या कहता है। 

Mental Illness

ब्‍लड टेस्‍ट से लग सकता है मनोवैज्ञानिक विकारों की संभावना का अनुमान 

हाल में हुए इस अध्‍ययन में पाया गया है कि मानसिक विकारों या मनोवैज्ञानिक विकारों की भविष्यवाणी एक ब्‍लड टेस्‍ट से की जा सकती है। यह एक सफल खोज है, जिसे कि हाल ही में विज्ञान पत्रिका 'जेएएमए साइकियाट्री' में प्रकाशित किया गया। इसमें बताया गया है कि कैसे ब्‍लड टेस्‍ट की मदद से  सिज़ोफ्रेनिया और अन्य मानसिक विकारों का अनुमान लगाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं के विकास की गति को धीमा कर सकता है एनोरेक्सिया नर्वोसा : शोध

इस नए शोध के अनुसार, शरीर में कुछ प्रोटीनों को निर्धारित करने के लिए ब्‍लड टेस्‍ट की मदद से ऐसी स्थिति के विकसित होने के भविष्य जोखिमों का पता लगाने में मदद मिल सकती है।

कैसे किया गया अध्‍ययन?

शोधकर्ताओं ने इस अध्‍ययन को करने के लिए अध्‍ययन में उन लोगों के ब्‍लड टेस्‍ट का अध्ययन किया, जो मानसिक विकारों के लक्षण दिखाते थे और एक स्थिति विकसित करने की अत्यधिक संभावना रखते हैं। उनके ब्‍लड सैंपल का विश्लेषण करने के बाद, शोधकर्ताओं ने प्रोटीन के एक पैटर्न की पहचान की, जो खतरनाक सिज़ोफ्रेनिया या अन्य मानसिक विकारों के विकास की संभावना को स्थापित करने में मदद कर सकता है। उन्होंने ब्‍लड सैंपल का अध्ययन किया, जहां से प्रतिभागियों द्वारा एक स्थिति विकसित करने से कुछ सालों पहले ही परिणाम निकाला गया था।

इसे भी पढ़ें: किचन में भी फैल सकता है कोरोना संक्रमण, घर और रसोई को डिसइंफेक्ट करने के लिए मानें FSSAI की गाइडलाइन

वरिष्ठ शोधकर्ता और संबंधित लेखक और आरसीएसआई यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज, डबलिन, आयरलैंड में आणविक मनोचिकित्सा के प्रोफेसर डेविड कॉटर, कहते हैं: "आदर्श रूप से, हम मानसिक विकारों को रोकना चाहते हैं, लेकिन इसकी सही पहचान करने में सक्षम होने की आवश्यकता है कि कौन इसके सबसे अधिक जोखिम में है। हमारे शोध से पता चला है कि मशीन लर्निंग की मदद से, ब्‍लड सैंपलों में प्रोटीन के स्तर के विश्लेषण से यह अनुमान लगाया जा  सकता है कि वास्तव में कौन मनोवैज्ञानिक विकारों के अधिक जोखिम में है। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK