• shareIcon

ज्‍यादा तनाव और चिंता करने से हो सकती हैं ये 7 शारीरिक समस्‍याएं, सातवीं है जानलेवा

Updated at: Jun 03, 2019
अन्य़ बीमारियां
Written by: अतुल मोदीPublished at: Jun 03, 2019
ज्‍यादा तनाव और चिंता करने से हो सकती हैं ये 7 शारीरिक समस्‍याएं, सातवीं है जानलेवा

शरीर में कई तरह की समस्‍याएं हो सकती हैं, मगर कुछ स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं इस बात का संकेत हैं कि आप बहुत ज्‍यादा तनाव या चिंता करते हैं। यहां हम तनाव से जुड़े कुछ लक्षणों के बारे में बता रह

मौसम के अनुसार हर किसी के मूड में बदलाव स्‍वाभाविक है। लेकिन लेकिन अगर कुछ ऐसा है जो आपको कुछ समय से लगातार परेशान कर रहा है, तो आपको अपने स्वास्थ्य को गंभीरता से लेना चाहिए। शायद यह सब तनाव और चिंता की वजह से है। कई डॉक्टरों का कहना है कि चिंता और तनाव विभिन्न बीमारियों का कारण बन सकता है। यहां हम आम आपको कुछ आम लक्षणों को के बारे में बता रहे हैं, जो दर्शाते हैं कि आपका शरीर तनाव से प्रभावित हो रहा है। 

 

त्‍वचा रोग (Skin diseases) 

तनाव के कारण सोरायसिस, मुंहासे और अन्य त्वचा रोग हो सकते हैं। वैज्ञानिकों ने छात्रों के बीच शोध किया और उन्‍होंने उच्च स्तर के मनोवैज्ञानिक तनाव और त्वचा की समस्याओं के बीच सीधा संबंधों का खुलासा किया। एक प्रयोग चूहों के साथ भी किया गया, जिसमें एक ही परिणाम दिया। वे जानवर जो तनाव से ज्‍यादा ग्रसित थे, उनमें त्वचा में संक्रमण होने की आशंका अधिक थी। 

गैस्‍ट्रोइंटेस्‍टाइनल डिसऑर्डर (Gastrointestinal disorders) 

इस बात का वैज्ञानिक प्रमाण है कि तनाव हमारी गैस्‍ट्रोइंटेस्‍टाइनल ट्रैक (जठरांत्र संबंधी मार्ग) पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। कई बार, पेट की गड़बड़ी और पेट दर्द की दवाएं मदद नहीं करती हैं। इस मामले में, एक मनोवैज्ञानिक की सलाह बहुत मददगार हो सकती है। एक डॉक्टर आपकी चिंता के कारणों को निर्धारित करेगा और आपकी मदद करने की कोशिश करेगा।

वजन में बदलाव (Changing weight) 

आप ऐसी स्थिति में हो सकते हैं जहां आप अपने वजन को आहार या शारीरिक व्यायाम के साथ स्थिर नहीं कर सकते। तनाव आपको अतिरिक्‍त पाउंड दे सकता है। जैसा कि यह पता चला है, लगातार तनावपूर्ण स्थिति हार्मोन कोर्टिसोल के उत्पादन को बढ़ाती है। यह वसा और कार्बोहाइड्रेट के चयापचय को स्थिर करता है और रक्त में शर्करा के आवश्यक स्तर का समर्थन करता है। यदि किसी व्यक्ति में बहुत अधिक हार्मोन है, तो व्यक्ति अधिक खाएगा, शरीर कम टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन करेगा, और शरीर कम कैलोरी जलाएगा। और इससे आपका वजन बढ़ेगा। कभी-कभी तनाव और चिंता के कारण लोगों का वजन कम भी हो सकता है। 

बालों का झड़ना, सिरदर्द (Loss of hair, Headaches) 

वैज्ञानिक इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि तनाव आपको आंशिक या पूरी तरह से गंजा बना सकता है। यदि आपको लगता है कि आपके बाल पहले से कम हो रहे हैं, और आपके खानपान में मौजूद पोषक तत्‍व, विटामिन कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं डालते हैं, तो तनाव एक कारण हो सकता है। इसलिए अगर आप अपने खूबसूरत बालों को रखना चाहते हैं तो नर्वस होना बंद करें। इसके अलावा तनाव आपको लगातार सिरदर्द की समस्‍या दे सकता है। 

सोने में समस्‍या (Problems with sleep) 

तनावपूर्ण स्थिति नींद के साथ गंभीर समस्याओं का एक कारण हो सकती है। यदि आप लंबे समय से भारी तनाव में है तो आपको अनिद्रा हो सकती है। यह एक बहुत ही कठिन स्थिति है क्योंकि एक व्यक्ति सामान्य तभी काम कर सकता है जब वह अच्‍छी नींद लेगा। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपनी नींद की समस्याओं का कारण खोजें और इसे जल्द से जल्द खत्म करें।

ध्‍यान में कमी (Difficulties focusing) 

जो लोग लंबे समय से तनाव में हैं, उन्हें कार्यों पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल लगता है। यदि आपको लगता है कि आप ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहे हैं तो, आपको काम से थोड़ा ब्रेक लेने और आराम करने की जरूरत है। यह नर्वसनेस तनाव के कारण होता है।

इसे भी पढ़ें: हार्ट अटैक को रोकने के लिए रोजाना करें ये 2 काम, हाई बीपी से भी मिलेगा छुटकारा

हृदय रोग (Cardiovascular diseases) 

हृदय को पूरे जीवनकाल में काफी मेहनत करनी पड़ती है। तनाव का हृदय पर बुरा प्रभाव पड़ता है। वैज्ञानिकों ने साबित किया कि लंबे वक्‍त से तनाव से ग्रसित व्‍यक्ति में हृदय रोग की समस्‍या हो सकती है। ऐसी परिस्थितियां जैसे कड़ी मेहनत या, इसके विपरीत, कोई भी काम नहीं करना, गरीबी में रहना, और परिवार में समस्याएं केवल स्थिति को बदतर बनाती हैं।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK