पानी के साथ रसोई में मौजूद इन 6 चीजों से फेफड़ों को रखा जा सकता है हेल्दी! जानें किन गुणों से मिलता है फायदा

Updated at: Aug 11, 2020
पानी के साथ रसोई में मौजूद इन 6 चीजों से फेफड़ों को रखा जा सकता है हेल्दी! जानें किन गुणों से मिलता है फायदा

शरीर के सबसे जरूरी अंगों में से एक फेफड़ों में किसी भी प्रकार की खराबी आपको परेशान कर सकती है। ऐसे रखें इनका ध्यान। 

 

Jitendra Gupta
अन्य़ बीमारियांWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Aug 11, 2020

आप लोग शायद इस  बात को कम मानें कसि आपके फेफड़े जितने स्वस्थ होंगे आपका जीवनकाल उतना ही लंबा होगा। फेफड़े आपकी श्वसन प्रणाली का केंद्र होते हैं। स्‍वस्‍थ फेफड़े ही आपको जीवन भर स्वस्थ रखने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जबकि फेफड़ों में किसी भी प्रकार की खराबी आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। इसि‍लए जरूरी है कि आप अपने फेफड़ों की उचित देखभाल कर उन्‍हें स्‍वस्‍थ रखा जाए। फेफड़े में खराबी क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD), क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस, निमोनिया, अस्थमा, टीबी, लंग्‍स कैंसर और भी बहुत गंभीर बीमारियों का कारण बन सकती हैं। इस लेख में हम आपको ऐसे फूड के बारे में बता रहे हैं, जो आपके घर की रसोई में मौजूद होते हैं और आप इनसे अपने फेफड़ों को हेल्दी रख सकते हैं। 

lungs

अखरोट 

अखरोट, ओमेगा−3 फैटी एसिड का एक मुख्य और समृद्ध स्रोत है। दिमाग के आकार के इस नट्स को सिर्फ मुट्ठी भर खाने से अस्थमा और सांस से जुड़ी अन्य बीमारियों को दूर रखने में मदद मिलती है। ये न सिर्फ आपके दिमाग को तेज करता है बल्कि आपके फेफड़ों को भी स्वस्थ बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ब्रोकोली 

ब्रोकोली की गिनती हरी सब्जियों में होती है और इनमें विटामिन सी, कैरोटीनॉयड, फोलेट और फाइटोकेमिकल्स जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। ये सभी तत्व आपके फेफड़ों में मौजूद हानिकारक तत्वों से लड़ने में मदद करते हैं। इसलिए अगर आप पहले से ही किसी फेफड़ों से संबंधित बीमारी से परेशान हैं तो आपको ब्रोकोली का सेवन जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः फेफड़ों को स्‍वस्‍थ रखना है तो करें ये 4 काम, रहेंगे आजीवन स्‍वस्‍थ

अदरक

हर भारतीय रसोईघर में पाई जाने वाली अदरक में ना सिर्फ एंटी−इंफ्लेमेटरी गुण पाए जातें हैं बल्कि इसमें शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और फेफड़ों से विषाक्त पदार्थ बाहर निकालने में भी मदद मिलती है। इसके अलावा अदरक आपके सीने में जमा बलगम को बाहर निकालने और आराम दिलाने का भी काम करता है। अदरक की चाय या काढ़ा पीने से फेफड़ों के परिसंचरण को बेहतर बनाने में मदद मिलती है। ऐसा नियमित रूप से करने पर आपके फेफड़े भी हेल्दी होते हैं।

cancer 

अलसी के बीज

फ्लैक्स सीड, जिन्हें ज्यादातर भारतीय अलसी के बीज के रूप में जानते हैं आपके फेफड़ों के लिए फायदेमंद माने जाते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, अलसी के बीज आपके फेफड़ों के ऊतकों को बचाए रखने में मदद करते हैं। इसलिए फेफड़ों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए अलसी के बीज का सेवन करना आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। 

सेब 

सब कहते हैं एक दिन में एक सेब आपकी कई बीमारियों को दूर कर सकता है। दरअसल फेफड़ों को हेल्दी बनाए रखने के लिए विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा कैरोटिन युक्त आहार का सेवन करना हमारे लिए बहुत ज्यादा जरूरी होता है। और हैरत की बात है ये कि ये सभी पोषक तत्व सेब में पाए जाते हैं। सेब में इसके अलावा एंटी−ऑक्सीडेंट्स भी होते हैं, जो फेफड़ों को स्वस्थ रखने में आपकी मदद करते हैं। 

इसे भी पढ़ेंः ये 5 हेल्दी फूड्स खाकर अपने फेफड़ों को बनाएं मजबूत और स्वस्थ, लंग्स की बीमारियां रहेंगी दूर

लहसुन 

आयुर्वेद में लहसुन को कई बीमारियों को हरने वाला बताया गया है क्योंकि इसमें मौजूद फ्लेवोनॉयड्स, हमारे शरीर में ग्लूटाथियोन के उत्पादन को उत्तेजित करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के साथ-साथ कैंसरकारी तत्वों को दबाने वाले तत्व को बढ़ाने में मदद करता है। लहसुन का नियमित सेवन आपके फेफड़ों को बेहतर तरीके से कार्य करने में मदद करता है। 

पानी 

हमारा शरीर 70 फीसदी पानी से बना होता है और इसलिए शरीर को दुरुस्त बनाए रखने में पानी से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता। पानी आपके बॉडी प्रोसेस को डिटॉक्सीफाई करने का सबसे बेहतर तरीका है। इसके अलावा अगर फेफड़े कमजोर हो गए हैं या फिर फेफड़ों में जलन और सूजन बढ़ने की संभावना है तो आप नियमित रूप से पर्याप्त पानी पीएं। खुद को हाइड्रेट रखने के लिए कम से कम 8 गिलास पानी पिएं। 

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK