• shareIcon

World First Aid Day: प्राथमिक उपचार के वक्त अक्सर लोग करते हैं ये 6 गलतियां, हो सकते हैं कई खतरे

विविध By अनुराग अनुभव , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jul 14, 2019
World First Aid Day: प्राथमिक उपचार के वक्त अक्सर लोग करते हैं ये 6 गलतियां, हो सकते हैं कई खतरे

World First Aid Day 2019: प्राथमिकता चिकित्सा (First Aid) यानी किसी दुर्घटना के बाद तुरंत दी जाने वाली चिकित्सीय सहायता। प्राथमिकता चिकित्सा के बारें में सभी को सही जानकारी होना जरूरी है, क्योंकि इससे न सिर्फ अपनी बल्कि दूसरों की भी जान बचाई जा सक

World First Aid Day 2019: दुनियाभर में सितंबर के दूसरे शनिवार को World First Aid Day यानी विश्व प्राथमिक चिकित्सा दिवस के रूप में मनाया जाता है। ये एक कैंपेन है, जो एक्सीडेंट और आपात स्थितियों में लोगों की जान बचाने के लिेए चलाया जाता है।

प्राथमिक चिकित्सा के बारे में तो आप जानते ही होंगे। फिसलने, गिरने, चोट लगने या घुटना मुड़ जाने जैसी दुर्घटनाएं कहीं भी हो सकती हैं। हालांकि ऐसी दुर्घटनाएं बहुत ही मामूली है लेकिन इनकी अनदेखी या समय पर इनका उपचार नहीं होने से यही दुर्घटनाएं गंभीर समस्याओं को पैदा कर सकती हैं। ऐसी दुर्घटनाएं होने पर सीमित साधनों में किसी का उपचार करना, प्राथमिक चिकित्सा कहलाता है। सभी के लिए इसकी जानकारी होना बहुत जरुरी होती है। जीवन में कभी-कभार अचानक दुर्घटनाएं होती रहती हैं। इनमें से कुछ उपचार हम अपने स्कूल, कॉलेज या कई बार दूसरों को देखकर सीखते हैं। लेकिन मुख्य सवाल यह है कि प्राथमिक चिकित्सा के बारे में हमारा ज्ञान कितना सही है? कई बार लोग दूसरों को प्राथमिक उपचार करते वक्त कुछ खतरनाक गलतियां कर बैठते हैं, जो गंभीर समस्याओं को पैदा कर सकती हैं। आइए जानते हैं वो कौन कौन सी गलतियां हैं जिनसे आपको बचना चाहिए:

जले पर बर्फ लगाना

अधिकतर लोग जले पार्ट पर बर्फ लगा लेते हैं लेकिन ऐसा कभी नही करना चाहिए क्योंकि इससे आपको फ्रॉस्ट बाइट हो सकता है और त्वचा को नुकसान भी पहुंच सकता है। आपको चोटिल जगह पर मक्खन या टूथपेस्ट लगाने से भी बचना चाहिए। इसके बजाय आप जले पार्ट को अच्छे से ठंडे पानी से धो लें फिर उसे सूखे और साफ कपड़े से पोछ लें। ऐसा करने से त्वचा की गर्मी निकलती है और सूजन कम होती है। जले स्थान पर बैंडेज या गॉज लगाएं। रुई का प्रयोग न करें, क्योंकि इसके रेशे घाव से चिपक कर आपको परेशान कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- विटामिन डी की कमी से कमजोर हड्डियों, कैंसर और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों का खतरा, जानें स्रोत

नाक से खून बहते समय

नाक से खून बहने के दौरान अपने सिर को पीछे की और कभी नही रखें क्योंकि इससे खून का बहना कभी बंद नही होता है, बल्कि ऐसा करने से खून आपके गले से नीचे चला जाता है और आप इसे निगल भी सकते हैं। इसे निगलने से आपको पेट में जलन और उल्टी जैसी समस्याएं हो सकती है। इसके बजाय आप आगे की ओर झुकें और नाक को चुटकी से दबाए रखें। ज्यादातर नाक से खून बहना एलर्जी या गर्मी के कारण होता है। इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें यह अपने आप ठीक हो जाएगा। अगर ऐसा करने से भी रक्त का बहाव नही रूकता है, तो तुरंत किसी डॉक्टर से मिलें। 

घायल व्यक्ति को हिलाना

अगर कोई व्यक्ति आपके सामने घायल हो जाता है, तो कभी भी उसे हिलाने-डुलाने की कोशिश न करें। अक्सर लोग घायल व्यक्ति को देखने के लिए कि वो ठीक हैं या नही उन्हें हिला-डुला देते हैं लेकिन ऐसा करने से उसे रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट लग सकती है और दिमाग पर काफी गहरा असर भी पड़ सकता है। ऐसे समय में आप घायल व्यक्ति को तुरंत अस्पताल ले जाएं, जिससे समय पर उसकी जान बच सके।

मोच या फ्रैक्चर पर गर्म चीजें डालना

टूटी हड्डी को बिना हिलाए पूरी सतर्कता से स्थिर रखने की कोशिश करें। उसके उपर गर्म चीजे कभी ना डाले क्योंकि ये सिर्फ आपको दर्द से आराम देता है, लेकिन मोच या फ्रैक्चर के इलाज में मदद नही करता है। बल्कि ऐसा करने से प्रभावित स्थान पर सूजन बढ़ने का खतरा हो सकता है। टूटे पार्ट को कपड़े या पट्टी के मदद से सीधा रखकर बांध दें और उसे ठंडे पानी या बर्फ से हमेशा भिगाते रहें। मोच के लिए भी आप यही उपाय कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- तेज गर्मी में बारिश और मौसम के बदलाव से बढ़ा मलेरिया का खतरा, जानें कैसे करें बचाव

आंख से कचरा निकलना

कचरे का एक छोटा सा कण आंखों में जलन पैदा कर सकता है। लेकिन धूल के कण को हटाने के लिए अपनी आंख को जोर से कभी ना रगड़ें क्योंकि इससे आपके आंखों को नुकसान पहुंच सकता है। ऐसी समस्याओें में अपनी आंखों को साफ और ठंडे पानी से धोयें, ये आपके लिए फासदेमंद साबित हो सकता है।

सांप के काटने पर

सांप ने काटा हो तो तुरंत साबुन के पानी से घाव धोकर एंटीसेप्टिक दवा लगाएं। रोगी को चलने से रोकें और हलचल न करने दें। काटे स्थान के दो इंच ऊपर पट्टी बांधें, जिससे शरीर के अन्य अंग में जहर न फैल पाये। उससे डर बढ़ाने वाली बात न करें, क्योकि इससे खून का बहाव तेज होगा और शरीर में जहर तेजी से फैलेगा। उसे जल्द से जल्द टिटनेस का इंजेक्शन देने की कोशिश करें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK