लैपटॉप पर ज्यादा देर समय बिताते हैं, तो आंखों को सुरक्षित रखने के लिए बिना भूलें करें ये 5 काम

Updated at: Jun 24, 2020
लैपटॉप पर ज्यादा देर समय बिताते हैं, तो आंखों को सुरक्षित रखने के लिए बिना भूलें करें ये 5 काम

लैपटॉप के सामने बैठकर देर तक करते हैं काम तो अपनी आंखों की रोशनी बचाने के लिए इन 5 बातों को आज ही अपनी आदत में शामिल कर लें, ताकि खराब न हों आंखें।

Anurag Anubhav
विविधWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 23, 2020

नया जमाना लैपटॉप और कंप्यूटर का है। पढ़ाई से लेकर इंटरटेनमेंट तक, नौकरी से लेकर टाइमपास तक आजकल ज्यादातर कामों के लिए स्क्रीन वाले गैजेट्स (Screen Gadgets) का इस्तेमाल किया जा रहा है। अगर आप काम से संबंधित किसी गैजेट का इस्तेमाल नहीं भी करते हैं, तो कम से कम घर में टीवी और मोबाइल का प्रयोग तो जरूर करते होंगे। इन सभी स्क्रीन वाले गैजेट्स से नीली रोशनी (Blue Light From Screen) निकलती है, तो आंखों के लिए नुकसानदायक होती है। जो लोग लंबे समय तक लैपटॉप के सामने बैठकर काम करते हैं, सबसे ज्यादा खतरा उनकी आंखों को है। दरअसल लैपटॉप की स्क्रीन से निकलने वाली ब्लू लाइट तो उनकी आंखों को नुकसान (Eye Strain) पहुंचाती ही है। साथ ही देर तक बिना पलक झपकाए देखते रहने से आंखों में रूखेपन की समस्या होने लगती है। आंखों के इस रूखेपन (Dry Eyes) को दूर करने के लिए, ब्लू लाइट से आंखों को बचाने के लिए और लंबे समय तक आंखों की रौशनी को बचाए रखने के लिए आपको बिना भूले आज से ही इन 5 बातों को अपनी आदत में शामिल कर लेना चाहिए, वर्ना आपकी आंखें बहुत जल्द खराब हो जाएंगी (Tips to Protect Eye sight)।

eye sight protection tips

ब्लू लाइट फिल्टर वाला चश्मा पहनकर ही काम करें

अगर आप देर तक लैपटॉप के सामने बैठने वाली जॉब में हैं, तो बिना देरी किए आपको काम के दौरान पहनने के लिए एक ब्लू लाइट फिल्टर वाला चश्मा बनवा लेना चाहिए। लगभग हजार रुपए में आपको अच्छा ब्लू लाइट फिल्टर वाला चश्मा मिल जाएगा। इस तरह के चश्मों में खास लेंस लगे होते हैं, जो नीली रौशनी को फिल्टर कर देते हैं, जिससे आपकी आंखों तक ये रौशनी सीधी नहीं पहुंचती है। इससे आप कितनी भी देर काम करें, कम से लाइट के कारण होने वाले नुकसान से आपकी आंखें बच जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: आंखों की रोशनी बचानी है तो खाएं ये 5 फूड्स, रुजुता दिवेकर ने बताया मोबाइल के कारण आंखों पर पड़ रहा है प्रभाव

ड्राईनेस को रोकने के लिए करें ये काम

अगर आपने ध्यान दिया हो तो पाएंगे कि जब आप लैपटॉप या कंप्यूटर पर काम करते हैं या मूवी देखते हैं, तो उस समय सामान्य से कम पलकें झपकाते हैं। इससे आंखों में रूखेपन की समस्या हो जाती है। इसलिए अगर आप रूखेपन की समस्या से बचना चाहते हैं, तो ध्यान रखें कि थोड़ी-थोड़ी देर में आंखों को झपकाते रहें। इसके अलावा हर 20 मिनट बाद 20 सेकेंड के लिए काम रोककर किसी दूर की वस्तु को देखें और कई बार पलकों को झपकाएं। इसे अपनी आदत में शामिल कर लेंगे, तो आपकी आंखें खराब होने से बच जाएंगी।

2 घंटे में 1 बार आंखों पर पानी के छींटे मारें

लंबे समय तक काम करने के दौरान सबसे ज्यादा बोझ आपकी आंखों और मस्तिष्क पर पड़ता है। इन दोनों को ही रेस्ट देना बहुत जरूरी है। इसलिए ये एक जरूरी सलाह है कि आप अपने काम के बीच में हर डेढ़-दो घंटे में एक बार कुर्सी से उठें, अपनी आंखों पर पानी के छींटे मारें और 5 मिनट वॉक करें। इसके बाद दोबारा सीट पर बैठकर काम शुरू कर सकते हैं। पानी के ठंडे छींटे आपकी आंखों की नाजुक मांसपेशियों में आए तनाव को कम कर देती हैं और ड्राईनेस को भी दूर कर देती हैं। इसलिए ये भी एक जरूर आदत है।

eye care tips

आंखों में दर्द हो तो गर्म हाथ से मसाज करें

अगर काम के दौरान कभी आपको बहुत थकान महसूस हो या आंखों में हल्का दर्द जैसा महसूस हो तो 2 मिनट का ब्रेक लें। अपने हाथों को सैनिटाइजर या साबुन से अच्छी तरह साफ करें और फिर गर्म हाथों से आंखों की सिकाई करें। आप चाहें तो चाय या कॉफी मग को छूकर अपने हाथों में गर्मी लेकर भी आंखों की मसाज कर सकते हैं। इस तरह की गर्म मसाज से आंखों के हिस्से में ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है, जिससे आंखों का तनाव और दर्द तुरंत ठीक हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: स्वामी रामदेव ने बताया आंखों की रोशनी बढ़ाने का ये आसान घरेलू उपाय, 4 चीजें मिलाकर खुद ही घर पर बनाएं आई ड्रॉप

आंखों की समस्याओं को नजरअंदाज न करें

अगर आपको काम के दौरान आंखों से जुड़ी कोई समस्या महसूस होती है जैसे- बीच-बीच में थोड़ी देर के लिए अंधेरा छा जाना, कुछ पलों के लिए धुंधला दिखाई देने लगना, आंखें लाल हो जाना, आंखों से लगातार पानी आना या फिर आंखों में दर्द आदि, तो आपको इसे लंबे समय तक नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। 1-2 दिन तक आप कॉमन आई ड्ऱॉप लेकर या रेस्ट करके देखें। अगर ये समस्या फिर भी न ठीक हो, तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि आपकी आंखों में होने वाली परेशानी का पता लगाया जा सके। कई बार इंफेक्शन या बीमारियों का पता सही समय पर चल जाए, तो उन्हें गंभीर होने से बचाया जा सकता है।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK