• shareIcon

    इन 5 तरीकों से रखें थायरॉइड को स्‍वस्‍थ, नहीं होंगी ये 10 बीमारियां!

    थायराइड By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 25, 2018
    इन 5 तरीकों से रखें थायरॉइड को स्‍वस्‍थ, नहीं होंगी ये 10 बीमारियां!

    थायरॉइड विकार जैसे हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव थायरॉइड ग्रंथि) और हाइपरथायरायडिज्म (अति सक्रिय थायरॉइड ग्रंथि) स्‍वप्रतिरक्षी समस्याओं, हार्मोनल असंतुलन, तनाव, पारिवारिक इतिहास और बैक्‍टीरियल इनफ्लामेशन के कारण होता है।

    दुनिया भर में हर साल 25 मई को विश्व थायरॉइड दिवस मनाया जाता है। थायरॉइड एक धनुष के आकार की ग्रंथि है जो आपकी गर्दन में स्थित होता है। जो मेटाबॉलिज्‍म, शरीर के वजन, ऊर्जा और भोजन के मेटॉबॉलिज्‍म को विनियमित करने के लिए आवश्यक हार्मोन जारी करता है। एक स्वस्थ थायरॉइड आपके शरीर के वजन और ऊर्जा के स्तर के साथ जांच में आपके मेटाबॉलिज्‍म को रखता है।

    थायरॉइड विकार जैसे हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव थायरॉइड ग्रंथि) और हाइपरथायरायडिज्म (अति सक्रिय थायरॉइड ग्रंथि) स्‍वप्रतिरक्षी समस्याओं, हार्मोनल असंतुलन, तनाव, पारिवारिक इतिहास और बैक्‍टीरियल इनफ्लामेशन के कारण होता है। हालांकि, थायरॉइड विकारों को स्‍वस्‍थ रखा जा सकता है। हाइपोथायरायडिज्म की वजह से वजन बढ़ सकता है तो वहीं दूसरी ओर एक अति सक्रिय थायरॉइड ग्रंथि वजन घटाने का भी काम करती है।

    हालांकि यह दोनों स्थितियां स्‍वास्‍थ्‍य के लिए सही नहीं है। विशेषज्ञों के मुताबिक थायरॉइड विकार काफी आम हैं जिसकी संभावना हमारे जीवन में 30% तक होती है। और इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका, स्वस्थ थायरॉइड को बनाए रखना है। आज हम आपको 5 ऐसे टिप्‍स बता रहे हैं जिसके माध्‍यम से आप अपने थायरॉइड को स्‍वस्‍थ बनाए रख सकते हैं।

    1: संतुलित आहार

    थायरॉइड को स्वस्थ बनाए रखने के लिए सबसे जरूरी है संतुलित आहार। क्‍योंकि आपकी स्‍वा-प्रतिरक्षी प्रणाली का 70% आपकी आंतों पर निर्भर होता है और इस तरह हम कह सकते हैं कि एक अस्वास्थ्यकर आहार आपके थायराइड की सामान्य कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है। आंतों में सूजन थायराइड की समस्याओं का कारण बन सकती है। इस तरह की किसी भी समस्‍या को रोकने के लिए संतुलित आहार का होना जरूरी है। रोजाना 4 से 5 प्रकार की सब्जियां और 3 से 4 तरह के फल का सेवन जरूर करना चाहिए। इसके अलावा लीन प्रोटीन के तौर पर चिकन या सॉल्‍मन का सेवन कर सकते हैं। इसके साथ हेल्‍दी ऑयल जैसे जैतून का तेल, नट बटर, एवोकाडो का सेवन करने से थायरॉइड स्‍वस्‍थ रहता है।

    2: प्रोसेस्‍ड फूड से बनाएं दूरी

    एक संतुलित आहार में प्रोसेस्‍ड फूड को शामिल नहीं किया जा सकता है। ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें चीनी, रंग, कृत्रिम स्वाद और स्वीटर्स शामिल हैं उन्‍हें आहार में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा, वसा मुक्त, चीनी मुक्त और कम वसा वाले खाद्य पदार्थों से बचा जाना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों को ज्‍यादा खाने से पेट में इंफ्लामेशन या सूजन होने की समस्‍या बढ़ सकती है, जोकि आपके थायरॉइड के लिए ठीक नहीं है।

    इसे भी पढ़ें: आपके आसपास मौजूद इन 10 चीजों के इस्तेमाल से बढ़ता है थायरॉइड रोग का खतरा

    3: मोटापे से बचें

    थायरॉइड समस्‍याओं का मुख्‍य कारक मोटापा हो सकता है। इसलिए एक स्‍वस्‍थ थायराइड के लिए मोटापे से दूर रहें। अध्ययनों से पता चलता है कि 40 बीएमआई वाले या उससे अधिक लोगों के पास थोड़ा कम थायरॉइड फ़ंक्शन होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि मोटापे के पास थायराइड की समस्याओं के साथ स्पष्ट संबंध नहीं है लेकिन यह थायराइड से संबंधित विकारों के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान कारक हो सकता है। इसलिए, आपको अपने आहार सही रखने चाहिए, जिससे वजन नियंत्रित रहे।

    4: हार्मोन का संतुलन  

    विशेषज्ञों को संदेह है कि गर्भवती और रजोनिवृत्ति महिलाएं हार्मोनल उतार-चढ़ाव के कारण थायराइड की समस्याओं से अधिक प्रभावित होती है। यह मुख्य रूप से एस्ट्रोजन उतार-चढ़ाव के कारण होता है। गर्भवती महिलाओं में एस्ट्रोजेन वृद्धि होती है और रजोनिवृत्ति महिलाओं में गिरावट देखने को मिलता है। तो आप अपनी प्रसूतीरोग विशेषज्ञ से सलाह लें और देखें कि आपका हार्मोन संतुलित है या नहीं।

    इसे भी पढ़ें: थायरॉइड ग्रंथि को खराब कर देता है हाशीमोटोज रोग, जानिए क्या हैं इसके लक्षण

    5: आयो‍डीन लेवल को करें मेनटेन

    अक्‍सर आयो‍डीन की कमी से थायरॉइड की समस्‍या उत्‍पन्‍न होती है। उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं ये समस्‍या आम है। समुद्री भोजन, क्रूसिफेरस सब्जियों जैसे आयोडीन समृद्ध खाद्य पदार्थों का सेवन करें। समुद्री नमक के बजाय आयोडीनयुक्त नमक का चयन करें। हालांकि, आपको अपने डॉक्टर से यह जांचना होगा कि आपको कितना खाना चाहिए।

    अंत में सबसे जरूरी जानकारी यह है कि, थायरॉइड को स्‍वस्‍थ रखने के लिए व्‍यायाम बहुत जरूरी है। उम्र बढ़ने के साथ आपका मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो हो जाता है। इसे सही रखने का सबसे अच्‍छा तरीका है कि आप एक्‍सरसाइज करें। इससे आपका थायरॉइड हमेशा स्‍वस्‍थ रहेगा।

    ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

    Read More Articles On Thyroid In Hindi

     
    Disclaimer:

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।