• shareIcon

डायबिटीज रोगियों को त्‍वचा संबंधी इन 5 बीमारियों का रहता है खतरा, जानें क्‍या हैं ये

डायबिटीज़ By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 25, 2019
डायबिटीज रोगियों को त्‍वचा संबंधी इन 5 बीमारियों का रहता है खतरा, जानें क्‍या हैं ये

डायबिटीज भी त्वचा को प्रभावित कर सकता है और त्वचा की कुछ समस्याओं का कारण बन सकता है। यदि आपको हाल ही में डायबिटीज होने का पता चला है, तो यहां हम आपको कुछ त्वचा की समस्याओं को बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में

डायबिटीज यानी मधुमेह एक गंभीर जीवनशैली की बीमारी है जो दुनिया भर के लाखों लोगों को प्रभावित करती है। इस समस्‍या से ग्रसित व्‍यक्ति को कई चुनौतियों से निपटना पड़ता है। उन्हें अपने आहार, ब्‍लड शुगर के स्तर, वजन और जीवन शैली के विकल्पों से बेहद सावधान रहना पड़ता है ताकि वह अपने ब्‍लड शुगर लेवल को सुनिश्चित कर सकें। ब्‍लड शुगर के लेवल में वृद्धि काफी जोखिम भरा और यहां तक कि जानलेवा भी हो सकता है। ब्‍लड शुगर के लोग हर रोज डायबिटीज के प्रभावों से निपटते हैं। 

डायबिटीज भी त्वचा को प्रभावित कर सकता है और त्वचा की कुछ समस्याओं का कारण बन सकता है। यदि आपको हाल ही में डायबिटीज होने का पता चला है, तो यहां हम आपको कुछ त्वचा की समस्याओं को बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए। इसके अलावा, यदि आपको डायबिटीज होने पर आपकी त्वचा को प्रभावित करने वाली इन समस्याओं में से कोई भी दिखाई देती है, तो आपको तुरंत जांच करानी चाहिए। 

 

सामान्‍य त्‍वचा की समस्‍या (खुजली, जीवाणु या कवक संक्रमण) 

त्वचा की कुछ सामान्य स्थितियां हैं जो आपको डायबिटीज न होने पर भी हो सकती हैं लेकिन डायबिटीज होने पर ये समस्‍या बहुत ही आसानी से आपको प्राप्‍त हो सकती है। इनमें स्टाइल्‍स और फोड़े जैसे बैक्टीरियल संक्रमण, रिंगवर्म जैसे फंगल इंफेक्शन, एथलीट फुट और खुजली भी शामिल हैं जो खराब रक्त परिसंचरण या सूखी त्वचा के कारण हो सकते हैं। 

अकन्थोसिस निगरिकन्स

यह रोग ज्‍यादातर उन लोगों को होता है जो बहुत ज्‍यादा मोटे होते हैं। यह ज्यादातर त्वचा की परतों में होता है। यह एक त्वचा की स्थिति है जहां भूरे रंग के उभरे हुए एरिया गर्दन, बगल या कमर की त्वचा पर दिखाई देते हैं। यह हाथ, पैर या कोहनी पर भी त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं। वजन कम करना स्थिति को कम करने का एक तरीका है। आप अपनी त्वचा पर इसके कारण होने वाले धब्बों को कम करने के लिए भी क्रीम का उपयोग कर सकते हैं।

डायबिटिक डर्मोपैथी 

यह एक त्वचा की स्थिति है जो डार्क, पपड़ीदार पैच की तरह दिखती है जो आकार में अंडाकार या गोलाकार होते हैं, पैरों के सामने की तरफ डायबिटिक डर्मोपैथी होती है। अक्सर लोग इसे उम्र बढ़ने के संकेत समक्ष लेते हैं, डायबिटिक डर्मोपैथी एक ही डिग्री में दोनों पैरों को प्रभावित नहीं कर सकती है। डायबिटिक डर्मोपैथी काफी हानिरहित है और उसे उपचार की आवश्यकता नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ने पर शरीर को होती है ये 2 परेशानी, जानें क्‍या है नुकसान

नेक्रोबायोसिस लिपिडिका डायबिटिकोरम

नेक्रोबायोसिस लिपोइडिका डायबिटिकोरम नामक त्वचा की स्थिति डायबिटिक डर्मोपैथी की तरह ही है। लेकिन इस स्थिति में चकत्‍ते कम, बड़े और गहरे हो सकते हैं। नेक्रोबायोसिस लिपिडिका डायबिटिकोरम दर्दनाक और खुजली वाला भी हो सकता है और डायबिटिक डर्मोपैथी के विपरीत पैच भी खुल सकता है।

इसे भी पढ़ें: क्‍या सिर्फ मीठा खाने से होती है डायबिटीज, जानें क्‍या है इसकी सच्‍चाई

डायबिटिक ब्लिस्‍टर 

डायबिटिक ब्लिस्‍टर या फफोले या बुलोसिस डायबिटिकोरम एक दुर्लभ स्थिति है जो डायबिटिक लोगों को प्रभावित करती है जहां फफोले में त्वचा फट जाती है। डायबिटीज के कारण होने वाले छाले ज्यादातर बड़े होते हैं लेकिन उनमें दर्द या लालिमा या सूजन नहीं होती है। वे ज्यादातर हानिरहित हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK