गुस्सैल पार्टनर के साथ कैसे निभाएं रिश्ता? जानें क्या करें जब आपके पार्टनर को बहुत ज्यादा गुस्सा आता हो

Updated at: Jun 29, 2020
गुस्सैल पार्टनर के साथ कैसे निभाएं रिश्ता? जानें क्या करें जब आपके पार्टनर को बहुत ज्यादा गुस्सा आता हो

अगर आपके पार्टनर को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है या गुस्से में वो अपना कंट्रोल खो देते हैं, तो ये 5 टिप्स आपको उनके साथ रिश्ता निभाने में मदद करेंगी।

Anurag Anubhav
मैरिजWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 29, 2020

गुस्सा हर इंसान को आता है। कुछ लोग गुस्से को कंट्रोल करना जानते हैं इसलिए अपना आपा नहीं खोते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो जरा सा गुस्सा आते ही भड़क जाते हैं और बात का बतंगड़ बना देते हैं। खासकर शादी के बाद पति या पत्नी में से कोई एक अगर ज्यादा गुस्सैल हो, तो बहुत सारी मुश्किलें आती हैं। कई बार गुस्से के कारण अनबन इतनी बढ़ जाती है कि रिश्ता कमजोर होने लगता है। अब इतनी छोटी सी बात के लिए आप अपना लाइफ पार्टनर तो नहीं बदल सकते। इसलिए हम आपको बता रहे हैं 5 ऐसी टिप्स, जिनकी मदद से गुस्सैल पार्टनर के साथ निभाना आपके लिए आसान हो जाएगा। इससे आपको उनके गुस्से से निपटने में भी मदद मिलेगी और धीरे-धीरे उनका गुस्सा भी कम होने लगेगा।

fight with partner

गुस्से की वजह तलाशें

पति-पत्नी या प्रेमी-प्रेमिका के बीज जब भी कोई एक गुस्सा हो, तो दूसरे को सबसे पहले इस बात का कारण पता लगाना चाहिए कि वो क्यों गुस्सा है। अगर आप लंबे समय से साथ हैं और रिश्ता पुराना है, तो संभव है आपको कुछ खास बातें पता भी हों, जिनसे आपके पार्टनर को गुस्सा आता है। पार्टनर के गुस्सा होने पर इसके कारण का पता लगाना इसलिए जरूरी है, ताकि आप उस वजह को समाप्त कर सकें या अपनी सफाई दे सकें। जब आपके सामने गुस्से का कारण स्पष्ट हो जाए, तो पार्टनर से बात करने की कोशिश करें और उनके सामने अपनी बात रखें।

इसे भी पढ़ें: पार्टनर पर चिल्लाने या ऊंची आवाज में बोलने से रिश्ते पर पड़ते हैं ये 5 निगेटिव प्रभाव, जानें क्यों बुरी है आदत

गुस्से में पार्टनर जो बोले उसे सुनें, लेकिन दिल पर न लें

जब आप लंबे रिश्ते में बंधते हैं, तो आपको ऐसी वजहें खुद ही खत्म करते हुए चलना चाहिए, जिनसे आपका रिश्ता टूट सकता है। इसलिए अगर आपके पति या पत्नी को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है और वो गुस्से में आपको या आपके परिवार, नौकरी, काम को कुछ कहते हैं, तो उन्हें चुपचाप सुन लें। आपको उस समय पटलकर जवाब देने या रिएक्ट करने की जरूरत नहीं है। जब गुस्सा शांत हो जाएगा, तब आप उन्हें इस बारे में समझा सकते हैं। कई बार आपके तुरंत जवाब देने से उनका गुस्सा बढ़ जाता है और वो आपकी बातों का गलत मतलब भी निकाल सकते हैं। इसलिए दिमाग शांत होने के बाद ही बात करें।

अपना व्यवहार चेक करें

जरूरी नहीं है कि आपके पार्टनर को हमेशा गलत कारणों से ही गुस्सा आए। इसलिए यह भी संभव है कि आप ही गलत हों या आपने ही कुछ ऐसा किया हो, जिससे उन्हें गुस्सा आया हो। इसलिए अपने व्यवहार को भी परखें। अगर आपकी कोई ऐसी आदत या लत है, जिस पर आपके पार्टनर अक्सर गुस्सा करते हैं, तो उसे छोड़ देना ही ज्यादा बेहतर है। अगर वो आदत छोड़ने लायक नहीं है, तो आप अपने पार्टनर से इस बारे में साफ-साफ शांत मन से बात कर सकते हैं। ध्यान रखें कि जो चीजें आपके पार्टनर में खीझ पैदा करती हैं, उन्हें बार-बार दोहराने से आपका रिश्ता ही खराब होता है।

angry partner

अगर गलती आपकी है तो मान लें

अपने आपको  चेक करने के बाद अगर लगता है कि गलती आप की ही है, तो माफी मांगने में संकोच न करें। माफी मांगना तुरंत भले उनके गुस्से को न शांत कर पाए, लेकिन बाद में उन्हें एहसास दिला सकता है कि आपसे गलती हुई और आपको इस बात का अफसोस है। मगर माफी मांगने का यह अर्थ बिल्कुल नहीं है कि आप दोबारा फिर वही गलती करें। इसलिए पार्टनर से माफी मांगने के बाद उस गलती को दोबारा न दोहराने की कसम ले लें।

इसे भी पढ़ें: पार्टनर को इमोशनल रूप से अपने ज्यादा करीब लाने के लिए अपनाएं ये 5 रिलेशनशिप टिप्स

पार्टनर को शांत होने क समय दें

गुस्से में कई बार सही-गलत का अंदाजा नहीं रहता है, न ही जुबान पर आई हुई बातें दिल से निकली होती हैं और न ही उनका वास्तविकता से कोई सरोकार होता है। इसलिए गुस्से में अगर आपके पार्टनर आपको कुछ कहते हैं, तो उन्हें शांत होने का समय दें। बीच में बोलने, टोकने, बात को सही करने, इल्जाम लगाने, पटलकर उनकी गल्ती गिनाने से बात और बिगड़ती जाती है। इसलिए पार्टनर को समय दें कि उनका गुस्सा शांत हो, ताकि आप सामने बिठाकर प्यार से उनसे उनकी परेशानी पूछ सकें।

Read More Articles on Marriage in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK