Happy Mother's Day 2020: दादी-नानी बनना सेहत के लिए फायदेमंद, विज्ञान ने भी माना कई बीमारियों से होता है बचाव

Updated at: May 08, 2020
Happy Mother's Day 2020: दादी-नानी बनना सेहत के लिए फायदेमंद, विज्ञान ने भी माना कई बीमारियों से होता है बचाव

मां बनना और इससे बाद दादी और नानी बनने तक का सफर, एक स्त्री को सकारात्मक स्वास्थ्य लाभों की पूरी श्रृंखला प्रदान करता है।

Pallavi Kumari
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Pallavi KumariPublished at: Mar 06, 2020

एक महिला अपने जीवन में कई किरदारों को निभाती है जैसे एक बेटी, बहन, पत्नी, मां और नानी या दादी का। हर किरदार होने की अपनी जिम्मेदारियां हैं और खूबसूरती भी। पर एक औरत के जीवन शायद जो सबसे आखिरी किरदार है वो है अपने बच्चों के, बच्चों की 'दादी' या 'नानी' बनना। इस किरदार के बारे में लोग ज्यादा बात नहीं करते लेकिन सच मानिए दादा-दादी होना जीवन का एक अलग ही खूबसूरत अहसाह है। हर महिला का सबसे बड़ा इनाम अपने नाती-पोते की मुस्कान देखना है। ये पल सिर्फ आम महिलाओं के लिए ही खास नहीं होता है, बल्कि हेमा मालिनी और रवीना टंडन जैसी बॉलीवुड अभिनेत्रियों के लिए भी खास रहा। रवीना बीते दिनों ही नानी बनी हैं।दरअसल रवीना की छोटी बेटी छाया ने हाल ही में बेटे को जन्म दिया और ऐसे में पोते के आने से रवीना की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। उन्होंने अपने इंस्टा पर अपने पोते की खूब फोटो पोस्ट की। इससे पता चलता है नानी या दादी होना सच में एक बड़ी खुशी है। वहीं दादी और नानी होने के कई फायदे हैं, जिनमें सबसे बड़े फायदे आपके स्वास्थ्य से जुड़े हुए हैं। आइए जानते हैं नानी और दादी बनने के स्वास्थ्य लाभ।

insidegrandchild

महिलाओं स्वास्थ्य के लिए कैसे अच्छा है आपका दादी और नानी बनना?

ग्रैंड चाइल्ड का प्यार किसी दवा से कम नहीं

आज के जीवन में जहां हम छोटे-छोटे परिवारों में रहते हैं, वहां अगर आप अपने पोते-पोतियों के बीच रह रहीं हैं, तो आप ज्यादा खुष रहेंगी। अपने अकेलेपन से दूर अपने बच्चों के बच्चों को बड़े होते हुए देखना आपको खुश कर देगा। वहीं उनका प्यार चाहे आप एक नवजात ग्रैंड चाइल्ड हों या अपने किशोर उनका आपको गले लगाना आपको कई बीमारियों से दूर रख सकता है। स्नेह के इन छोटे क्षणों से आपको कई लाभ मिल सकते हैं जैसे

  • -स्ट्रेस नहीं होगा।
  • -ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहेगा।
  • -उनके खेल आपके संतुलन को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।
  • -ग्रैंडकिड्स आपको एक्टिव रखने में मदद करते हैं।
insidehemamalini

इसे भी पढ़ें : विज्ञान भी मानता है बच्चे के बेहतर विकास के लिए जरूरी हैं दादा-दादी, जानें 5 कारण

बाहर खेलने के बहाने आपको भी विटामिन-D की भरपूर मात्रा मिलेगी

बच्चे बहुत जिद्दी होते हैं और उनके बाहर खेलने की जिद्द को आप कभी भी मना नहीं कर पाएंगे। ऐसे में आप उनके लिए घर से बाहर जाएंगी और इस धूप लेने से स्वाभाविक रूप से आपका विटामिन डी के स्तर को बढ़ेगा। इससे आपके हड्डी के स्वास्थ्य में सुधार से लेकर आपके मूड ठीक रखने में भी आपको मदद मिलेगी। पोते को पालना शक्ति प्रशिक्षण का सबसे आसान तरीका है। इस तरह के वर्कआउट से आप लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं, जो आपके जीवन प्रत्याशा में लगभग 2 साल जोड़ देता है।

insideraveenatandon

आप दानों की बॉन्डिंग हृदय रोग से आपको बचाए रखेगा 

अपने दादा-दादी के साथ पार्क में या आस-पास के आस-पास टहलना दिल की बीमारी और मधुमेह को रोकने में मदद करने के लिए एक पसीना बहाने का रास्ता हो सकता है। यहां तक कि जिस तरह से आपके ग्रैंड चाइल्ड आपके चारों ओर प्रकाश डालते हैं, उसके बारे में सोचकर आप मन के सकारात्मक दायरे में आ जाते हैं। ऐसे सकारात्मक क्षणों को आकर्षित करने के लिए "भावनात्मक जीवन शक्ति" मिलती है, जो एक ऐसा गुण है, जो हृदय रोग और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने में मदद करता है।

Watch Video : पेरेंट्स और बच्चों का रिश्ता 

पोते की देखभाल करना अल्जाइमर के खतरे को कम करता है

2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि एक सप्ताह में एक दिन बच्चे की देखभाल में मदद करने वाली दादी-नानी को अल्जाइमर विकसित होने का खतरा कम होता है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि जिम्मेदारियों के कारण उनका दिमाग हमेशा काम करता रहता है और जिस तरह वो अपने पोते-पोती को चाहती हैं, उस निस्वार्थ केयर में चीजों को जरूरत से ज्यादा याद रखती हैं ताकि बच्चों के ख्याल रखने में वो कुछ कमी न कर जाएं।

insidegrandchildrens

इसे भी पढ़ें: Parenting Tips: पेरेंट्स और बच्‍चे के रिश्‍तों को प्रभावित करती है 'कोडिपेंडेंट पेरेंटिंग', जाने क्‍या है ये और इसके संकेत

सामाजिक रूप से व्यस्त रखते हैं और डिमेंशिया से बचे रहते हैं

चाहे आप अपने पोते के साथ घूम रहे हों या सोशल मीडिया पर जुड़ रहे हों या इंस्टा पर लगे हुए हों, ये सभी उम्र बढ़ने के साथ डिमेंशिया के लक्षणों को कम कर सकता है।अपने ज्ञान को साझा करने से चिंता कम हो जाती है। अतीत से कहानियों को साझा करना एक शानदार तरीका है, जो आपके पोतों को सिखाता है कि आप किस तरह से बढ़े हैं। लेकिन इन कहानियों को बताने से चिंता और अवसाद को कम करने का भी तरीका माना गया है।

Read more articles on Women's in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK